इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों ने अपनी चैनल की आईडी अफ़सर को सौंपते हुए कहा- ‘पत्रकारिता करना बहुत दुष्कर हो गया है!’

शाहजहांपुर। जनपद बलिया में नकल माफियाओं की पोल खोलने वाले पत्रकारों को गिरफ्तार कर जेल भेजने के प्रकरण में आज ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन की ओर से पैदल मार्च कर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया इस दौरान जिलेभर से आए सैकड़ों पत्रकारों ने जिलाधकारी उमेश प्रताप सिंह तथा पुलिस अधीक्षक नगर संजय कुमार को पेन भी भेंट किए। उधर

दरअसल आज ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के बैनर तले सभी पत्रकार बंधु एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए पत्रकारों के बीच में उपजा मनमुटाव को भी भुलाते हुए गांधी भवन में इकट्ठे हुए वहां से पैदल मार्च करते हुए थाना सदर बाजार खेलनी बाग चौराहा होते हुए कलेक्ट्रेट पहुंचे और वहां प्रदर्शन किया। इस दौरान अपर जिलाधिकारी प्रशासन रामसेवक द्विवेदी ने पत्रकारों के पास आकर ज्ञापन प्राप्त किया और पत्रकारों को आश्वासन दिया कि अब शाहजहांपुर जिले में पत्रकारों पर कोई मुकदमा दर्ज होने से पहले उनकी जांच कराई जाएगी।

इस दौरान जिला अध्यक्ष राजीव शर्मा ने कहा के उच्च अधिकारियों के ऐसे निर्देश है के पत्रकारों पर मुकदमा दर्ज होने से पहले एक राजपत्रित अधिकारी से मामले की जांच कराई जाए परंतु नहीं कराई जा रही है अब शाहजहांपुर में भी एक ऐसी कमेटी का गठन किया जाएगा जिसमें 5 से लेकर 7 सदस्य शामिल होंगे जो पत्रकारों के मामले में अपनी जांच करके रिपोर्ट प्रशासन को देंगे और प्रशासन का अधिकारी भी अपनी जांच करेगा इसके बाद दोनों रिपोर्टों की जांच करने के बाद ही कोई कार्रवाई अमल में लाई जाएगी जिस पर पुलिस अधीक्षक नगर संजय कुमार ने आश्वासन दिया कि अब आगे से ऐसा ही होगा।

वरिष्ठ पत्रकार शिवकमार ने कहा कि अब पूरे प्रदेश में आती हो गई है पत्रकारों की कलम को कुचला जा रहा है पत्रकार अगर किसी घटना को उजागर करता है तो उसके विरुद्ध प्रशासन की ओर से मुकदमा दर्ज करा दिया जाता है यह बहुत ही निंदनीय है बलिया में हुई घटना से पत्रकारों को सीख लेनी चाहिए और पूरे प्रदेश के पत्रकारों को चाहिए कि वह इकट्ठे हो और प्रशासन के द्वारा पत्रकारों पर जो मुकदमा लिखा है जा रहे हैं उनका डटकर विरोध करें।

वरिष्ठ पत्रकार जरीफ मलिक आनंद ने सभी पत्रकारों को आवाहन किया कि अभी भी समय है सभी लोग इकट्ठे हो जाएं अन्यथा एक-एक करके पत्रकारों को बलिया की तरह मोहरा बनाया जाता रहेगा। ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन द्वारा दिए गए ज्ञापन में कहा गया है के बलिया में नकल माफियाओं के कृत्य की व्यापक जांच एवं पेपर लीक का खुलासा करने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई के साथ पत्रकार अजीत ओझा दिग्विजय सिंह मनोज गुप्ता के विरुद्ध दर्ज मुकदमा तत्काल वापस लिया जाए।

बलिया जनपद के जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक व अन्य अधिकारियों की भूमिका की न्यायिक जांच कराई जाए तथा प्रदेश में पत्रकार उत्पीड़न की घटनाओं पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाए इसके अलावा विभिन्न समाचार पत्रों चैनलों मीडिया संस्थानों में कार्यरत पत्रकारों को शासन स्तर से सूचीबद्ध किया जाए।

उत्तर प्रदेश में किसी भी पत्रकार को किसी प्रकरण में कथित रूप से संलिप्त पाए जाने की दशा में तब तक गिरफ्तारी न की जाए जब तक पुलिस विभाग के एक राजपत्रित अधिकारी स्तर से इसकी जांच पूरी न करा ली जाए और वरिष्ठ पत्रकारों के संज्ञान में लाए बिना कोई कार्यवाही ना की जाए। इस दौरान पूरे जनपद से आए पत्रकारों को वरिष्ठ पत्रकार दीप श्रीवास्तव संजीव गुप्ता सरदार शर्मा प्रेम शंकर गंगवार मास्टर हामिद फरीदी आरिफ सिद्दीकी सहित अन्य पत्रकारों ने भी संबोधित किया और प्रशासन को चेतावनी भी दी कि अब शाहजहांपुर में ऐसा नहीं चल पाएगा कि जब चाहे तब पत्रकारों पर मुकदमा दर्ज कर दिया जाए।

ज्ञापन देने वालों में अमित सक्सेना, गोविंद अवस्थी शिवम दिक्षित योगेश बाजपेई विवेक वर्मा इमरान खान नंदलाल अंकित जोहर अभिनव मिश्रा शुभम श्रीवास्तव सलीम खान गोपाल गुप्ता मुबारक अली श्रद्धा शर्मा कुलदीप दीपक फैजान खान अफरोज अली आरिफ सिद्दीकी, कुँवर सिंह, हरीश वर्मा मोहम्मद अफाक रामानुज गुप्ता, राजू यादव, विवेक शर्मा, संदीप शर्मा कुलदीप सिंह पंकज दीक्षित पंडित विमलेश नीरज कुमार रिंकू रमाशंकर दीक्षित रामानुज आनंद उमाकांत श्रीवास्तव हरिहरनाथ मिश्रा सुशील तिवारी तारे शर्मा राजीव मिश्रा उमेश कुमार शर्मा अजीत मिश्रा अनुभव गुप्ता सूरत सहाय राजू यादव अमित अमित सक्सेना संजय श्रीवास्तव शिशांत शुक्ला रामविलास बलजीत दीप श्रीवास्तव रोहित यादव पंडित आनंद शर्मा मोहम्मद शईद इमरान सागर गौरी शंकर मिश्रा राजा शर्मा सलीम खान तबस्सुम खान समेत ग्रामीण क्षेत्र से आए सैकड़ों की तादाद में पत्रकार मौजूद रहे।



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code