Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

आज वही संपादक लोग आरएसएस के तलवे चाटते हैं!

सर्जना शर्मा-

समय कैसे बदलता है और उसके साथ लोग कैसे बदल जाते हैं ये 2014 के बाद से खूब देखने को मिल रहा।

Advertisement. Scroll to continue reading.

एक ज़माना था मीडिया हॉऊसेज में न्यूज़ रूम में सबसे ज्यादा प्रताड़ित, उपेक्षित और अपमानित कोई होता था तो वे थे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पारिवारिक पृष्ठभूमि से जुड़े मेरे जैसे पत्रकार। जिनको तमाम मेहनत के बाद न प्रोमोशन मिलती थी ना ही अच्छा इंक्रीमेंट।

यदि कोई आऊट पुट एडिटर मेरे काम की तारीफ लिख देता था तो संपादक महोदय उसे गायब करवा कर कह देते थे आपकी वार्षिक रिपोर्ट बुकलेट गुम हो गयी है दोबारा भर दीजिए।

Advertisement. Scroll to continue reading.

ऐसा इसलिए क्योंकि उनको मेरी ग्रेंडिंग कमतर करके मुझे नीचा दिखाना था। सरे आम न्यूज़ रूम में बात बात पर कहा जाता था- हम कोई राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से हैं क्या।

आज वही संपादक लोग संघ के तलवे चाटते हैं और ये साबित करते फिरते हैं कि कैसे वे बचपन से संघी हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

आज मैं उन्हीं सब संपादकों को संसद भवन में संघी सांसदों और मंत्रियों के सामने “त्वमेव माता च पिता त्वमेव त्वमेव विद्या च द्रविणम त्वमेव त्वमेव सर्वं मम देव देव” भाव से करबद्ध नतमस्तक देखती हूं तो यकीन नहीं आता ये वहीं संपादक हैं जिनको आर एस एस के एस से भी घनघोर नफरत थी।

Yashwant Singh- एकाध का नाम खोलिए

Advertisement. Scroll to continue reading.

Sarjana Sharma- छोडिए यशवंत जी सब बड़े दिग्गज नाम हैं। आज वे पूरी तरह से साबित करने में शर्म नहीं करते कि उनका परिवार संघ से कैसे जुड़ा था। कैसे उनके पिता दादा आलाना फलाना संघ की शाखाओं में जाते थे। कुछ बातों का उत्तर समय देता है। दिल तो करता है संसद भवन में उनके पास जा कर अब पूछू कहो मिस्टर मौक़ापरस्त पलटू राम कैसे हो अब रंगे सियार कहीं के!

Ajit Wadrenkar- इनमें अनेक ऐसे भी हैं जो कांग्रेसियों के भी छुप छुप कर चरण छूते हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.
2 Comments

2 Comments

  1. Shambhunath Shukla

    August 10, 2023 at 1:48 pm

    ऐसे संपादकों के नाम सार्वजनिक करिये। कम से कम पता तो चले कि रीढ़विहीन संपादक कौन-कौन से हैं।

  2. Rahul Sisodiya

    August 14, 2023 at 7:39 am

    ऐसे ही संपादको व मीडिया घरानों की दलाली की वजह से पत्रकार और पत्रकारिता स्वतंत्र नही है। इन्ही दलालों की वजह से कोई भी पत्रकारों का घण्टा बजाके चलता बनता है।

    राहुल सिसौदिया
    8989161009

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : Bhadas4Media@gmail.com

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement