यूपी में जंगल राज : भ्रष्टाचारी घर में घुसकर हत्या कराने की धमकी दे रहे, पुलिस प्रशासन मौन साधे है

To: pmindia@nic.in, pmosb@nic.in, cmup@nic.in, csup@nic.in, manojksinha.bjp@gmail.com, manojsinha.mp@sansad.nic.in

दिनांक: 27/12/2014

सेवा में,

माननीय प्रधानमंत्री,

भारत सरकार, नई दिल्ली

विषय: ग्राम प्रधान छावनी लाइन गाजीपुर उ० प्र०, इस ग्राम प्रधान के पति तथा परिजनों द्वारा किये गये विभिन्न भ्रष्टाचार की शिकायत करने पर शिकायतकर्ता को जान से मारने की मिल रही धमकियों के सम्बन्ध में।

माननीय महोदय,

ग्राम प्रधान छावनी लाइन गाजीपुर उ० प्र०। इस ग्राम प्रधान के पति तथा परिजनों (महेंद्र कुशवाहा, रमेश कुशवाहा इत्यादि) (निवासी – ग्राम-रघुनाथपुर, पोस्ट-छावनी लाइन, जिला गाजीपुर, उ०प्र० ) ने मनरेगा, ग्राम पंचायत के विभिन्न कार्यों, विभिन्न शिक्षण संस्थानों में छात्रवृत्ति, परीक्षा, शिक्षा व्यवस्था, वित्तीय अनियमितता इत्यादि में विभिन्न तरह के भ्रष्टाचार किए हैं| इसकी शिकायत सम्बंधित कर्यालयों में सम्बंधित अधिकारियों माननीयों से प्रार्थी ने की है| प्रार्थी के किये गए शिकायतों के कारण उपरोक्त सभी बौखलाए हुए और आक्रोशित हैं| उपरोक्त कारणों से प्रार्थी का पीछा संदिग्धों द्वारा कई बार किया गया, जिसकी शिकायत भी प्रार्थी ने पुलिस प्रशासन से की है|

शिकायतकर्ता द्वारा विगत लगभग एक वर्ष से उपरोक्त सभी के द्वारा किये गए भ्रष्टाचार के विरुद्ध आज तक कोई भी संतोषजनक कार्यवाही नहीं हुआ है| हालत इतने बिगड़ गए हैं कि अब प्रार्थी को जान से मारने की धमकियाँ भी मिलने लगी है और जबरदस्ती प्रार्थी के घर में घुस कर उपरोक्त द्वारा घर की औरतों को धमकाने तथा शिकायत वापस लेने को बार-बार दबाव बनाया जा रहा है|  इन सभी के द्वारा यह धमकी दी गई है कि यदि 30 दिसम्बर 2014 तक यदि शिकायतें वापस नहीं ली गई तो प्रार्थी को जान से मार देगें क्योंकि इनका कहना है कि इनके पास करोड़ों का अवैध धन है और प्रति वर्ष करोड़ से ज्यादा अवैध रुपया आता है और प्रार्थी को मरवाने में 40 से 50 लाख खर्च होगा जिसके लिए ये सब तैयार हैं और इनका कुछ भी नहीं होगा|

उपरोक्त शिकायतों के कारण विभिन्न मंत्रालयों के विभिन्न कार्यालयों से कई पत्र,  पत्र संख्या 23/3/2014-PM1/33799 दिनांक 28/04/2014, पत्र संख्या 23/3/2014-PM1/39359 दिनांक 20/05/2014, पत्र संख्या 23/3/2014-PM1/49680 दिनांक 18/06/2014, पत्र संख्या 22014/02/2014-LRD दिनांक 08/05/2014, पत्र संख्या 22014/02/2014-LRD दिनांक 15/05/2014, पत्र संख्या 22014/02/2014-LRD दिनांक 11/06/2014, DGET-18017/01/2014-TTC दिनांक 29/10/2014, ऍम-11011/17/2014-यू एस(जी ए) दिनांक 17/10/2014, 22014/02/2014-LRD (Vol-I) dated 03/11/2014, 145726 to 145733/CC-II/UP/VNS/SRO/Grivance dated 01/12/2014, Case No 18147/24/32/2014 dated 14/06/2014,  Case No 20211/24/32/2014 dated 11/07/2014, के-11020/1/2014-मनरेगा-VIII दिनांक 21मई2014 & dated 4th August2014, 23011/1/2014-PG dated 05August2014 & dated 28th July2014, DGE&T-Z-20025/03/2014-Coord dated 15th December 2014, L-12060/227/2014/RTI/MGNREGA dated 10/12/2014 जारी हुए हैं | परन्तु इन पत्रों पर कोई भी संतोषजनक कार्यवाही नहीं हुई है |

अतः आप से अनुरोध है कि उपरोक्त द्वारा किये गए भ्रष्टाचार की CBI / उच्चस्तरीय जाँच कराकर, दोषियों के विरुद्ध शख्त से शख्त कार्यवाही करने का आदेश देने की कृपा करें तथा साथ ही साथ प्रार्थी एवं प्रार्थी के परिवार के सदस्यों की सुरक्षा हेतु भी आदेश देने की कृपा करें | 

धन्यवाद।

दिनांक: 27/12/2014

(रामधारी सिंह कुशवाहा)
मो० नं० – 9415306993
पुत्र – स्व० मुखराम
पतलोइयां, छावनीलाईन,
गाजीपुर, उत्तर प्रदेश- 233001

प्रतिलिपि :

(1) माननीय मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश सरकार उत्तर प्रदेश |
(2) माननीय श्री मनोज सिन्हा, सांसद गाजीपुर, उत्तर प्रदेश |
(3) मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश सरकार |
(4) माननीय श्री विजय मिश्र, विधायक सदर गाजीपुर, उत्तर प्रदेश |
(5) माननीय मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश सरकार |
(6) माननीय पुलिस उप महानिदेशक उत्तर प्रदेश |

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “यूपी में जंगल राज : भ्रष्टाचारी घर में घुसकर हत्या कराने की धमकी दे रहे, पुलिस प्रशासन मौन साधे है

  • Ramdhari Singh Kushw says:

    Reference: (1) The CDO Ghazipur office letter No 863/Mgnrega Cell/Comp/2014-15 dated 21June 2014.
    (2) The Commissioner Rural Development Uttar Pradesh office letter No 1502/mgnrega cell/Shi. Bha./2014-15 dated 06June2014.
    (3) The MGNREGA Department letter No K-11020/1/2014-mgnrega-VIII dated 21May 2014.
    (4) The CPGRAMS Grievances registration No DORLD/E/2014/00301 dated 07May 2014.
    Respect honorable / sir,
    Kindly refer above subject and references, so many irregularities have been found in NREGA scheme work in Gram Panchayat Chhawaniline Ghazipur UP during the investigation with investigation officer. Some found abnormalities are as below….
    (A) In most of the Muster Rolls of above works, mostly signature of workers has been signed by a same specific person, who has made the entries of name/address etc in these Muster Rolls.

    (B) The signatures/thumb-impressions are different at the different places in the same / different Muster Roll.

    (C) The some works has been done by JCB machine also, although MGNREGA scheme works is for the unemployed persons.

    (D) The some self employed/employed persons’ names are mentioned in the NREGA workers list of this Gram Panchayat. The some persons are also found who are not awarded about self name in NREGA worker’s list. As per this investigation, it seems that the some persons’ bank accounts may be false.

    (E) Mostly, the deputed investigating officer for the above works except some part of the report for the work (3160008014/RC/958486255822393070), has not submitted the actual report as per found facts at site during the investigation of works with me.

    (F) The deputed investigating officer for the above work, has tempered in my written statement by disarrangement of the sequence of my written statement pages and by detachment of enclosures from my written statement letters.

    (G) The above investigation report has been changed before the sending to the concerned higher office. This changed copy is being enclosed with this e-mail.

    Therefore the following enclosures are earlier submitted by previous email. The following summery is given below for ready reference please….

    1) Referred Letters— the copy of above referred letters.

    2) Submitted report copy— the copy of the report which was submitted by concerned officers.

    3) Application and Letters 1,2&3—- Applications written by me to the concerned deputing officer/concerned department /deputed investigation officer.

    4) 3160008014-RC-958486255822393070 — The copy of the submitted written statement for the work (3160008014/RC/958486255822393070) ‘CHAWAILINE ME VIRA KE KHET KE PACHHIMI CHHOR SE RAMBRIKSH KE KHET KE EAST CHHOR TAK MITTI WORK’ after the investigation of this work with investigation officer.

    5) LD-999900112512306 — The copy of the submitted written statement for the work (3160008014/LD/99990011251230655) “CHHAWANI LINE ME SATYA NARAYAN S/O SAHDEV KI BHOOM” after the investigation of this work with investigation officer.

    6) 3160008014-WC-3 — The copy of the submitted written statement for the work (3160008014/WC/3) “छावनी लाईन में विसेसरपुर नहर के पास ब्रह्म स्था न का पोखरा खुदाई कार्य” after the investigation of this work with investigation officer.

    7) 3160008014-IC-97591002707417— The copy of the submitted written statement for the work (3160008014/IC/97591002707417) “relwe line se sareeya gaw tak nali khudai karay” after the investigation of this work with investigation officer.

    8) Other NREGA scheme works’ irregularities in this Gram Panchayat

    Therefore requested to take appropriate action for the order for acute high level investigation of all works in this Gram Panchayat under NREGA scheme at high level and register the imputation after the investigation against the actual guilty persons to ensure natural justice to us.

    Thanking You.
    Yours sincerely
    Ramdhari Singh Kushwaha
    S/o Late Mukhram
    Mob No 91-9415306993
    Vill Pataloiya, Post- Chhawaniline
    Ghazipur, UP 233001.

    Reply
  • Ramdhari Singh Kushw says:

    सेवा में, दिनांक : 19/01/2015
    माननीय जिलाधिकारी-गाजीपुर उ०प्र०

    विषय : छावनी लाईन-गाजीपुर ग्राम प्रधान पति (कैलाश कुशवाहा) एवं इसके पैत्रिक परिवार के सदस्यों द्वारा किये गए और किये जा रहे विभिन्न प्रकार के भ्रस्टाचारों के विरुद्ध कारवाई करने एवं ग्राम पंचायत क्षेत्र छावनी लाईन – तहसील, ब्लाक व थाना सदर गाजीपुर उ० प्र० के आराजी संख्या 1745, 1746 एवं 1747 में दिनदहाड़े, दबंगई व गुण्डई के बल बिछे अवैध खडंजे को उखड़वाने हेतु प्रार्थना पत्र |
    माननीय / आदरणीय महोदय,
    ग्राम प्रधान छावनी लाईन – तहसील, ब्लाक व थाना सदर गाजीपुर उ० प्र० द्वारा केवल एक ही परिवार के लोगों का वोट प्रवंधन करने हेतु – इस परिवार के पूरब छोर में सार्वजनिक खडंजा मौजूद होने के वावजूद, अवैध – खडंजा, दिन-दहाड़े गुंडई एवं दबंगई के बल पर खलिहान (आराजी संख्या 1745), खेत (आराजी संख्या 1746) एवं नई परती (आराजी संख्या 1747) में दिनांक 24/12/2013 को विछवा दिया गया है |
    उपरोक्त अवैध खडंजे के संम्बन्ध में ग्राम पंचायत अधिकारी-छावनी लाईन गाजीपुर, संबन्धित पुलिस प्रशासन एवं संबन्धित लेखपाल द्वारा दिए गए सूचना एवं वयान संलग्न है, जिसमें इस अवैध खडंजे के सभी प्रमाण मौजूद है |
    उपरोक्त अवैध खडंजे को हटवाने के लिए प्रार्थी ने पिछले एक वर्ष से संबन्धित प्रशासन से प्रार्थना कर रहा है | इस नियम विरुद्ध बने अवैध खडंजे को विछाने से पूर्व से लेकर आज तक प्रार्थी ने कई पत्र लिखे है तथा ई-मेल भी किए है जिसमें सभी संबन्धित सूचनाओं के साथ प्रार्थना पत्र प्रार्थी द्वारा दिया जाता रहा है, परन्तु कोई भी कार्यवाही इस अवैध खडंजे के विरुद्ध नहीं हुआ है | कार्यवाही न होने की दशा में छावनी लाईन-गाजीपुर ग्राम प्रधान पति (कैलाश कुशवाहा) एवं इसके पैत्रिक परिवार के सदस्यों द्वारा विभिन्न प्रकार के भ्रस्टाचार किये गए हैं और किये जा रहें हैं, जिसकी शिकायत प्रार्थी द्वारा किये जाने पर जान से मारने की धमकियाँ मिल रही है | और तो और ग्राम प्रधान पति ने दिनांक 11/01/2015 को लगभग 12 बजे दोपहर में आदर्श बाजार छावनी लाईन गाजीपुर में मेरे छोटे भाई के दुकान में घुस कर मेरे छोटे भाई को भद्दी-भद्दी गलियां दी, दुकान में रखे कई ग्राहकों के सामान को पटक कर तोड़ दिया, काउंटर पर कई लात मारे, पास में खड़ी मेरे छोटे भाई की मोटर बाइक को लात से मारते हुए गड्ढे में गिरा दिया, इन सबकी शिकायत सम्बंधित पुलिस प्रशासन को 100 नंम्बर पर (मेरे छोटे भाई के द्वारा) तथा पुलिस अधीक्षक को उनके आवास पर मैंने और छोटे भाई ने उसी दिन दिनांक 11/01/2015 को लगभग 02 बजे दोपहर में जा करके सूचित किया तथा इन सब घटनाओं की शिकायत में बारे में लिखित प्रार्थना पत्र भी दिया | इस तरह की घटनाओं की आशंका प्रार्थी को पहले से थी क्योंकि ग्राम प्रधान पति छावनी लाईन-गाजीपुर एवं इसके पैत्रिक परिवार के सदस्यों की पहले से ही क्रिमिनल इतिहास मौजूद है जिसकी सूचना भी सम्बंधित पुलिस प्रशासन एवं प्रशासन को प्रार्थी के पत्र संख्या आर० डी० एस०/2013-14/11 दिनांक 22/03/2014 द्वारा तथा ई-मेल (दिनांक 22/03/2014) के द्वारा भी सभी संलग्नको के साथ दी गई थी (इसकी प्रति सम्बंधित डाकुमेंट में संलग्न है) |
    अत: आप से अनुरोध है कि इस अवैध खडंजे को यथा शीघ्र उखड़वाने का आदेश प्रदान करने की असीम कृपा करें |
    संलग्नक : संलग्न सूचि के अनुसार | साभार प्रार्थी

    (रामधारी सिंह कुशवाहा)
    मो० नं० – 9415306993
    पुत्र – स्व० मुखराम
    पतलोइयां, छावनीलाईन,
    गाजीपुर, उत्तर प्रदेश- 233001
    प्रतिलिपि: सूचनार्थ एवं आवश्यक कार्यवाही हेतु |
    (1) पुलिस महा निरीक्षक – वाराणसी परिक्षेत्र वाराणसी – उ०प्र० |
    (2) पुलिस उप महा निरीक्षक – वाराणसी परिक्षेत्र वाराणसी – उ०प्र० |
    (3) पुलिस अधीक्षक गाजीपुर – उ०प्र० |

    Reply
  • Ramdhari Singh Kushw says:

    ग्राम सभा छावानिलाईन में JCB मशीन द्वारा सरकारी ट्यूबवेल की नाली को विध्वंश करने तथा खुदाई का कार्य चल रहा है
    With due respect I sadly state that there is no provision in Gram Sabha (Gram Panchayat) for using the JCB machine for Gram Sabha (Gram Panchayat) work.
    But the Present Garam Pradhan is using JCB Machine at Near Village Rooppur in the Gram Sabha Chhawaniline Sadar Ghazipur Uttar Pradesh for the digging and damaging the Government Tubewell Trench.
    Therefore requested to take appropriate acute action regarding this corruption please.

    Reply
  • Ramdhari Singh Kushw says:

    आप को अति विनम्र निवेदन के साथ सूचित किया जाता है कि निम्नलिखित आवेदनों के वावजूद भी छावनी लाईन-गाजीपुर उ०प्र० ग्राम प्रधान पति-कैलाश कुशवाहा एवं इसके पैत्रिक परिवार के सदस्यों द्वारा दुर्व्यवहार तथा दी जाने वाली धमकियाँ रुक नहीं रही हैं और न ही दोषियों के विरुद्ध कोई जमीनीस्तर पर कार्यवाही हो रही है तथा इससे सम्बंधित मांगी गई सूचनाएं भी पूर्ण एवं सही नहीं दी जा रही है | तहसील दिवस पर दिए गये प्रार्थना पत्रों पर कोई भी कार्यवाही न होने, विगत एक वर्ष से ज्यादा समय से हुए विभिन्न भ्रष्टाचारों के विरुद्ध कार्यवाही न होने, विभिन्न कार्यालयों (माननीय राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्य मंत्री-उ०प्र०, मानवाधिकार आयोग, गृह सचिवालय, पंचायत राज मंत्रालय, चुनाव आयोग, कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार मंत्रालय, मुख्य सचिव-उ०प्र० इत्यादि) के कई पत्रों पर कोई भी कार्यवाही जमीनीस्तर पर न होने, पुलिस प्रशासन के विभिन्न कार्यालयों में दोषियों के विरुद्ध शिकायत करने पर कार्यवाही भी जमीनी स्तर पर आज तक न होने से भ्रष्टाचारियों के मनोबल जबरदस्त रूप में बढ़ा हुआ है और ये नित नए भ्रष्टाचार को अंजाम दे रहे है; इन भ्रष्टाचारों की शिकायत करने पर, भ्रष्टाचार अथवा भ्रष्टाचारियों पर जमीनीस्तर पर कोई कार्यवाही तो नहीं हुई है परन्तु भ्रष्टाचारियों द्वारा मेरा तथा मेरे परिवार के अन्य सदस्यों का पीछा करना तथा धमकियाँ मिलना अवश्य बढ़ गया है | दोषी जब अपने ही ग्राम सभा के लोगों को ठग सकते हैं / एक ही भवन में कई शिक्षण संस्थाओं की मान्यता ले सकते हैं / फर्जी हस्ताक्षरों से सैकड़ों बैंक खतों में बैंकिंग कार्य कर सकते है / अपने ही विद्यालयों के छात्रों के छात्रवृत्ति में घोटाला कर सकते हैं और इनका क्रिमिनल इतिहास 1992 से मौजूद है | इन सब कारणों से एवं दोषियों के द्वारा किये गये विभिन्न प्रकार के भ्रष्टाचारों के विरुद्ध विभिन्न कार्यालयों में किये गये शिकायतों तथा इन शिकायतों पर जारी पत्रों से बौखलाकर दोषियों द्वारा, यह सम्भावना प्रबल है की ये दोषी किसी भी हद तक मेरे तथा मेरे पैत्रिक परिवार के सदस्यों के विरुद्ध जा सकते हैं |

    अतः आप से नम्र निवेदन है कि उपरोक्तों पर आवश्यक कार्यवाही करते हुए, मेरे एवं मेरे छोटे भाई तथा हमारे परिवार के सदस्यों के जान-माल की सुरक्षा एवं दोषियों के विरुद्ध कराने / करने की कृपा करें एवं आप से नम्र निवेदन है कि इस प्रकार के भ्रष्टाचार का खुलासा कराकर भ्रष्टाचारियों को दण्ड दिलाने की महान कृपा करें और भारत माता को भ्रष्टाचारयों से मुक्त कराने में महान योगदान देने की, महान पुण्य कार्य में योग करने की कृपा करें |
    प्रार्थी कृपा के लिए आजीवन आभारी रहेगा |

    Reply
  • Ramdhari Singh Kushw says:

    Directorate General of Employment and Training letter Number DGE&T-19/07(11)/2014-CD dated 22/05/2014
    उपरोक्त के अनुसार आईटीआई परीक्षा का केंद्र निर्धारण 25 किलोमीटर के अन्दर, अधिकतम 500 छात्रों की संख्या में, सरकारी अथवा सरकार द्वारा वित्त पोषित शिक्षण संस्थाओं में ही हो सकता है | परन्तु उपरोक्त नियम के विरुद्ध, 30 जुलाई 2015 से जिला गाजीपुर उ०प्र० में हो रही आईटीआई परीक्षा के अधिकतम केंद्र, जिले में एक ही प्रबन्धन के द्वारा संचालित विभिन्न स्वपोषित निजी पब्लिक स्कूल एवं इण्टर कालेजों में रखा गया है | इसी प्रबंधन द्वारा चलाये जा रहे आईटीआई फतुल्लाहापुर गाजीपुर उ०प्र० में फर्जी छात्र दिखाकर छात्रवृत्ति लेने पर, सम्बंधित कार्यालय द्वारा इसके विरुद्ध कार्यवाही करने का आदेश भी दिया गया है | इन्हीं शिक्षण संस्थाओं में इससे पूर्व के कई वर्षों में भी नियम के विरुद्ध आईटीआई परीक्षा के केंद्र रहें हैं, जिसकी शिकायत भी पिछले लगभग एक वर्ष से अधिक समय से की जा रही है, परन्तु कोई भी कार्यवाही इस भ्रष्टाचार के विरुद्ध नहीं हुई है; इसी का नतीजा है कि पुन: इस समय चल रही परीक्षा में भी इसी तरह का भ्रष्टाचार किया जा रहा है |

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *