वरिष्ठ पत्रकार स्वर्गीय अरुण पांडेय को याद करने उमड़ा इलाहाबाद शहर!

कमल कृष्ण रॉय-

चार दिसम्बर 2022 का दिन यादगार बन गया । मौका था अपने प्रिय साथी अरुण पांडेय के पुस्तक के विमोचन का ।

अंजुमन ए रूहे अदब के हाल में उस दिन शहर का बौद्धिक वर्ग उमड़ा हुआ था । यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर , स्टूडेंट यूनियन के पदाधिकारी , छात्र संगठनों के लोग , लेखक , कवि , पत्रकार , ट्रेड यूनियन , कर्मचारी संगठनों के नेता , महिला संगठनों के साथी , सम्पादक , अधिवक्ता संगठन के लोग , अरुण पांडेय के पुराने दोस्त , रंग कर्मी ।

अरुण को याद करते आज के सवालों पर भी चर्चा हुई ।

बस यही कह सकता हूँ कि अरुण के लिये इस शहर के लोगों में बेपनाह मुहब्बत है । अरुण का मन भी इलाहाबाद में बसता था ।
हाल खचाखच भरा हुआ और उतने ही लोग हाल के बाहर ।
किस किस नाम लूँ ।

अरुण की पत्नी पुतुल , बेटा तन्मय , पुतुल की माँ और भाई भी मौजूद थे । बस , और लिखा नही जा रहा है ।



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *