Connect with us

Hi, what are you looking for?

प्रिंट

सिर्फ 5000 रुपये में काम कर रहे हैं दैनिक जागरण, लखीमपुर के रिपोर्टर

दैनिक जागरण लखीमपुर ब्‍यूरो आफिस में इन दिनों संवाददाताओं / रिपोर्टरों का जमकर शोषण हो रहा है… बेहद कम पैसे में ये लोग काम करने पर मजबूर हैं.. प्रबंधन की तरफ से वेतनमान बढाने का झांसा काफी समय से दिया जा रहा है… बार वादा हर बार वादा ही साबित हो रहा है… बेरोजगारी के कारण रिपोर्टर चुपचाप मुंह बंद कर काम कर रहे हैं.. कोई आवाज नहीं उठाता क्योंकि इससे उन्हें जो कुछ मिल रहा है, वह भी मिलना बंद हो जाएगा…

<p>दैनिक जागरण लखीमपुर ब्‍यूरो आफिस में इन दिनों संवाददाताओं / रिपोर्टरों का जमकर शोषण हो रहा है... बेहद कम पैसे में ये लोग काम करने पर मजबूर हैं.. प्रबंधन की तरफ से वेतनमान बढाने का झांसा काफी समय से दिया जा रहा है... बार वादा हर बार वादा ही साबित हो रहा है... बेरोजगारी के कारण रिपोर्टर चुपचाप मुंह बंद कर काम कर रहे हैं.. कोई आवाज नहीं उठाता क्योंकि इससे उन्हें जो कुछ मिल रहा है, वह भी मिलना बंद हो जाएगा...</p>

दैनिक जागरण लखीमपुर ब्‍यूरो आफिस में इन दिनों संवाददाताओं / रिपोर्टरों का जमकर शोषण हो रहा है… बेहद कम पैसे में ये लोग काम करने पर मजबूर हैं.. प्रबंधन की तरफ से वेतनमान बढाने का झांसा काफी समय से दिया जा रहा है… बार वादा हर बार वादा ही साबित हो रहा है… बेरोजगारी के कारण रिपोर्टर चुपचाप मुंह बंद कर काम कर रहे हैं.. कोई आवाज नहीं उठाता क्योंकि इससे उन्हें जो कुछ मिल रहा है, वह भी मिलना बंद हो जाएगा…

आपको विश्वास नहीं होगा लेकिन ये सच है कि इतनी महंगाई के बावजूद दैनिक जागरण लखीमपुर में रिपोर्टर 5000 हजार रुपये में कार्य करने को विवश हैं… कई बार बात करने के बाद भी वेतन में इजाफा नहीं हो रहा है… उच्‍चाधिकारियों की मिली भगत से संवादाताओं का शोषण हो रहा है… लखीमपुर की टीम समेत अन्‍य पत्रकारों ने इसके विरोध में कार्य बहिष्‍कार करने की रणनीति बनाई है… महंगाई के वक्‍त जागरण को लखीमपुर के संवादाताओं का वेतन बढाना होगा… इसके लिये लड़ाई होगी… दैनिक जागरण जिले में अमर उजाला व हिंदुस्‍तान से लड़ रहा है जबकि दोनों संस्‍थानों में रिपोर्टर को 10 हजार रूपये वेतन दिया जा रहा है… ऐसे में जागरण प्रबंधन बेहद कम वेतन देकर कंपनी की नाक कटा रहा है…

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

0 Comments

  1. Ashwini Trivedi

    November 24, 2014 at 4:41 pm

    Maaf karen bhaisahab,
    kam se kam jagran per month 5000 Rs. to de raha hai yahan lucknow me to aadhe se jyada akhbaar aise hai jo do do teen teen mahene per sailory de rahen hai wo bhi aadhi adhuri. patrakar ek majdoor se bhi gayi gujri jindagi jeene ko majboor hai …………….jara lucknow ke akhbaaron ki padtaal to kijiye, mohaday

  2. Ping

    November 24, 2014 at 8:26 pm

    Abhi Bhi Kuch nai bigda PATRKAAR BHAIYON majithia ke liye ek jut ho jaao!! Jago PATRKAAR BHAIYON JAGO!

  3. Sangeet

    December 15, 2014 at 2:19 am

    Aapko bata dein maharaj himachal mein toh aur bhi bure haal hein yahan staff reprorter ko 4toh datelineline reporkor ko phonesmatrmarupyon rupyrakhargayahhaiamajitiyaajitiya wagekyaahaikyahanikeahan ke renahiejaanteyjaantey . Kuchek akhbaarein jdeti00 detsaathn saath hi reserter seka buisnessbsaalebharameinhdengein denge likhwa,leanythansalerya kelhisaab0sekdengea se denge .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement