राहत का सोमवार : odd-even फॉर्मूले ने तौबा करवा दी

Sarjana Sharama : इस बार सोमवार राहत का सोमवार होगा। ऑटो या टैक्सी खोजने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाने के श्री अरंविंद केजरीवाल के odd-even फॉर्मूले ने तौबा करवा दी। इतनी भीषण गरमी में लोग तपती धूप में 20-20 मिनट ऑटो का इंतज़ार करते रहे। रेडियो टैक्सी के अपने नखरे हैं। अभी इस रूट पर कोई टैक्सी नहीं मिल सकती। दो घंटे से पहले नहीं आ सकते आदि आदि।

अब कौन समझाए दिल्ली के मुख्यमंत्री को कि आधी दिल्ली को घरों पर नज़रबंद करके या कहें तो बंधक बना कर वो कौनसी समझदारी कर रहे हैं। पूरे परिवार को उन्होनें टुकड़ों में बांट दिया। पति पत्नी के साथ नहीं जा सकता। मां बेटे के साथ नहीं जा सकती। कोई बीमार है या अस्पताल जाना है तो खाओ धक्के। दो हजार रूपए का जुर्माना लगा कर तो उनका फार्मूला सफल होगा ही। और कोई इनसे पूछे कि इनके पास विज्ञापन के लिए इतना पैसा आया कहां से अखबारों में। रेडियो पर, टीवी में देख देख कर और सुन सुन कर कान पक गए। अपने मुंह मियां मिट्ठू बनते रहे और लोग धूप में जलते रहे।

इस बीच तीन बड़े त्यौहार आए- श्री रामनवमी, श्री महावीर जयंती और श्री हनुमान जयंती। लोग मन मसोस कर अपने घरों में बैठे रहे। मंदिर भजन कीर्तन का आनंद नहीं ले पाए। छुट्टी होने के बावजूद परिवारों को घर पर बंधक बन कर रहना पड़ा। ये कहां का तुक है आप किसी की धार्मिक आजा़दी पर भी पहरे बिठा दो। हो सकता है केजरीवाल जी और उनका मंत्रिमंडल नास्तिक हो लेकिन सनातन धर्म और जैन धर्म को मानने वालों पर वो अपनी तुगलकी जिद कैसे थोप सकते हैं। महिलाओं में वो खासे अलोकप्रिय हो रहे हैं। अपने परिवार को दुखी देख कर सबसे ज्यादा तकलीफ महिलाओं को ही होती है। कईं लोगों ने बताया कि धूप में उनका BP बढ़ गया, लू लग गयी। जब पति और बच्चों को तकलीफ हो तो महिलाएं कतई बरदाशत नहीं कर पाती केजरीवाल जी कोई औऱ तरीका निकालिए दिल्ली वालों को जबरन बंधक ना बनाएं आप।

वरिष्ठ पत्रकार सर्जना शर्मा के उपरोक्त एफबी स्टेटस पर आए कुछ कमेंट्स यूं हैं…

Rashmi Kant Kanji : Sarjanaji I am very sad no word for such a stupidity of our Netas. Instead of working good for their fellow citizen putting ban on liquor in Bihar, Keral after seen Gujarat is failed model. Same no city can afford to have od/even if you don’t provide public transport unless they do both improve the existing roads and improve public transport and automatically thing will improve…

Sarjana Sharama : अजीब जबरदस्ती है दिल्ली सरकार की लोगों को बंधक बना कर घर पर बिठा दिया । मध्यम वर्ग कितना भी परेशान हो उन्हें क्या उनका वोट बैंक तो चांदी काटता है।

Namita Gandhi : I agree Sarjana Ji . Crores spent on ads could have been used for tree plantation to find permanent solution to pollution.

Aditya Sengar : Why don’t we start Odd Even in Politics Ek din Kejriwal CM ek din Kiran bedi wink emoticon

Sabina Kadam : Arvind Kejriwal found the odd even scheme launched by Arvind Kejriwal successful in a survey conducted by Arvind Kejriwal and responded to by Arvind Kejriwal. Arvind Kejriwal has thanked Arvind Kejriwal over the success of the scheme and has requested Arvind Kejriwal to make the scheme permanent. 🙂

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *