राष्ट्रीय सहारा अख़बार में रिटायर लोग कर रहे नेतृत्व!

  1. पीयूष बंका , यनिट हेड एवं वरिष्ठ स्थानीय संपादक, राष्ट्रीय सहारा, गोरखपुर
  2. रामाकांत प्रसाद चंदन, पूर्व स्थानीय संपादक एवं एडवाइजर, राष्ट्रीय सहारा, पटना
  3. स्नेह रंजन, स्थानीय संपादक, राष्ट्रीय सहारा, वाराणसी
  4. मनोज तोमर, समूह संपादक, राष्ट्रीय सहारा, नई दिल्ली।
  5. जनरल डेस्क इंचार्ज जिलानी, राष्ट्रीय सहारा, नोयडा
  6. दिलीप चौबे, सहायक संपादक, राष्ट्रीय सहारा नोयडा

ये लिस्ट है राष्ट्रीय सहारा अख़बार के उन वरिष्ठों की जो रिटायर होने के बाद भी अख़बार में नेतृत्वकारी भूमिका में हैं।

नए दौर में हर बड़ा अख़बार कम उम्र के लोगों को बड़े पदों पर बिठा रहा है ताकि बदलती तकनालजी और बदलते न्यूज़ सेंस को अख़बार में समाहित किया जा सके। पर राष्ट्रीय सहारा में उल्टी गंगा बहाई जा रही है।

राष्ट्रीय सहारा के ग्रुप एडिटर मनोज तोमर की सेवा निवृत्ति तिथि 8 मार्च है, लेकिन वह 31 मार्च 2022 को रिटायर होंगे। तोमर को 2 साल सेवा विस्तार मिलने की बात लखनऊ में उनके समर्थक कह रहे हैं।

ऐसे ही कई सेवानिवृत्त लोग हैं जो महत्वपूर्ण पदों पर काबिज हैं। बताया जा रहा है कि इसमें से कई लोग सीएम योगी के कार्यालय से फोन कराकर महत्वपूर्ण पदों पर काबिज हैं।



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “राष्ट्रीय सहारा अख़बार में रिटायर लोग कर रहे नेतृत्व!

  • Aamir Kirmani says:

    मेरे ख्याल से इसमें कोई हर्ज नहीं है। अगर रिटायरमेंट की अवधि पूरी कर लेने के बाद भी व्यक्ति में अगर योग्यता और हौसला है तो उसे सेवा विस्तार मिलना ही चाहिए। इससे संस्थान का भी भला होगा और व्यक्ति की भी आर्थिक और सामाजिक प्रगति हो सकेगी।

    Reply
  • सिर्फ मलाई खा रहे हैं। जो सही में अखबार निकाल रहे हैं उनकी खबर किसी को नहीं। ना मालिक को ना मेनेजमेंट को

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code