जब निजी चैनल भागवत के संबोधन का सजीव प्रसारण कर सकते हैं तो दूरदर्शन क्यों नहीं: जावड़ेकर

DD

नई दिल्ली: कांग्रेस के कई कार्यकर्ताओं और नेताओं ने रविवार को दिल्ली में प्रदर्शन कर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के इस्तीफे की मांग की। पार्टी का आरोप है कि जावड़ेकर ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत के भाषण का नागपुर से सीधा प्रसारण दिखाने के लिए दूरदर्शन को मजबूर किया था।

दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली की अगुवाई में प्रदर्शन कर रहे पार्टी कार्यकर्ताओं को मध्य दिल्ली स्थित दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यालय के बाहर उस वक्त हिरासत में ले लिया गया जब उन्होंने दूरदर्शन कार्यालय की तरफ मार्च करने की कोशिश की।

लवली ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा, ‘सरकार दूरदर्शन को मजबूर कर रही है कि वह भगवाकरण के आरएसएस के एजेंडा का प्रसार करे। कांग्रेस पार्टी यह बर्दाश्त नहीं करेगी और हम सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के इस्तीफे की मांग करते हैं।’

वहीं नागपुर में सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दूरदर्शन पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के संबोधन के सजीव प्रसारण का बचाव किया। उन्होंने कहा कि सरकार मीडिया को व्यावसायिकता सिखाना चाहती है। प्रेसवार्ता में एक सवाल के जवाब में जावड़ेकर ने कहा कि दूरदर्शन एक स्वायत्त संगठन है और हमारा इसकी कार्यप्रक्रिया में कोई हस्तक्षेप नहीं है।

भाजपा इसका यह कहकर बचाव किया था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने देशभक्ति में वास्तविक तौर पर योगदान दिया है और उसके दर्शन में सभी के लिए न्याय शामिल है। कांग्रेस और माकपा की आलोचना पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हमने दूरदर्शन पर लगा प्रतिबंध हटा लिया है। उन्होंने सवाल किया कि जब निजी चैनल भागवत के संबोधन का सजीव प्रसारण कर रहे थे, तो दूरदर्शन के इसे दिखाने में क्या बुराई थी।

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करेंBhadasi Whatsapp Group

भड़ास के माध्यम से अपने मीडिया ब्रांड को प्रमोट करने के लिए संपर्क करें- Whatsapp 7678515849



Comments on “जब निजी चैनल भागवत के संबोधन का सजीव प्रसारण कर सकते हैं तो दूरदर्शन क्यों नहीं: जावड़ेकर

  • संजय कुमार सिंह says:

    अंग्रेजी के लाइव का सजीव तो ठीक है पर सजीव प्रसारण – मजेदार है। लगे रहो मुन्ना भाइयों।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *