Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

दैनिक जागरण और हिंदुस्तान अखबारों के संपादक रहे शशांक शेखर त्रिपाठी का निधन

Onkareshwar Pandey : वरिष्ठ पत्रकार शशांक शेखर त्रिपाठी का असमय चले जाना कचोट रहा है। साथियों ने खबर दी है कि वे गुरुवार को लखनऊ मे अपने घर के बाथरूम में फिसलकर गिर गए थे। अस्पताल में तीन दिनों तक मौत से जंग लड़ने के बाद आखिरकार वे उस सफर पर चल पड़े, जहाँ से कोई वापस नहीं आता। हिंदी पट्टी के प्रखर पत्रकार शेखर त्रिपाठी दैनिक जागरण के संपादक थे। वे राष्ट्रीय सहारा दिल्ली और अन्य कई अखबारों में भी रहे। मेरे अच्छे मित्र थे। बेहतरीन इंसान। मुश्किलों में दोस्तों की आगे बढ़ कर मदद करने वाले । ईश्वर उनकी आत्मा को शांति और मोक्ष प्रदान करें और उनके परिवार को यह दुख सहने की शक्ति।

Onkareshwar Pandey : वरिष्ठ पत्रकार शशांक शेखर त्रिपाठी का असमय चले जाना कचोट रहा है। साथियों ने खबर दी है कि वे गुरुवार को लखनऊ मे अपने घर के बाथरूम में फिसलकर गिर गए थे। अस्पताल में तीन दिनों तक मौत से जंग लड़ने के बाद आखिरकार वे उस सफर पर चल पड़े, जहाँ से कोई वापस नहीं आता। हिंदी पट्टी के प्रखर पत्रकार शेखर त्रिपाठी दैनिक जागरण के संपादक थे। वे राष्ट्रीय सहारा दिल्ली और अन्य कई अखबारों में भी रहे। मेरे अच्छे मित्र थे। बेहतरीन इंसान। मुश्किलों में दोस्तों की आगे बढ़ कर मदद करने वाले । ईश्वर उनकी आत्मा को शांति और मोक्ष प्रदान करें और उनके परिवार को यह दुख सहने की शक्ति।

Advertisement. Scroll to continue reading.

Zafar Irshad : दैनिक जागरण के पूर्व संपादक शशांक शेखर त्रिपाठी जी नही रहे.यारों के यार हमेशा मुस्कुराते रहने वाले.एक बार उनके ऑफिस पहुंचा मैं उनसे मिलने शाम को..उन्होंने मेरी गाड़ी अपने ऑफिस में खड़ी करवाई और अपनी कार से लेकर निकल पड़े लखनऊ की सड़कों पर, रात भर खूब खिलाया पिलाया..2 बजे मुझे छोड़ा फिर सुबह 5 बजे मैं कानपुर वापिस गया..बहुत याद आएंगे त्रिपाठी सर जी. Love you हमेशा..

Hafeez Kidwai :  कितना आसान है RIP लिखना,कितना मुश्किल है किसी के न होने को बर्दाश्त करना।क़ाबिल और मशहूर सम्पादक शशांक शेखर त्रिपाठी टहलते घूमते चले गए।उर्दू पर उनसे वह बहस और इंक़िलाब अख़बार में मेरे न जाने की उनकी ख़ुशी, दोनों मनो मिटटी में दब चुकी है। आज जब उनके न रहने का दुःखद समाचार मिला,लगा की दूर कहीं घूमने ही तो गए होंगे,लौटेंगे तो मिलेंगे वरना जहाँ होंगे जाकर मिल लिया जाएगा। अब ज़्यादातर लोग साथ के जा ही तो रहें हैं।उम्र नही बल्कि मिजाज़ की वजह से साथ के लोग।परसों जोशी जी और आज त्रिपाठी भाई इनकी क्या क्या बातें याद करें।बस इतना ही की आज आप जहाँ हैं कल वहीं आकर मिलते हैं, वहाँ का आप बताइयेगा,यहाँ का हम बताएँगे….बेचैनी है, बेहद

Advertisement. Scroll to continue reading.

Utkarsh Sinha : शेखर सर, यानी शशांक शेखर त्रिपाठी । हिंदी पत्रकारिता में सीखाने वाले कुछ चुनिंदा लोगो में से एक थे। अनुजवत स्नेह मिला आपसे । स्मृतियां हमेशा जिंदा रहेंगी सर। श्रद्धांजलि…

वरिष्ठ पत्रकार ओंकारेश्वर पांडेय, ज़फर इरशाद, हफीज किदवई और उत्कर्ष सिन्हा की एफबी वॉल से.

Advertisement. Scroll to continue reading.

इन्हें भी पढ़ें…

xxx

Advertisement. Scroll to continue reading.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement