Connect with us

Hi, what are you looking for?

प्रिंट

जनमोर्चा अख़बार के प्रधान संपादक शीतला सिंह का निधन!

दुखद समाचार… देश के जाने माने पत्रकार और जनमोर्चा अख़बार के प्रधान संपादक शीतला सिंह जी नहीं रहे। अभी अभी उनका फैज़ाबाद के अस्पताल में निधन हो गया।

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार नवेद शिकोह लिखते हैं-

Advertisement. Scroll to continue reading.

जनमोर्चा अखबार के पर्याय शीतला सिंह का जाना… उन दिनों देश की मीडिया अवध की पत्रकारिता का सहारा लेती थी। अयोध्या/फैजाबाद की ग्राउंड रिपोर्टिंग से ही कोई धमाकेदार खबर हासिल होती थी। अवध के केंद्र और राम की नगरी अयोध्या के मिजाज़ के करंट तेवर की पड़ताल करने के लिए देश के कोने-कोने से आए बड़े से बड़े पत्रकार सबसे पहले जनमोर्चा पढ़ते थे।
राम आंदोलन के समय अयोध्या बाहरी मीडिया का केंद्र था और जनमोर्चा यहां का मेज़बान बनके देशभर के पत्रकारों का मददगार और मार्गदर्शक बनता था।

जनमोर्चा की विश्वसनीयता को ताकत देने वाले इस अखबार के संपादक शीतला सिंह थे। शीतला सिंह का मतलब जनमोर्चा था और जनमोर्चा का अर्थ शीतला सिंह था।

Advertisement. Scroll to continue reading.

देश के मशहूर वयोवृद्ध पत्रकार, प्रेस कौंसिल के पूर्व सदस्य और जनमोर्चा के संपादक शीतला सिंह का फैजाबाद के एक अस्पताल में निधन हो गया। अपनी पत्रकारिता को जनमोर्चा अखबार में समर्पित करने वाले शीतला सिंह ने बतौर संपादक अपने अखबार को अवध की पत्रकारिता की ऐसी भीनी-भीनी खुशबू बना दिया था जिसकी ख़बरों की सुगंध पूरे देश की मीडिया में महकने लगी थी। ख़ासकर नब्बे के शुरुआती दशक में उनके इस स्थानीय अखबार से लोग अयोध्या के नए मिजाज़ की पड़ताल करते थे।

अवध से लेकर पूरब में भी जनमोर्चा की पहचान थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की एक तस्वीर अक्सर खूब वायरल होती है, वो जब गोरखपुर के सांसद थे। तब की इस तस्वीर में योगी पठन-पाठन कर रहे हैं और उनकी गोद में एक बंदर बैठा है और सामने जनमोर्चा रखा है।

धारदार पत्रकारिता से एक स्थानीय अखबार को बड़ी पहचान दिलाने का दौर अब खत्म हो गया। कॉरपोरेट जगत ने अपनी दौलत के बूते अखबारों और पूरे मीडिया जगत मे पत्रकारिता को जैसे खरीद लिया हो। पत्रकारिता का संतुलन, निष्पक्षता मर्म, सिद्धांत और मूल्यों की मौत के साथ शीतला सिंह जैसे पत्रकारों की मौत और भी रुलाती है।

  • नवेद शिकोह
1 Comment

1 Comment

  1. विजय सिंह

    May 18, 2023 at 1:12 pm

    भावभीनी श्रद्धांजलि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement