दरोगाजी ने आज सचमुच बता दिया अपराधियों से तमंचा कैसे बरामद होता है, देखें वीडियो

अपराधी चाहे जैसा हो, जब वह पकड़ा जाता है तो उसके पास से तमंचा जरूर बरामद होता है. हर अपराधी तमंचा लेकर घूमता है, ऐसा महसूस होता है. लेकिन ये बात सही नहीं है. ढेर सारे मामलों में केस तगड़ा बनाने के लिए पुलिस वाले तमंचा अपनी तरफ से लगा देते हैं. इस राज पर से खुद यूपी पुलिस के एक दरोगा ने पर्दा उठाया है.

कानपुर के काकादेव थाना क्षेत्र के पांडू नगर चौकी इंचार्ज का एक वीडियो वायरल हो रहा है. इसमें वह टेबल पर रखे तमंचे को देखकर कहते हैं कि ये असली वाला नहीं लग रहा है, असली वाला लाओ. उनके एक साथी बताते हैं कि नहीं ये तमंचा असली है. वह उस तमंचे को असली साबित करने के लिए फायरिंग का ट्रायल करते हैं. ट्रिगर वगैरह दबाते हैं.

कुल मिलाकर ये वीडियो यह बताने के लिए काफी है कि यूपी में पुलिस कैसे काम करती है. सोचिए, यूपी पुलिस को अपने यहां तमंचा भी ढेर सारा रखना पड़ता होगा ताकि अपराधी पकड़े जाएं तो उनके साथ उन्हें दिखा सकें.

इसीलिए तो कहा जाता है कि यूपी पुलिस बहुत दबाव में रहती है. उसके पास ढेर सारे काम होते हैं.

देखें दरोगाजी का वायरल वीडियो-

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

One comment on “दरोगाजी ने आज सचमुच बता दिया अपराधियों से तमंचा कैसे बरामद होता है, देखें वीडियो”

  • Manish kumar says:

    कानपुर ब्रेकिंग..कानपुर पुलिस का वीडियो वायरल

    : काकादेव स्थित विधायक के घर के बाहर से तीन शातिरों के गिरफ्तार होने के मामले में एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है ।
    आपको बतादे की वीडियो में चौकी प्रभारी पांडु नगर अनांद प्रकाश एक हथियार को हाथ मे पकड़ कर उसको खराब और गड़बड़ बताते हुए उसकी जगह पर दूसरा तमंचा लगाने की बात कहते देखे जा रहे हैं।
    वायरल वीडियो में पांडु नगर चौकी प्रभारी आनंद प्रकाश विधायक मैथानी के घर के सामने ही उक्त दूसरे हथियार को सील करने की बात करते हुए कह रहे हैं कि सील की कार्यवाई मौके पर ही कि जाती है।और हथियार कभी खाली नही होता।
    गौरतलब है कि बीते दो दिन पहले ही विधायक सुरेन्द्र मैथानी के घर कर बाहर से तीन शातिर गिरफ्तार किए गए थे।विधायक ने खुद पर हमले की आशंका जताते हुए मामले में जांच की मांग की थी।पुलिस ने हमले की आशंका को नकारते हुए घटना का खुलासा कर दिया था कि उक्त तीनों अपराधी दबंगई के चलते हथियार अपने पास रखे हुए थे जबकि विधायक के घर के बाहर एक बम भी बरामद हुआ था।फिलहाल उक्त वायरल वीडियो ने कमिश्नेट्रेट पुलिस की कार्य प्रणाली के साथ ही पुलिस के ऊपर आम जनता के विश्वास पर भी सवालिया निशान लगा दिया है।अब देखना ये होगा कि आखिर पुलिस कमिश्नर असीम अरुण मामले में क्या कार्यवाई करेंगे।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *