राष्ट्रपति जुमा के पतन का कारण सहारनपुर का एक खुदरा दुकानदार अतुल गुप्ता है

यदि पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) का पांच खरब रूपयों वाला घोटाला आज न उजागर हुआ होता, तो असली खबर होती कि सुदूर दक्षिण अफ्रिका के भ्रष्टतम राष्ट्रपति जेकब जुमा के पतन का कारण पश्चिम उत्तर प्रदेश के शहर सहारनपुर का एक खुदरा दुकानदार अतुल गुप्ता है। बासमती, आम और काठ की कृत्तियां के लिये जानाजाने वाला यह शहर देवबंद के दारुल उलूम (Darul Uloom Deoband) का केन्द्र है। आज से यह समूचे अफ्रीकी महाद्धीप में कुख्यात हो गया।

इस गाथा का खलनायक है 47-वर्षीय अतुल गुप्ता जिसने स्थानीय रानी बाजार के एक खस्ता दुमंजिले मकान में बचपन गुजारा। वह केपटाउन (दक्षिण अफ्रीका) दो दशक पूर्व गया, व्यापार किया और देश का सातवां सबसे धनी व्यक्ति बना। राष्ट्रपति जुमा की अफ्रीका नेशनल कांग्रेस की आर्थिक सहायता कर के वह खरबपति बन गया। कभी “जीवित शहीद” नेल्सन मंडेला (Nelson Mandela) अफ्रीका कांग्रेस के पुरोधा और राष्ट्रपति थे।

 

फिर उत्तर प्रदेश का प्रसंग ले। इतनी उत्तुंग शिखरों पर सवार होकर भी इन गुप्त बंधु (अजय-अतुल-राजेश) ने अपने गृह प्रदेश का पूरा ख्याल रखा। ये लोग 30 अप्रैल 2013 को दक्षिण अफ्रीका की वायुसेना की आरक्षित पट्टी पर भारतीय जेट एयरवेस के ए-330 नामक विशाल वायुयान में नई दिल्ली से अपने अतिथि समूह को लाये थे। इसमें नामी गिरामी राजनेता, सांसद, व्यापारी, खिलाड़ी, फिल्मीजन आदि थे। गुप्त-बंधु के पारिवारिक पाणिग्रहण समारोह में वे बराती बनकर आये थे। उस वक्त की आखिलेश यादव-नीत समाजवादी सरकार के गणमान्य जन भी इसमें शामिल थे। राष्ट्रपति जुमा ने दिलखोल कर शासकीय मददी इस समारोह को दी। भ्रष्टाचार का यह चरम था।

फिलहाल जुमा के उत्तराधिकारी नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा ने पद संभालते ही घोषणा की कि वे जैकब जुमा के शासनकाल के घपले तथा घोटालों की जांच करायेंगे और दण्ड दिलवायेंगे। सूची में यूपी के गुप्त-बंधु शीर्ष पर शोभित हैं।

K Vikram Rao
Mob: 9415000909
Email: k.vikramrao@gmail.com

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code