Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

यशवंत यात्रा संस्मरण : एलीफैंटा द्वीप पर बुद्ध को किसने पीटा? देखें वीडियो

Yashwant Singh : एलीफैंटा द्वीप पर जो गुफाएं हैं, उसमें दीवारों पर चारों तरफ बुद्ध की मूर्तियां हैं. किसी में बुद्ध के पैर कटे हैं, किसी में मुंह टूटा है, किसी में हाथ गायब हैं. शांति के प्रतीक बुद्ध के साथ ये हिंसा कब और किसने की होगी. वीडियो बनाते हुए ये सवाल दिल दिमाग में चलता रहा. क्या वाकई हिंसा, डेस्ट्रक्शन ही मुख्य धारा है और शांति करुणा अहिंसा आदि चीजें रिएक्शन में पैदा हुईं, साइड इफेक्ट के चलते उपजी हुई बाते हैं? क्या प्रकृति की मोबोलिटि के लिए वायलेंस अनिवार्य है? शांति और अहिंसा से क्या प्रकृति को खुद के लिए खतरा पैदा होता है? या फिर ऐसा कि प्रकृति हर दौर के अपने नायक चुनती है और जब बुद्ध का दौर खत्म हुआ तो उनसे बड़ा कोई नायक पैदा नहीं हुआ लेकिन नित नए नए आयाम छूती गई? उदास मन और कई प्रश्नो को लेकर लौटा. आप भी देखिए और थोड़ा मुझे समझाइए.

Yashwant Singh : एलीफैंटा द्वीप पर जो गुफाएं हैं, उसमें दीवारों पर चारों तरफ बुद्ध की मूर्तियां हैं. किसी में बुद्ध के पैर कटे हैं, किसी में मुंह टूटा है, किसी में हाथ गायब हैं. शांति के प्रतीक बुद्ध के साथ ये हिंसा कब और किसने की होगी. वीडियो बनाते हुए ये सवाल दिल दिमाग में चलता रहा. क्या वाकई हिंसा, डेस्ट्रक्शन ही मुख्य धारा है और शांति करुणा अहिंसा आदि चीजें रिएक्शन में पैदा हुईं, साइड इफेक्ट के चलते उपजी हुई बाते हैं? क्या प्रकृति की मोबोलिटि के लिए वायलेंस अनिवार्य है? शांति और अहिंसा से क्या प्रकृति को खुद के लिए खतरा पैदा होता है? या फिर ऐसा कि प्रकृति हर दौर के अपने नायक चुनती है और जब बुद्ध का दौर खत्म हुआ तो उनसे बड़ा कोई नायक पैदा नहीं हुआ लेकिन नित नए नए आयाम छूती गई? उदास मन और कई प्रश्नो को लेकर लौटा. आप भी देखिए और थोड़ा मुझे समझाइए.

हालांकि यह सब लिखते हुए कल ओशो को पढ़ते वक्त दिमाग में अंटकी एक फकीर की कहानी याद आ रही है. राजा को जब असली फकीर मिला तो उसकी कुटिया में घुसा और बोला- चल मेरे साथ वरना इस तलवार से तेरा सिर धड़ से अलग कर दूंगा. फकीर बोला- बिलकुल न जाउंगा, तेरे कहने से तो जाने से रहा. हां, तू सर काट, तेरे साथ मैं भी देखूंगा कि ये सिर धड़ से कैसे अलग हो रहा है. कहानी का आशय ये था कि जो द्रष्टा हो जाता है, जो निर्विचार हो जाता है, जो निर्वाण को प्राप्त हो जाता है, उसके लिए देह के कोई मायने नहीं रह जाते. वह देह में होते हुए भी देह से अलग होता है इसलिए उसकी देह के साथ जो करो, उसे कोई फरक नहीं पड़ता. तो, जिन लोगों ने बुद्ध की मूर्तियों को खंडित किया, उनके मन में अंतिम बात देह को खत्म करना ही था,लेकिन बुद्ध कोई देह तो नहीं. वो तो एक अवस्था है जिसमें देह दिमाग मूर्ति हिंसा के कोई मायने नहीं रह जाते.

Advertisement. Scroll to continue reading.

xxx

मुंबई में गेटवे आफ इंडिया से बोट मिलती है एलीफैंटा आइलैंड जाने के लिए. करीब घंटे भर में यह बोट ले जाती है. द्वीप पर जाने के बाद लगता है जैसे आप किसी दूसरी दुनिया में आ गए. यहां जो गुफाएं हैं उसमें बुद्ध की टूटी फूटी मूर्तियां हैं. द्वीप के शिखर पर दो विशालकाय तोप हैं.

Advertisement. Scroll to continue reading.

xxx

आज नया जिया
समुद्र में दौड़ा
द्वीप पर लोटा
आज नया देखा
तोप पर सेल्फी
बन्दर को पेप्सी
आज नया सोचा
बुद्ध से तोड़फोड़
युद्ध से गठजोड़
आज नया गाया
बीयर के साथ में
अजनबी से प्यार में
आज नया दिया
समुद्र को सबका प्यार
पक्षियों को सारा संसार।

Advertisement. Scroll to continue reading.

देखें संबंधित वीडियो….

Advertisement. Scroll to continue reading.

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.


यूट्यूब पर भड़ास के चैनल को सब्सक्राइव करने और अपलोड किए जा चुके वीडियोज देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें: https://www.youtube.com/user/bhadas4media

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : Bhadas4Media@gmail.com

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement