पत्थरदिल नोएडा में है एक दयावान सोनिया! देखें वीडियो

Yashwant Singh-

नोएडा की जिस सोसाइटी में रहता हूं वहां के पार्क में टहलने के दौरान मैं अक्सर एक महिला को देखता हूं जो चीटियों के बिलों के आसपास चुटकी चुटकी आटा बिखरेती है और आगे बढ़ जाती है.

पूरे पार्क में दर्जनों जगहों पर चीटियों के अड्डे के आसपास वह उनका भोजन परोसती है.

आज हिम्मत किया और उन्हें कैमरे पर बातचीत के लिए राजी कर लिया.

सुनिए इस सोनिया की सुंदर बातें!

कुछ प्रतिक्रियाएं देखें-

Navin Kumar
सोनिया गर्ग को आप नहीं जानते होंगे। हमारे जीवन के खांचे में किसी को जानना जरूरत के दायरे से निकल ही नहीं पाता। लेकिन एक निर्मम शहर में संवेदनशील होना क्या होता है इसे सोनिया बहुत साधारण तरीके से समझाती हैं। मशीनी जिंदगी ने हमें अपने आसपास की दुनिया को लेकर जितना बेपरवाह बना दिया है उस तरफ रुककर सोचने की जरूरत है। Yashwant Singh ने बहुत संतभाव से इस साधारण कहानी को भव्य बना दिया है। उन्हें साधुवाद।

Robby Sharma
बहुत सही. यही तो है सनातन धर्म का सिद्धांत पृकृति से minimum लो और पृक्रति को maximum दो.

Swapnil Srivastava
इतना इन जीवों का कौन ख्याल करता है ।

Ajay Shukla
तुमने यह बढ़िया एक्सक्लूसिव मारा है, यशवंत। ऐसी खबरें भी समाज को बदलने का माद्दा रखती हैं। बधाई।

Sandeep Dwivedi
Gaur City ka Lake view park, kafi Machlia bhi hain yaha par

Xolo Gelrich
हैट्सऑफ फ़ॉर सोनिया जी

Manoj Aligadi
बहुत अच्छे यह सराहनीय कार्य हम भी प्रारंभ करेंगे

Vivek Shukla
Great lady. Outstanding

अजित सिंह तोमर
बड़ा नेक काम करती हैं. विडियो के लिए शुक्रिया सर

Girijesh Vashistha
ऐसे करुणापूर्ण काम हमेशा सराहे जाने चाहिए. आपने सम्मान दिया वीडियो बनाकर. बधाई

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप परBWG7

आपसे सहयोग की अपेक्षा भी है… भड़ास4मीडिया के संचालन हेतु हर वर्ष हम लोग अपने पाठकों के पास जाते हैं. साल भर के सर्वर आदि के खर्च के लिए हम उनसे यथोचित आर्थिक मदद की अपील करते हैं. इस साल भी ये कर्मकांड करना पड़ेगा. आप अगर भड़ास के पाठक हैं तो आप जरूर कुछ न कुछ सहयोग दें. जैसे अखबार पढ़ने के लिए हर माह पैसे देने होते हैं, टीवी देखने के लिए हर माह रिचार्ज कराना होता है उसी तरह अच्छी न्यूज वेबसाइट को पढ़ने के लिए भी अर्थदान करना चाहिए. याद रखें, भड़ास इसलिए जनपक्षधर है क्योंकि इसका संचालन दलालों, धंधेबाजों, सेठों, नेताओं, अफसरों के काले पैसे से नहीं होता है. ये मोर्चा केवल और केवल जनता के पैसे से चलता है. इसलिए यज्ञ में अपने हिस्से की आहुति देवें. भड़ास का एकाउंट नंबर, गूगल पे, पेटीएम आदि के डिटेल इस लिंक में हैं- https://www.bhadas4media.com/support/

भड़ास का Whatsapp नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code