लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार विश्वदीप घोष का हार्ट अटैक से निधन

दुःखद ख़बर लखनऊ से आ रही है।

वरिष्ठ पत्रकार विश्वदीप घोष का हार्ट अटैक से मेदांता लखनऊ में निधन हो गया है।

विश्वदीप कई बड़े अंग्रेज़ी अख़बारों में लम्बे समय तक वरिष्ठ पदों पर कार्यरत रहे।

उन्हें प्यार से लोग ‘दादा’ कह कर पुकारते रहे हैं।

वरिष्ठ पत्रकार नवेद शिकोह की टिप्पणी पढ़ें-

क्राइम रिपोर्टिंग के सुपर किंग विश्वजीत दादा हारे ज़िन्दगी की बाज़ी… लखनऊ के सभी प्रतिष्ठित अंग्रेजी अख़बारों में क्राइम रिपोर्टिंग की लम्बी पारी खेलने वाले दिग्गज पत्रकार विश्वजीत घोष का निधन हो गया…

वो कल तक अपने कार्यालय पायनियर आए थे, आज हार्ट अटैक पड़ा जिसके बाद उन्हें मेदांता अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में उन्हें मृत घोषित कर दिया। लखनऊ के स्थापित अंग्रेजी ब्रॉन्ड अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया, द पायनियर और हिन्दुस्तान टाइम्स में क़रीब तीन दशक से अधिक अर्से तक उन्होंने पत्रकारिता की शानदार पारी खेली। तीन दशक पहले पायनियर की शोहरत और विश्वजीत घोष जी का कैरियर शबाब पर था, इत्तेफाक कि मरहूम के करियर और जीवन का अंत भी पायनियर में हुआ। उनका सौभाग्य रहा कि ज़िन्दगी के आखिरी दिन तक वो वर्किंग रहे, मौत के एक दिन पहले कार्यालय आए।

टाइम्स ऑफ इंडिया के अलावा हिन्दुस्तान टाइम्स में उन्होंने लम्बी पारी खेली। उन्हें क्रांइम रिपोर्टिंग का सुपर किंग कहा जाता था। उनकी पत्रकारिता के तरकश में सोर्सेज (सूत्रों) का ख़ज़ाना रहता था। नई पीढ़ी को रिपोर्टिंग के गुर सिखाने में भी वो आगे रहते थे। एक ज़माना था जब उत्साही युवकों की एक टीम उनके साथ रहती थी। जब वो हिन्दुस्तान टाइम्स में थे तब एक मामले से अंग्रेजी पत्रकारिता में क्राइम रिपोर्टिंग के इस रौशन चांद में ग्रहण सा लग गया था।

लेकिन वो हारे नहीं, हतोत्साहित नहीं हुए। तीन दशक से अधिक समय तक निरंतर पत्रकारिता के पेशे में डटे रहे,पर ज़िन्दगी की बैटिंग के दौरान मौत के शाश्र्वत सत्य ने उन्हें आउट कर दिया।

काश हर पत्रकार को आपकी जैसी मौत नसीब हो। ज़िन्दगी की सांसों के साथ ही क़लम थमें।
अलविदा विश्वजीत दादा

  • नवेद शिकोह



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



One comment on “लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार विश्वदीप घोष का हार्ट अटैक से निधन”

  • विजय सिंह says:

    बहुत दुःखद। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें और परिजनों को दुःख सहने की शक्ति।

    Reply

Leave a Reply to विजय सिंह Cancel reply

Your email address will not be published.

*

code