अच्छा हुआ रिटायर हो गया! (इंटरव्यू- विमल कुमार : पार्ट एक)

Yashwant Singh-

बहुत दिनों बाद इंटरव्यू के सिलसिले का फिर से श्रीगणेश कर दिया हूं. शुरुआत Vimal Kumar जी से. आप न्यूज एजेंसी यूएनआई-यूनीवार्ता के वरिष्ठ पत्रकार रहे हैं. तीस वर्षों की सेवा के बाद हाल में ही रिटायर हुए. साहित्य, संस्कृति, राजनीति को नजदीक से देखा और कवर किया. संसद की रिपोर्टिंग लंबे समय तक की.

विमल जी से बात करके आनंद आया.

वसुंधरा, गाजियाबाद के सेक्टर 13 वाले उनके घर में पहुंचा और छत पर धूप में बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ.

विमल जी ने बताया कि आज 29 जनवरी का दिन मीडिया के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. क्यों महत्वपूर्ण है, सुनिए. साथ ही आजकल की पत्रकारिता और उनके अनुभव को बांचिए.

ये रिकार्डिंग मोबाइल कैमरे के जरिए की है. एक माइक जिसे साथी Yashwant L Choudhary ने बहुत पहले गिफ्ट किया था, उसका पहली बार सदुपयोग किया.

देखें, कैसा रहा सब कुछ. ये पहला पार्ट है.

अच्छा हुआ रिटायर हो गया!

(वरिष्ठ पत्रकार विमल कुमार, इंटरव्यू : पार्ट-1)

न्यूज एजेंसी यूएनआई में 30 साल सेवा के बाद रिटायर हुए वरिष्ठ पत्रकार विमल कुमार ने आज 29 जनवरी 2021 को भड़ास4मीडिया डाट काम के एडिटर यशवंत सिंह से विस्तार से बातचीत में अपने अनुभवों का खुलासा किया.

जाने-माने पत्रकार एसपी सिंह से लेकर आजकल की पत्रकारिता तक पर उनसे चर्चा हुई. भारतीय मीडिया के लिहाज से आज 29 जनवरी का दिन एक महत्वपूर्ण दिन भी है. इसके बारे में विमल ने इंटरव्यू शुरू होते ही जानकारी दी.

देखें बातचीत का ये पहला पार्ट-

vimal kumar interview part one

संबंधित खबरें-

34 वर्षों से यूनीवार्ता में सेवारत वरिष्ठ पत्रकार विमल कुमार हुए रिटायर

32 साल बाद प्रेस क्लब आफ इंडिया के मेंबर बन सके विमल कुमार!

भोंपू को अख़बार न कहो प्रियदर्शन… जागरण कोई अख़बार है! : विमल कुमार

देश के 80 प्रतिशत पत्रकारों के पास दृष्टि नहीं, संपादक भी दृष्टिहीन : विमल कुमार

मुक्तिबोध के बाद गुम हुई ऊर्जा की तलाश है विमल कुमार की कविता

बनारस जाने से कुछ दाग मुझ पर जाने-अनजाने लग ही गए तो कुछ बातें यहां कहना चाहूंगा : विमल कुमार

मैंने कृष्णा सोबती जैसी बड़ी लेखिका को भी पुरस्कार लेने के लिए रिहर्सल करते देखा है : विमल कुमार

मल्लिका-ए-ग़ज़ल बेग़म अख्तर की सबसे प्रमुख शिष्या शांति हीरानंद का निधन, देखें वीडियो

मरने के बाद कोई किसी को नहीं पूछता, सब ताकत के पुजारी हैं, यही जग की रीत है

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/Bo65FK29FH48mCiiVHbYWi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *