क्या दैनिक भास्कर ने मजीठिया वेज बोर्ड मामलों में गलत तथ्यों के आधार गणना चार्ट तैयार किया?

श्री सुधीर अग्रवाल जी, श्री गिरीश अग्रवाल जी, श्री पवन अग्रवाल जी,

आपके परम काबिल अधिकारियों मानव संसाधन विभाग से श्री रवि गुप्ता एवं विधि विभाग से श्री सचिन गुप्ता द्वारा तत्कालीन लीगल टीम के मना करने के बावजूद मजीठिया वेज बोर्ड के अनुसार वेतन भत्तों की रिकवरी से सम्बंधित मामलों में दैनिक भास्कर संस्थान की तरफ से बिना किसी आधार के गलत तथ्यों के आधार पर बनाये गए गणना चार्ट को, जो कि जयपुर समेत विभिन्न राज्यों के श्रम न्यायालयों में मजीठिया वेज बोर्ड की रिकवरी से सम्बंधित मामलो में दाखिल किये गए थे, के लिए आपको जानकारी देनी है।

कि, जयपुर श्रम न्यायालय 1 द्वारा कर्मचारियों के द्वारा दाखिल 33 सी (2) के 21 मामलों में निलंबन की तारीख से बकाया वेतन भत्तों (back wages) की आदायगी, दैनिक भास्कर संस्थान के द्वारा कर्मचारियों के मजीठिया वेज बोर्ड की रिकवरी से सम्बंधित मामलो में दाखिल, दैनिक भास्कर की तरफ से बिना किसी आधार के गलत तथ्यों के आधार पर बनाये गए गड़ना चार्ट के आधार पर 3 महीने में करने का आदेश दिया है। (आदेश का प्रस्तर 17 देखें)

कि, 3 महीने बाद बकाया राशि पर 12 प्रतिशत का ब्याज भी देना होगा। (आदेश का प्रस्तर 19 देखें)

कि, बकाया राशि लगभग 1 करोड़ 50 लाख रूपये है।

कि, इसके साथ ही यह भी सिद्ध हो गया की गड़ना चार्ट के अनुसार दैनिक भास्कर की तरफ से जो राशि देना बताया है वो कर्मचारियों को कभी दी ही नहीं गई थी। ऐसे में समस्त राज्यों के श्रम न्यायालयों में दैनिक भास्कर की तरफ से दाखिल (बिना किसी आधार के गलत तथ्यों के आधार पर बनाये गए गड़ना चार्ट) स्वतः ही निरस्त समझे जायेंगे।

आदेश की प्रति आपकी जानकारी हेतु ईमेल में संलग्न है।

सादर

जितेन्द्र कुमार सिंह

पूर्व कर्मचारी, दैनिक भास्कर

singhjk1977@gmail.com



 

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक करें- BWG-1

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



One comment on “क्या दैनिक भास्कर ने मजीठिया वेज बोर्ड मामलों में गलत तथ्यों के आधार गणना चार्ट तैयार किया?”

  • raghav chetan says:

    Bhaskar is not doing this only rajasthan patrika also doing even partika has issued the letter to all employes stating that you have been promotied this post and reduced the salary so both media house are behaving like this. chief Editor of Rajasthan Patrika Dr.Gulab Kothari who are daily preaching in daily articel that he is one of intelegent person of this universe have lot of knowledge but in fact all is publising in there paper is written by the team. Infact he is one of begest currept person. Patrka made the change in their records and for keeping safe for not giving the wage borad. patrika has hired one artist for preparing the signature of all the employes and start filling the letter in their personal files that employes are satisfied and they have no demad of wages. this fraud game is playinng the rajasthan patrika from last 14-15 years. patrika management had passed the order to all branched for sending the persaonal file head office so that they can put any letter without bringing into the knowledge of employes.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code