लाकडाउन में वेतन न देने वाली इस मीडिया कंपनी की हुई फजीहत, तत्काल सेलरी देने के निर्देश

मुंबई के श्री अंबिका प्रिंटर्स एंड पब्लिकेशंस को अब अपने कर्मचारियों का बकाया वेतन देना होगा

मुंबई : पांच-पांच दैनिक समाचार पत्रों का प्रकाशन करने वाली मुंबई की श्री अंबिका प्रिंटर्स एंड पब्लिकेशंस को महाराष्ट्र के कामगार विभाग ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि वह अपने सभी कर्मचारियों का अप्रैल और मई, 2020 के पूरे वेतन का भुगतान करे। यह निर्देश नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट (महाराष्ट्र) की अध्यक्ष शीतल करदेकर की पहल पर दिया गया है।

सुश्री करदेकर ने कामगार आयुक्त कार्यालय में शिकायत की थी कि मुंबई की ‘श्री अंबिका प्रिंटर्स एंड पब्लिकेशंस’ ने अपने कर्मचारियों को लॉक डाउन में वेतन देना बंद कर दिया है और कर्मचारियों को मात्र से आठ हजार रुपए एडवांस दिया जा रहा है।

इस शिकायत के बाद कामगार आयुक्त कार्यालय (महाराष्ट्र) के सहायक कामगार आयुक्त (मुंबई शहर) ने ‘श्री अंबिका प्रिंटर्स एंड पब्लिकेशंस’ को पत्र भेजकर केंद्र और राज्य सरकार के लॉक डाउन में वेतन देने संबंधित निर्देश का हवाला देते हुए स्पष्ट निर्देश दिया कि ‘श्री अंबिका प्रिंटर्स एंड पब्लिकेशंस’ अपने सभी कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से अप्रैल और मई, 2020 का पूरा वेतन देते हुए इसकी रिपोर्ट मेल के जरिये सहायक कामगार आयुक्त कार्यालय (मुंबई शहर) को अविलंब भेजा जाए।

आपको बता दूं कि ‘श्री अंबिका प्रिंटर्स एंड पब्लिकेशंस’ लोकप्रिय हिंदी ‘दैनिक यशोभूमि’ के साथ-साथ तीन मराठी दैनिक (पुण्य नगरी, वार्ताहार, मुंबई चौफेर) के साथ ही कन्नड़ दैनिक (कर्नाटक मल्ला) का भी प्रकाशन करता है। ‘एनयूजे’ (महाराष्ट्र) की इस पहल का पत्रकारों ने स्वागत किया है!

धर्मेन्द्र प्रताप सिंह
मुंबई
मोबाइल: 9920371264
ई-मेल: dpsingh@journalist.com

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *