मुख्यमंत्री योगी से विभिन्न मीडिया संस्थानों के पत्रकार लाइन लगा कर मिले, देखें तस्वीरें

CM योगी ने पत्रकारों और नेताओं से आज अपने सरकारी आवास 5 KD पर की भेंट।

मुलाक़ात की कुछ तस्वीरें आप देख सकते हैं-

अन्य तस्वीरें देखने के लिए नीचे के लिंक पर क्लिक करें-

https://drive.google.com/drive/folders/1_nitpD5vsplOC8szqsh-kxoPeaOLJLmy?usp=sharing

https://drive.google.com/drive/folders/1SU48ToC_h3ShFpvEtRDOf-HuLTAN4NO2?usp=sharing



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “मुख्यमंत्री योगी से विभिन्न मीडिया संस्थानों के पत्रकार लाइन लगा कर मिले, देखें तस्वीरें

  • Sudhanshu kumar singh says:

    लखनऊ

    5 KD ( मुख्यमंत्री आवास ) पर पत्रकारों की जबर भीड़ है !!

    लोग बाहर से गुलदस्ता केलर जब जाते है तो तन कर जाते है “पर” पता नही क्यों अंदर पहुंचते ही रीढ़ की हड्डी झुक जाती है

    शायद गुलदस्ते का भार ज्यादा हो जाता है देते समय !!

    ( गुस्ताखी माफ़ )

    Reply
  • Sudhanshu kumar singh says:

    लखनऊ

    5 KD ( मुख्यमंत्री आवास ) पर पत्रकारों की जबर भीड़ है !!

    लोग बाहर से गुलदस्ता लेकर जब जाते है तो तन कर जाते है “पर” पता नही क्यों अंदर पहुंचते ही रीढ़ की हड्डी झुक जाती है

    शायद गुलदस्ते का भार ज्यादा हो जाता है देते समय !!

    ( गुस्ताखी माफ़ )

    Reply
  • संजय कुमार सिंह says:

    इनका नाम और संस्थान भी बताया जाना चाहिए।

    Reply
  • Vinod singh says:

    अच्छा है कोई चरणों में नहीं गिरा,जिस तरह मीडिया कर्मी झुक रहे हैं,वह बताता है की रीढ़ वाले नहीं हैं।

    Reply
  • Aamir Kirmani says:

    झुक कर सलाम करने में क्या हर्ज है मगर
    सर इतना मत झुकाओ कि दस्तार गिर पड़े

    जिन पत्रकारों को मुख्यमंत्री ने बधाई लेने के लिए बुलाया था ज़ाहिर है वह तो अदब में झुककर मिलेंगे ही, इसमें कोई खास बात नहीं है। किसी भी बड़े व्यक्ति के सामने वैसे भी अदब और एहतराम में इंसान थोड़ा झुककर मिलता है। लेकिन इतना भी नहीं झुकना चाहिए जिससे कि दस्तार यानी पगड़ी गिर पड़े।
    चूंकि योगी जी की हाइट भी कम है, इसलिए लंबे लोगों के लिए झुकना स्वाभाविक है और बड़े लोगों से वैसे भी झुक कर मिला जाता है। प्रणाम और सलाम भी झुक कर ही किया जाता है।
    यह बात दीगर है कि जिनको नहीं बुलाया गया, वे ज़रूर निराश हैं, मौक़ा मिलता तो वे सबसे पहले जाते।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code