मोदी अगर एनडीटीवी को ठिकाने लगाने पर आ जाएंगे तो एक दिन का नहीं, पूरा ही ब्लैक आउट करा देंगे

Rajat Amarnath : NDTV जहाँ नौकरी पाने का पैमाना होता था कि आपके परिवार में कौन कौन ब्यूरोक्रेसी में हैं ताकि ख़बर के साथ साथ आड़े वक्त पर चैनल का काम निकाल सकें सरकार बदली तो काम निकालने वाले ब्यूरोक्रेट्स भी बदल गए डॉक्टर राय खुद कांग्रेसी हैं इसलिए उन्हीं के समय मे पनपे हैं उनकी पत्नी राधिका राय की बहन हैं वृंदा करात और बहनोई हैं प्रकाश करात जो वामपंथी हैं ये जगजाहिर है ऐसे में ये चैनल सरकारी पक्ष की तो बात करने से रहा और अब जब सरकार ने बाकी चैनलों को बख्श दिया लेकिन NDTV को एक दिन के लिए ब्लैक आउट करने का आदेश दिया तो छटपटाहट शुरू हो गई. अब इसे अघोषित आपातकाल बताया जा रहा है.  

1999 (NDA की सरकार थी) में करगिल में कुछ फौजी सिर्फ़ इसलिए शहीद हुए क्योंकि NDTV की तेज तरार्र पत्रकार ने वहीं से लाईव कर दिया जहाँ बंकर में फौजी बैठे थे. जो भी पत्रकारिता से जुड़े हैं उन सबको ये किस्सा पता है. सरकार की आलोचना होनी चाहिए लेकिन NDTV सरकार विरोधी है. NDTV प्रधानमंत्री विरोधी नहीं बल्कि नरेन्द्र मोदी विरोधी है, इसलिए सूचना प्रसारण के फैसले पर भी नरेन्द्र मोदी का फैसला बताया जा रहा है. श्रीमान नरेन्द्र मोदी तो जब NDTV को ठिकाने लगाने पर आयेंगे तो सबसे पहले अपनी टेबल पर पड़ी NDTV के काले कारनामों की फाइल निपटायेंगे. एक दिन का ब्लैक आउट नहीं, बल्कि पूरा ब्लैक आउट कर देंगे. न मैं नरेन्द्र मोदी का विरोधी हूँ और न प्रशंसक पत्रकार हूँ. मैं केवल अपना नजरिया लिख रहा हूं पूरे मामले पर. 

Dilip Mandal : एक महीने बाद NDTV अगर एक ओपिनियन पोल लाता है, जिसमें यूपी में BJP सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरती दिखाई जाती है और BSP तीसरे नंबर पर, तो क्या आप उस पर भरोसा करेंगे? करना ही पड़ेगा। लिखकर रख लीजिए। NDTV का ऐसा ओपिनियन पोल आएगा। मीडिया का अंडरवर्ल्ड! जो दिखता है, सिर्फ उतना ही नहीं होता। मैं बैन के खिलाफ हूँ।

Chitra Tripathi : किसी भी चैनल के खिलाफ सरकार की कारवाई निंदनीय है। ये अघोषित आपातकाल जैसी स्थिति पैदा करता है। लेकिन NDTV India से मेरी कोई सिंपैथी नहीं है। वैसे भी खुद की स्क्रीन काली करने वाले चैनल को.. दूसरों को नीचा दिखाने की और खुद को महानता की श्रेणी में रखने की प्रवृत्ति रही है इस चैनल की…

वरिष्ठ पत्रकार रजत अमरनाथ, दिलीप मंडल और चित्रा त्रिपाठी की एफबी वॉल से. 

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “मोदी अगर एनडीटीवी को ठिकाने लगाने पर आ जाएंगे तो एक दिन का नहीं, पूरा ही ब्लैक आउट करा देंगे

  • sanjay bisht says:

    काातिल के चैनल में काम कर चुके एंकर कम से कम किसी चैनल को रावण घोषित करने की हिम्मत न करें…

    Reply
  • NDTV Channel ko to bahut pahley hi “Black out” ker dena chahiye thha… Jo channel Desh-hit ko nahin bardasht kar sakta, Jo channel sirf “Deshdrohi Congress aur Communist” jaisi Partiyon ke Isharey par Baki ke Sarkar (govt) ke khilaf Logon (janta) me Ghrina paida karta ho, wah mee khayal se poora ka poora “Black out” ho jana chahiye…
    Iss Lafange channel ko ab “Chhati ka doodh” yaad aaney wala hai, jab Modi sab ne action liya… Bahut Modi ko Congress aur Communiston ke Utthan ke liye gariya liye bhaiyye. Par ab tumhein samajh me aa raha hoga…
    Desh ki janta sab samajhti hai. Modi-raj me Intelligence apni charam par hai. Jabsey BJP aayi hai, tabse ek bhi Bomb na kissi Mandir me, na kissi Market me Fataa hai. Nahin to Pahley (Congress kaal me) to har Diwali, Dashahra, ya yon kahen ki Hinduon ke lagbhag har Parv me Bomb Fatna hi thha, aur Kitney nireeh log maarey jatey thhe, jo ab ekdam bund hai… Yahan par to Modi ji ko Sadhuwad deni padegi, lekin in “Naqabposhon” ne apni harakkat se khud ko parey nahin rakkha hai aaj bhi….
    Regards

    Reply
  • Asli prashanshak says:

    Bahut sahi. Aajkal koi iss paale ka hai to koi usska magar bhadas sabki leta hai. Kisi se ranjish nahi aur kisi ki dosti nahi

    Reply
  • Iss desh ki sthiti aaj kya ho gai hai, iska andaza to issi bat se lagaya ja sakta hai, ki iss “Tuchchey Channel” ke paksh me desh ki sari Kainaat (Luchchey-Lafange, deshdrohi etc etc) sabhi lag gaye hain. Aur sabse ashcharya aur dukh tab hota hai, ki sab kuchh jantey-samajhte hue bhi log (Kuchh jyada Padhe-likhe aur buddhiman, jinhone khud ko SHAKTIMAN samajh liya hai) iss channel ke liye rora ro rahey hain, hai-tauba macha rahey hain, jaise inke pitaji ka ye channel ho…
    Dusra Ashcharyajanak baat ye hai ki NDTV ke sath jo bhi hua, wah sahi hai, ke “Paksh” me likhne ka “Adamya Saahas” sirf aur sirf 03 (teen) Patrakaron ne kiya.. Unhein meri taraf se Sadhuvad… ki kum se kum “Iss Andhera Kaayam Rahey” Samrajya me do-teen logon ne “Roshni” to dali….!!!!
    Yashvant ji, aap bhi ab kuchh apni taraf se likh hi daliye…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *