फोर्टिस बंधक प्रकरण के सबक : हर एक को हेल्थ बीमा कवर क्यों रखना चाहिए! जानें डिटेल

यशवंत सिंह-

फोर्टिस बंधक प्रकरण से ये समझ में आया कि हर किसी को न्यूनतम मेडिकल हेल्थ कवर रखना चाहिए. हेल्थ एक ऐसा सब्जेक्ट है जिसके बारे में कोई पहले से धारणा नहीं बना सकता. पहले से कोई अंदाजा नहीं लगा सकता. आज ही अखबार में पढ़ रहा था कि पैंतालीस साल के एक बंगाली अभिनेता शूटिंग कर रहे थे, पेट में मरोड़ उठा, अस्पताल गए और मर गए. ऐसी खबरें सोचने को मजबूर करती हैं कि हम आखिर विकास के कैसे दौर में आ गए हैं कि जीवन का ही नहीं पता है. ऐसी खबरें ये भी बताती हैं कि हेल्थ बीमा कवर को लेकर हमें एलर्ट रहना चाहिए.

जो बेहद गरीब हैं उन्हें सरकार की जो भी स्वास्थ्य की योजनाएं हैं, उससे जुड़ना चाहिए. इसके लिए प्रयास करना चाहिए. वो योजनाएं कितनी कारगर हैं या नहीं हैं, ये अलग विषय है. अगर योजना में आप एनरोल हैं तो फिर नेक्स्ट लेवल की लड़ाई ये होगी कि आपको उस योजना का लाभ मिले. पर जब एनरोल ही नहीं हैं तो कैसे लड़ेंगे?

इसी तरह जो नौकरीपेशा हैं, जो कारोबारी हैं, वो अपने मासिक आय के एक छोटे से हिस्से को जरूर हेल्थ के लिए सेफ रखें. वे इसे मेडिकल बीमा के रूप में इनवेस्ट कर सकते हैं या फिर अलग से नगद रख सकते हैं बैंक में. ज्यादा बेहतर आप्शन मेडिकल हेल्थ कवर है.

दो साल तक लगातार मेडिकल हेल्थ कवर रखने से आप लगभग सभी बीमारियों के इलाज में क्लेम मांगने के हकदार हो सकते हैं.

अक्सर मैं भूल जाता हूं कि एक मित्र ने मुझे जबरन एक कंपनी का हेल्थ प्लानर (स्वास्थ्य बीमा एजेंट) बना रखा है. साल में दो चार मौके आते हैं जब ये ध्यान जाता है कि मेरा कर्तव्य लोगों को मेडिकल हेल्थ कवर रखने के लिए आगाह करना भी है.
बहुत से लोग इनबाक्स में आकर पूछताछ करते हैं हेल्थ बीमा के बारे में. उन्हें मैं दीपक शर्मा जी का नंबर 83685 35376 दे देता हूं जो इस फील्ड के बड़े अधिकारी हैं. उनसे पता चलता है कि लोगबाग पूछताछ तो बहुत करते हैं तो पर हेल्थ बीमा लेने वालों की संख्या एक परसेंट से भी कम होती है.

तो सभी से कहना चाहूंगा कि भाइयों, बीमा कवर लें. बजट के हिसाब से लें. न्यूनतम वाला लें, पर लें जरूर. जिस दिन हमारे शासक इलाज को मूलभूत अधिकार में शामिल कर लेंगे और सारे निजी सरकार अस्पताल फ्री में इलाज करने के लिए आदेशित कर दिए जाएंगे, तब किसी हेल्थ बीमा की जरूरत नहीं रहेगी. पर ऐसे अच्छे दिन हमको तो नहीं लगता कि भारत में आने वाला है.

पर सैद्धांतिक रूप से मैं मानता हूं कि पढ़ाई और स्वास्थ्य, दोनों को मूलभूत अधिकार बनाया जाना चाहिए. इसके बगैर हम एक सभ्य समाज सभ्य देश की कल्पना नहीं कर सकते. सबको मुफ्त शिक्षा सबको मुफ्त इलाज. दो बेहद जरूरी मुद्दे हैं. पर जाति और धर्म की राजनीति से किसी को फुर्सत मिले तब तो सोचे.

और हां, हेल्थ बीमा लेकर भूल न जाएं, इस हेल्थ बीमा को लेने के बाद किसी अस्पताल में भर्ती न होने के बावजूद हर साल कई फायदे लिए जा सकते हैं. आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट, होमियोपैथिक ट्रीटमेंट, ओपीडी, डे केयर आदि के रूप में आप हेल्थ बीमा में निवेशित राशि को सदुपयोग कर सकते हैं और बीमा कवर भी कांटीन्यू रख सकते हैं. इस बारे में बतौर बीमा एजेंट मैं ज्यादा कुछ नहीं लिख सकता क्योंकि बीमा प्राधिकरण की तरफ से एजेंटों के लिए भी गाइडलाइन है कि वे क्या क्या न करें. संक्षेप में इशारे में बस इतना कहना है कि हेल्थ बीमा में निवेश किया गया पैसा आप कई तरह से सदुपयोग में ला सकते हैं.

संपर्क- yashwant@bhadas4media.com



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code