मोदी का झूठ, राहुल के सवाल और टेलीग्राफ अखबार का कवरेज!

संजय कुमार सिंह

भाषणों के शेर, संकट में ढेर… इस खबर के अनुसार, राहुल गांधी ने 27 जुलाई को (कल ही) कहा, अगर मेरा पूरा कैरियर चौपट हो जाए तो भी मुझे परवाह नहीं है। मैं झूठ नहीं बोलने वाला। क्या यह साधारण बात है? दो कौड़ी के कैरियर के लिए लोग क्या नहीं करते हैं और उसपर बने रहने के लिए क्या नहीं किया है। ऐसे में राहुल गांधी का राजनीति को अपना कैरियर मानना और यह कहना भी कम नहीं है। पर प्रशंसा?

राहल गांधी का यह सवाल क्या साधारण है? – प्रधानमंत्री जी, क्या आपने झूठ बोला?

यह 19 जून के उस सर्वविदित बयान से संबंधित है जब उन्होंने कहा था कि भारत की सीमा में न कोई आया है ना किसी पोस्ट पर किसी और का कब्जा है। अखबार ने लिखा है कि 38 दिन गुजर गए हैं, तीन दौर की वार्ता हो चुकी है। सवाल है कि जब कोई आया ही नहीं तो क्या मौसम की चर्चा हो रही है।

राहुल लगातार बोल रहे हैं। सवाल उठा रहे हैं। पर कोई जवाब नहीं। इस संबंध में कांग्रेस पार्टी का एक ट्वीट भी था, भाषणों के शेर, संकट में ढेर। बेशक राहुल गांधी ने भाषण वीर की चुप्पी को कड़ी टक्कर दी है। अगर राहुल गांधी को पप्पू कहा जा सकता है तो यह क्या है उसका भी कोई नामकरण नहीं होना चाहिए?

और राज्यपाल का 21 दिनों का खेल भी खबर में है।

वरिष्ठ पत्रकार और अनुवादक संजय कुमार सिंह का विश्लेषण.

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करेंWhatsapp Group

भड़ास के माध्यम से अपने मीडिया ब्रांड को प्रमोट करने के लिए संपर्क करें- Whatsapp 7678515849



Comments on “मोदी का झूठ, राहुल के सवाल और टेलीग्राफ अखबार का कवरेज!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *