Connect with us

Hi, what are you looking for?

टीवी

पिछले 2 महीने में एक भी मीडिया समूह ने रवीश कुमार को नौकरी के लिए ऑफर नहीं दिया!

राममेहर सिंह-

रूबिका लियाकत ज़ी न्यूज़ छोड़ती है फट से “एबीपी न्यूज़” ने आफर किया और उनको वहां दूसरे दिन नौकरी मिल गई।

Advertisement. Scroll to continue reading.

सुधीर चौधरी ज़ी न्यूज़ छोड़ता हैं , फट से “आजतक” ने आफर किया और उनको वहां दूसरे दिन नौकरी मिल गई।

चित्रा त्रिपाठी सुबह “आजतक” छोड़ कर शाम में “एबीपी न्यूज़” ज्वाइन करती हैं और अगली सुबह फिर “आजतक” ज्वाइन कर लेती हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

ऐसे ही सुशांत सिन्हा साल भर ट्विटर पर ज़हर उगलता रहा उसे टाइम्स आफ इंडिया ने नौकरी पर रख लिया।

देश के जितने ज़हरीले पत्रकार हैं सब सुबह नौकरी छोड़ते हैं, शाम को दूसरी जगह नौकरी पा जाते हैं।

Advertisement. Scroll to continue reading.

देश के सबसे लोकप्रिय और विश्वसनीय पत्रकार रवीश कुमार BBC HINDI पर यह स्वीकारते हैं कि “पिछले 2 महीने में एक भी मीडिया समूह का उनके पास नौकरी तो छोड़िए। एक फोन भी नहीं आया।”

कौन यह सब कंट्रोल कर रहा है ?

Advertisement. Scroll to continue reading.

यदि आपको स्थिति समझ में नहीं आ रही तो आप अंधे बहरे और मानसिक विक्षप्त हैं।

सुभाष चंद्र कुशवाहा- बेशक, आप जोड़ सकते हैं, आरोप लगा सकते हैं कि फलाने मैटर पर रविश कुछ बोले क्या? चिलाने पर कोई प्राइम टाइम किए क्या? यह सब आपकी दकियानूसी सोच है। ऐसी सोच आपके खिलाफ होती है। इससे बचें और प्रतिबद्ध लोगों की जाति न देखें, जातिवादी नजरिया देखें।

Advertisement. Scroll to continue reading.

रामा शंकर सिंह- सच के साथ तन कर खड़े होने की क्या क़ीमत चुकानी पड़ाती है यह कायर लिजलिजा रीढहीन और झूठपसंद समाज कैसे समझ पायेगा ? जीवन भर पहले ऐसे लोग ज़िल्लत भुगतते हैं और जीवन के बाद इनके नामों पर कोई पुरस्कार या कीं विश्वविद्यालय में एक चित्र लग जाता है। धन्य हो भारत और उसका चरणचाटू पत्रकारिता प्रतिष्ठान ! नेहरू इंदिरा राजीव सबने अपने लिये चापलूस पत्रकारिता बनाई पर दास पत्रकारिता गढ़ने का पाप निस्संदेह मोदी को ही जाता है।

Advertisement. Scroll to continue reading.
1 Comment

1 Comment

  1. Ajay Yadav

    January 2, 2023 at 8:01 pm

    रविश कुमार सच्ची पत्रकारिता के माइल स्टोन है। उन्हें काम देने का किसी में हौसला नहीं है। पर उनके साथ आज भी आम मीडिया के लोगों की बड़ी आबादी है। जरूरत सिर्फ उनके आवाज देने की है। सब तन मन धन से साथ देने के इन्तजार में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : Bhadas4Media@gmail.com

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement