प्रत्येक न्यूज वेबसाइट संचालक की कुंडली मोदी सरकार को चाहिए, आदेश जारी, भड़ास को भी आया मेल

न्यूज वेबसाइट संचालन करने वालों के पास सरकारी फरमान पहुंचने लगा है. भड़ास के पास भी आया है. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में एक डिजिटल मीडिया डिवीजन बन चुका है. इसी डिवीजन की तरफ से असिस्टेंट डायरेक्टर क्षितिज अग्रवाल का ग्रुप मेल आया है. मेल पाने वालों में भड़ास भी है.

क्षितिज अग्रवाल ने आईटी एक्ट 2021 के रुल 18 के तहत डिजिटल मीडिया पब्लिशर्स से जानकारी मांगी है. डिजिटल मीडिया पब्लिशर्स को तीन कैटगरी में बांटा गया है.

एक वो जो अखबार-न्यूज चैनल भी चलाते हैं, और न्यूज वेबसाइट का भी संचालन करते हैं.

दूसरे वो जो सिर्फ न्यूज वेबसाइट चलाते हैं.

तीसरे वो जिनका ओटीटी प्लेटफार्म है.

नीचे पूरा मेल देखें. सिर्फ न्यूज वेबसाइट संचालन करने वालों को जो फार्म भरकर भेजना है, उसे भी देखें-

F. No. A-50013/31/2021-DM

Government of India

Ministry of Information & Broadcasting

Digital Media Division

Shastri Bhawan, New Delhi

Dated: 26 May, 2021

PUBLIC NOTICE

Subject: Furnishing of information by digital media publishers under Rule 18 of the Information Technology (Intermediary Guidelines and Digital Media Ethics Codes) Rules, 2021

Attention is invited to the Information Technology (Intermediary Guidelines and Digital Media Ethics Codes) Rules, 2021, notified by the Government of India on 25th February, 2021.

  1. Since the notification of the aforementioned rules, the Hon’ble Minister of Information & Broadcasting has held interactions with the publishers of online curated content, as well as the publishers of news on digital media. The Ministry has also established communication with many digital media publishers, and their associations, regarding the rules and their compliance requirements. A total of around 60 publishers, and their associations, have also informed the Ministry that they have already initiated the process of formation of self-regulatory bodies under the rules. Some publishers have also written to the Ministry regarding registration with the Ministry under the rules.
  2. In this regard, it is hereby informed that there is no requirement for prior registration of digital media publishers with the Ministry. Rule 18 of the Information Technology (Intermediary Guidelines and Digital Media Ethics Codes) Rules, 2021 instead provides for furnishing of certain information by the publishers of news and current affairs content, and publishers of online curated content, to the Ministry.
  3. Since newspapers are registered under Press and Registration of Books Act, 1867, and private satellite TV channels are permission holders under the Uplinking and Downlinking Guidelines (2011) of the Ministry, a separate format for furnishing information, as in Appendix I, has been devised for such entities publishing news and current affairs on digital media. For all other digital news publishers, the relevant format is at Appendix II, while for OTT platforms, the format for furnishing information is at Appendix III. Appendix I for digital news publishers which also publish/telecast news on traditional media (TV and newspaper); Appendix II for other digital news publishers; Appendix III for publishers of online curated content (OTT platforms)
  4. The publishers may furnish the information to the Ministry in the applicable format within 15 days of the issue of this notice. The information, as a pdf file duly signed by the authorised person on behalf of the publisher, may be sent via email to: Shri Amarendra Singh, Deputy Secretary, Ministry of Information & Broadcasting (Email: amarendra.singh@nic.in), or Shri Kshitij Aggarwal, Assistant Director, Ministry of Information & Broadcasting (Email: kshitij.aggarwal@gov.in).
  5. For any doubts or clarifications, the publishers may contact the above mentioned.
  6. This issues with the approval of the competent authority.

(Kshitij Aggarwal)

Assistant Director (DM)
Email: kshitij.aggarwal@gov.in

संबंधित खबरें-

डिजिटल मीडिया के लिए रजिस्ट्रेशन अनिवार्य हो या न हो, सरकार को 20 जनवरी तक राय दें

अधिकारी ने 10 पोर्टलों/वेब चैनलों को फर्जी बताते हुए थाने में लिखा दिया मुकदमा

न्यूज पोर्टल या डिजिटल न्यूज चैनल का संचालन अवैध कैसे?

जब न्यूज पोर्टल या यूट्यूब चैनल का रजिस्ट्रेशन होता ही नहीं तो ये अवैध कैसे?

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Comments on “प्रत्येक न्यूज वेबसाइट संचालक की कुंडली मोदी सरकार को चाहिए, आदेश जारी, भड़ास को भी आया मेल

  • Chandan Dharma says:

    तो जिनके पास मेल नहीं आया है उन्हें भी फॉर्म भरकर भेजना चाहिए?

    Reply
  • सैय्यद मसनून एडवोकेट says:

    प्रतापगढ़ में पत्रकारों की गिरती शाख के पीछे आयुष्मान मित्र के रूप में कार्यरत वरुण श्रीवास्तव जो कि आयुष्मान मित्र हैं और स्वास्थ्य विभाग को गुमराह कर अमर उजाला में ठेके पर शहर प्रतापगढ़ में काम करते हैं और अपने कार्यस्थल रानीगंज में न जाकर अपने साले को अपने पद पर अनुचित,अवैधरूप से खुद ही नियिक्त कर स्वास्थ्य विभाग को दे रहे हैं धोखा।
    प्रतिदिन मुख्यचिकित्साधिकारी कार्यालय, जिला अस्पताल में स्वयं को मान्यता प्राप्त पत्रकार बताते हुए झाड़ते हैं रौब।ख़ुद को बचाने के लिए दूसरों पर आरोप लगाकर स्वास्थ्य अधिकारियों को करते हैं गुमराह और करते हैं अवैध वसूली।खुद कभी नहीं जाते आयुष्मान मित्र की नौकरी पर।राजस्व को लगा रहे हैं चूना।
    अब देखना यह है कि इन पर कौन करता है कार्यवाही….

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *