रात नौ बजते ही एबीपी न्यूज की स्क्रीन काली होने के घटनाक्रम का वीडियो के जरिए विनोद कापड़ी ने किया खुलासा

Vinod Kapri : SHOCKED! मुझे यक़ीन नहीं हुआ जब कहा गया कि मीडिया की आवाज़ को दबाने की कोशिश की जा रही है। इसलिए मैंने अभी खुद देखा। रात 9 बजे से पहले @abpnewstv के @TataSky पर सिग्नल पूरी तरह ठीक थे।

लेकिन जैसे ही @ppbajpai का शो शुरू हुआ, सिगनल ग़ायब हो गए। स्क्रीन काली हो गई। देखें वीडियो…

वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी का ट्वीट.


इसी मामले में सोशल मीडिया से कुछ अन्य टिप्पणियां…

Sheetal P Singh आपातकाल-2 (अघोषित)

Kuldeep Raj मास्टर स्ट्रोक मंगलवार शाम को दिखा नहीं। बुधवार शाम को भी रूक रूक कर आ रहा था जबकि बाकी सारे न्यूज चैनल ठीक आ रहे थे।केबल वाले को फोन किया तो बोला कि पीछे से खराब है अब यह पीछे से का क्या मतलब है यही पता नहीं चला। वैसे सिटी केबल वाले पहले एनडीटीवी बंद रखते थे।अब सिटी केबल वाले सारे न्यूज चैनल बंद भी कर दे तो भी जी न्यूज जैसा घटिया चैनल कौन देखेगा और खाह-मखाह अपना खून जलाएगा बेमतलब की बहसबाजी में

Deepak Jaiswal बेशर्म-बुजदिल मोदी सरकार चाहे जितने भी दावे कर ले पर कल रात नौ बजे पटना समेत देश के कई हिस्सों में केबल / डिश पर ABP News के लिए अघोषित आपातकाल लागू था..

Shafik Khan भाई जी हर जगह यही हाल है हमारे यूपी जिला लखीमपुर खीरी में भी यही हाल है…

Girish Malviya : कुछ लोग पूछ रहे हैं कि रात 9 बजे जब एबीपी न्यूज़ पर पुन्यप्रसुन वाजपेयी का मास्टर स्ट्रोक आता है तो डिश /केबल के सिग्नल क्यों खराब हो जाते हैं? भाइयों इसमें हैरानी कैसी! ये मोदीजी का मास्टर स्ट्रोक है…

सौजन्य : फेसबुक / ट्विटर

इसे भी पढ़ें…

‘मास्टर स्ट्रोक’ पर सत्ता का पावर स्ट्रोक : ये सुपर इमरजेंसी है सर… बस ऐलान नहीं हुआ है…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “रात नौ बजते ही एबीपी न्यूज की स्क्रीन काली होने के घटनाक्रम का वीडियो के जरिए विनोद कापड़ी ने किया खुलासा

  • Pehle toh lgta tha sirf news channel hi kahride ja skte hai… Ab pta chala ki cable operator bhi kharide ja skte hai…..

    Reply
  • पर ऐसा भी तो हो सकता है कि ये खुद केबल काटकर नौटंकी कर रहे हों। इनकी नियत का कोई भरोसा नहीं। अगर सरकार ने वास्तव में ऐसा कुछ करवाया है तो उसका सबूत जारी करें या कहीं एफआईआर जैसा करें। आजकल नाखून कटाकर शहीद बनने की प्रक्रिया का ट्रेंड सा चल पड़ है। इनका कोई भरोसा नहीं। चोर-चोर मौसेरे भाई हैं सब। पब्लिक को मुर्ख बना रहे हैं।

    Reply
  • अमित says:

    कुछेक के मुताबिक ‘तकनीकी’ नाम का बस एक एंटीना होता है जिसे छत पर जाकर अमित शाह हिला आते हैं।

    Reply

Leave a Reply to दीपक पाण्डेय Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *