दिलीप अवस्थी किसकी नौकरी खाने या न खाने की सलाह मांग रहे हैं फेसबुकियों से!

दैनिक जागरण, लखनऊ के संपादक हैं दिलीप अवस्थी. उन्होंने फेसबुक पर एक ऐसा स्टेटस डाला है जिसकी काफी चर्चा दैनिक जागरण में है. दिलीप अवस्थी ने अखबार के इनटरनल प्रकरण को फेसबुक पर डालते हुए फेसबुक के लोगों से राय मांगी है. वे राय मांग रहे हैं कि एक उनके अधीनस्थ ने गलती की है, तो क्या उसकी नौकरी ले ली जाए या न ली जाए. वे हवाला ये भी दे रहे हैं कि नौकरी लेने पर उस पत्रकार के पत्नी-बच्चे सड़क पर आ जाएंगे. संपादक महोदय के इस एफबी स्टेटस पर लोग तरह तरह की चर्चाएं कर रहे हैं. नीचे दिलीप अवस्थी का स्टेटस है और उसके बाद पोस्ट पर आए कुछ कमेंट्स हैं. -एडिटर, भड़ास4मीडिया

Dilip Awasthi : मैं एक बड़ी पशोपेश में हूँ. सोचा शायद इसका हल आप लोग बेहतर कर पाएं। मेरे एक साथी ने कुछ ऐसा किया है कि उनके खिलाफ एक्शन लेना बनता है। मैं जानता हूँ कि उनकी नौकरी गयी तो वह कहीं के नही बचेंगे। उनके साथ उनके बीवी बच्चे भी सड़क पर होंगे। अगर मैं उनको छोड़ देता हूँ तो यह दाग मुझे जीवन भर उठाना होगा। साथ ही इनके कारण मुझे अपमान भी झेलना पर सकता है। क्या करना चाहिए?

उपरोक्त स्टेटस पर आए ढेर सारे कमेंट्स इस प्रकार हैं…

    बी.पी. गौतम रूरल में फेंक दीजिये सर … अक्ल पैंतीस हो जायेगी

    Md Mujeeb Sir apko unko aisi saza de jisse unko saza bhi mil jae or unki family ko bhi taklif na hoSee Translation
 
    Narendra Ahuja Get a written apology…
 
    Nitin Tripathi वही कीजिये जो गीता में भगवान कृष्ण ने समझाया है
  
    Priyanka Rathore अपनी duties पूरी कीजिये सर ..!
   
    Vimalyogi Tiwari Daag uthana behtar, yateem bana galatSee Translation
    
    Devendra Misra Samany istthi lane ke liye kuch kade kadam uthane hi padte hai….See Translation
    
    Hafeez Kidwai Naukri dobara mil jaegi magar sabak dobara nai milega.
    
    Kamal Tiwari Sir galti ki hai to punishment jaroori hai lekin unki galti ki saja pariwar na bhugte to behtar rahegaSee Translation
    
    Rajeev Sharma Punish than
    
    Sidharth Mani Tripathi सर, पीठ पर लात चलेगी पेट पर नहीं, बाकी आप अनुभवी है बेहतर समझते हैं ।
    
    Sushil Shahi Bich ka rasta nikale sir..Pith par lat mara jata h pet pr nhi.
 
    Umakant Dixit Azad Nyayarth apne bandhu ko bhi dand dena dharm hai!
 
    Vijay Bahadur Pathak Saja dijiya par nukari bachate huya. Par saja aisi ho ke sandesh dur tak jai taki jo apaman jhelane ke samdhawana hai waha na ho
  
    Pramil Dwivedi क्षमादान सर

    Shaher Nama Takeed karkay chhornay ka option bhi rahta hai …usko azmayeye…ek ki wajha say saray khandan ko saza nahin dee ja sakti…darya dili ka pradarshan kijiyeye
 
    Chandan Pratap Singh दिलीप भाई…मेरे ख़्याल से …उसके घर परिवार को प्राथमिकता दें….नौकरी बचा लें….
 
    Gulab Singh माजरा कितना गंभीर है।यह तो आप ही जानते होंगे ! पर बहुत गलत होने पर भी संमान जनक तरीके से निपटा जा सकता हैं। मशलन शाँप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे।और आप जैसे साहित्य संस्थानों में काम करने वालों को,आपार ज्ञान के बावजूद किसी सलाह की जरूरत पङ रही है।यह संदेहास्पद है।
  
    Vir Vinod Chhabra दिलीप अवस्थी जी। ज्ञानी-ध्यानी कह गए हैं पाप से घृणा करो पापी से नहीं। एक मौका देकर आज़माइए। यों कुछ लोग कभी दुरुस्त नहीं होते। मेरे अंडर काम करने वाले ऑफ़िसर से मैंने एक विशेष फाइल सेक्शन से जल्दी करवा कर लाने को कहा। फिर पीछे-पीछे ये सोच कर मैं भी चल दिया कि वहीँ सेक्शन में बैठ कर निपटा दूंगा फाइल। जल्दी का उद्देश पूरा होगा। जब मैं सेक्शन पहुंचा तो देखा दरवाजे को थोड़ा खोल कर वो सज्जन कह रहे थे – वो फाइल जल्दी निकालो भूतिनी के छाबड़ा जी मांग रहे हैं। हालांकि जैसे ही उनको अहसास हुआ कि मैं पीछे खड़ा हूं उन्होंने माफ़ी मांग ली मैंने उन्हें माफ़ भी कर दिया। लेकिन उसके बाद मुझसे नज़रें मिला कर बात नहीं कर सके। मैं तो रिटायर हो गया। लेकिन वो अभी वहीं हैं। कतई नहीं बदले हैं। हां ऑफिसर्स के लिए ग़लत लफ्ज़ इस्तेमाल करने से पहले एक बार आगे-पीछे देख लेते हैं।
   
    Sanjeev Mishra samay balwaan hota hai , pahle galti ho to maff kariye,
    
    Nishi Trivedi Vipra सर आप जो भी करेंगे अच्छा ही करेंगे
    
    Suresh Lodhi बच्चो का जरुर धयान रखे
 
    Avneesh Shukla One chance jarur dejye sir….
 
    Krishan Saith neki kar bhool ja vala hi better hoga lekin kuch to yadgar saza honi chahiye
  
    Rajiv Tiwari Baba Kshama baran ko chiye. Chhotan ko utpat.
   
     ऋषि मिश्र aapki ye pashopesh bata rahi hai sir ki aap unko maaf karna chahte hai.job profile badal de unka aur ek mauka de plz.
 
    Anuj Bajpai Bhaiya aapne jitna naam , shohrat gernalism mai kamaya hai shayad hi kisi n kamaya ho aap aisa koi bhi decision na lijiyega jissey aap ki position , aap se koi sawaal kar paaye.
 
    Vikash Singh Pith pe lat to chal jayegi par pet par lat mat mriye.
  
    Praveen Singh Justice needs courage.
   
    Azhar Husain Farooqi par pet par lat mat mriye.
    
    Krishan Saith sahas ke bina to kuch nahin , lekin apni izat ke age kuch nahi hota insan izat ke liye hi to sab karta haiy
    
    Praveen Singh Exactly.
    
    Sanjay Sachin M please give promotion as their KRA’s give them plenty of resposibilties….Superstuff way of punishment   
    
    Praveen Singh Kick upwards?
    
    Mahendra Agrawal Janbujh kar galti kar raha hai to use iska ehsas to karana chahiye
    
    Krishna Kumar Sharma दिलीप भाई…मेरे ख़्याल से …उसके घर परिवार को प्राथमिकता दें….नौकरी बचा लें….
    
    Praveen Singh Root cause of Indian greatness… ‘चलता है’ attitude.
    
    Krishan Saith SHASHAN AUR PRASHASHAN KE MAMLE MAIN UNCH NEECH UCHIT ANUCHI SAB ATA HAIY, LEKIN NIRNAY TO LENA HI HOGA ,VIPPTI ANE PAR PAHLE APNE HI KO DEKHTA HAIY INSAAN , KUCH BHI HO LEKIN APNE KO BACHA KAR
    
    Vikas Mishra Sir aap unke gunah ke sath sath unke nirapradh pariwar walo ko bhi dekh rahe h es liye nyay karne me aapko muskil ho rahi h waise unki galti ke anusar sabak de ke chamadan karne se hi aapko santosh milega aisa mai samghta hu aapke bare meSee Translation
    
    Anurag Kumar Ask Lord Krishna
    
    Usha Rai Kya mistake hua ye to aap ko hi pata hai sir aap kuch. Aisa kariye Ki use paniment bhi mille usko road pe n aana page because use apni galti ka Bodh. Ho kyon Ki kuch log apni gunaho sabak n lekar apne bibi bachon ko bhi saja dete hain. Jisk hakdar vo nhi hote
    
    Dinesh Pandey Unhey chetavni antim deker maf kar dijiye.
    
    Ali Miyan Sir ji kuch aisi nasihat unke pariwar ka khayal karke aap unhen de jisse unko apni galti ka ahsas bhi ho jaye aur unka pariwar bhi bacha rahe..
    
    Ravi Mathur To forgive is divine
    
    Izhar Ahmad Ansari Unka ithas aur niyat kaise rahi hai…? agar pajle bar …to mafi mile, warna saza..?
    
    Prabhanjan Kumar Shukla patrakarita ki dunia bahut choti hai sir, kuch bhi kadam uthayen lekin us par aapko atamglani na ho, vaise galtiyan to har vyakti se hoti hain, baki aapko salah dene ki na meri umra hain aur na samagh.
    
    Anand Dubey Sir hum ko lagta hai usko aap maaf kar de kyo ki marne wale se hamesha bachane wala bada hota hai aap par jo daag mahsus kar rahe vo daag uske pariver se bade nahi ek ki galti uske parivar ko nahi di ja sakti rahi bat aap ki to ye aap ki galatfami ho sakti hai p aap usko jane do humlog aap ke sath haiSee Translation
    
    Samir Gupteshwar Singh अगर पहला अपराध है तो रुसवाई उठाकर उसके बाल-बच्चो के लिए नौकरी बचाते हुए दंड दिया जा सकता है ,अगर यह प्रवृति है ऐसा गुनाह करना आदत बन गई है तो बिना रहम कठोर दंड की जरुरत है ।

    Hemant Srivastav sir. galti ki saza to banti hai. aap saza de. meri samajh se saza aisi honi chaiya ki we sharmsar ho aur future me waisi galti na kare. saza naukari lene ki jagah kuch aur bhi ho sakti hai
 
    Vaibhav Maheshwari असमंजस की स्थिति तो है
 
    Ranjeet Singh Rathour very good thinking
  
    Brijesh Chaturvedi Dilip Ji Jagran Me Kai Udaharan Maujood Hain, Jinme Galti Par Action Bhi Hua Aur Naukri Bhi Bach Gayi. Kanpur Me Ramkrishn Gupta Ke Mamle Me Mere Samne Bhi Yahi aubat Thee. Unhe Chief Sub Se Basic Par Karke Naukri Bacha Dee thee Maine. Bahut Baad Me Ve Amar Ujala Chale Gaye They
   
    Madhvendra Dwivedi (“सुनी कृपाल अति आरत बानी एक नयन करि तजा भवानी” किन्ह मोह बस द्रोह जद्यपि तेहि कर बध उचित!! प्रभु छाडेउ करि छोह को कृपाल रघुबीर सम!!(अरण्यकान्ड,सोरठा-2)) अनुसरण करे!
    Laxmi Kant Singh Dekhiye Aapka samman aur swabhiman bhi rahna chahiye aur karmchari kajob bhi. Unki galti yadi sthapit ho chuki he to unse spastikaran aur maafinaama lijiye apni vastu sthiti parak Akhya dijiye tab poore mamle ko khyamdaan hetu apne prabandhan ko sansut(recommend) kar deejiye.Bhagwan chahenge to sab theek ho hi jaayega.
 
    Asheesh Bajpai Rahnay dijiyay sir…patrakaar waisay hi samaj may daba kuchla hai….aarthik pariwarik samsyon say jhoojhta rahta hai …..galti to sabsay hotee hai..
  
    Abhinav Mishra Simple agar daag lagne se kuch accha hota hi to daag ache hi. Pr aap unhe 15 ya 20 din ki chutti pr bhej de jiski salary unko ba di jaye yeh unki galati ka punishment hi jo unhe ehsas karata rahega.See Translation
   
    Ajay Sharma गीता पढ़कर आगे का मार्ग तलाशे
    
    Aq Zaidi It is submitted that you should avoid taking action against your friend. Warn him and give him a last chance and protect him and his family form dire consequences. God will give your its reward.
    
    Pradyumna Tewari dand bhi de dijiye, naukri bhi bacha lijiyeSee Translation
    
    Ajayendra Rajan Shukla Jab tak asal marj ka pata na ho tab tak dawa kya batayein???
    
    Anand K Tripathi transfer…karyvai bhi aur sadak per bhi nahi ayenge…
    
    Krishna Dev Mishra Yogesh agar galti sudharne laayak ho to mauka milna chahiye…. mere nazriye se rozi roti chheen lene ka daag chhod dene wale daag se bada hai….!See Translation
    
    Anand K Tripathi mamala agar lenden ka ho to phir puri tarah se professional faisala hona chiye…
    
    Anand K Tripathi hai to dhramsankat hi
    
    Manoj Kumar Mishra dil ki sune jija ji… kabhi kabhi ahsaas karane ke baad maaf karna bhi badi saza hoti hai aur daag ka bhi khatra nahi lekin ahsaas jarooriSee Translation
 
    Krishna Dev Mishra Yogesh @Gulab singh ji chhama karen… EK SANVEDANSHEEL EDITOR ne apni manodasha batate hue nirnay ka aadhar chaha hai…. kya gyani purush kartavya vimoodh nahi hote…! ye to dilip sir ki sdayashta hai ki corporate track per khade ho rahe jagran me ve professional faisla nahi lena chahte…. sawal rozi roti ka hai…!
 
    Pratap Dixit आदरणीय भाई, यदि आप वास्तव में सलाह चाहते हैं, तो आप एक रचनाकार-पत्रकार होने के कारण निश्चित तौर से संवेदनशील हैं। संभव है कि ‘जीवन भर उठाने वाला दाग’ बाद में धूल जाय, वह शख्स खुद छोड़ कर चला जाय, बादल जाये। लेकिन उसके खिलाफ एक्शन लेने से यदि उसके बीबी-बच्चे (आज की बेरोजगारी का समय में) सड़क पर आते हैं, तब उनका कुछ भी हो भविष्य में आप स्वयं अपने आप को माफ नही कर पाएंगे।

    Surendra S Rajput Dilip bhai aapka sammaan rahega to aap kaafi logo ki help kar paayenge,apmaan janak isthiti me rehkar naa to aap unki na kabhi kisi aur ki naa hi apni koi help kar paayenge.
 
    Guru Misra muje lagta hai use uski galti ka ehsaas karaye….
 
    Baljeet Srivastava Meri drishti me naukri bacha kar saja jroor dijiy taki doosra galti na Karen.

    Vishal Singh SIR FORCE LEAVE BHEJ DE YA SALARY KT DE.BIWI BACHHO NE KUCH NAI KYA HAI.CHAMA KRNE WALA MAHAN HOTA HAI

    Shekhar Joshi Bhaiya maafh karne vala galti karne vale se bara hota hai .usse maaf kardigeye upper vala usko aapne aap saja de dega. Agar aap uuse nikal dete ho to usska pariwar bhookha mar jayega aap ki vajah se uska pariwar chal raha hai

    Farzand Ahmed दिलीप भाई: कहते हैं कि सजा देने वाले से माफ़ करनेवाला बड़ा होता है. मगर आप एक बड़े पत्रकार हैं. सब कुछ मुनहसिर करता है पाप और अपमान के nature पर. क्या एक जज इन्साफ करते वक़्त यह सोचते है कि सजा के बाद बाल बच्चों का क्या होगा? अगर ऐसा होता तो किसी मुजरिम को सजा होती ही नहीं. इसलिए आप सजा अपराध के हिसाब से कीजिये ताकि दूसरों को नसीहत मिल सके.
 
    Shivamm Tripathi माफ करने वाला हमेशा बड़ा होता है सर
 
    Jambu Chopra Jain Apko salaah nhi de sakta mai, qki aap anubhavi hai, aur bade bhi … … Lekin pls remember 1 thing ki.. Saza dene ki vayvastha isliye ki gai hai ki- galti karne wale ko uska ahsaas ho sake. Sajaa dena jaruri nhi hai. Saza ka uddeshay pura hona jyada jruri hai .. Aur galti to manav se swabhavik hai. Agr wo aage se same galti na dohrane ke liye kati- badda ho to pls maaf karna banta hai.See Translation
    
    Divyanshu Srivastava Respected sir… uski galti pehli hai to use ehsas karwa kar chetavni de kar chhod dena chahiye ki aainda aisa huaa to baahr ho jaaoge…
    
    Neera Dubey माफ़ कर देना चाहिए सर उसके बीबी और बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखकर सर वैसे सर आप तो खुद ही इतने विद्वान हैं आपको हम लोग क्या राय दे सकते हैं
    
    Rachna Verma SIR USE GALATI KA AHSAS IS TARAH KAREYE KI VO KHUD HI APPKE SAMANE HUMESHA KE LIYE SHARMINDA HOKAR AISI GALTI NA KARNE KI KASAAM KHA LE KYOKI JOB JANE SE USKE PURE PARIVAR SE JUDE LOGO KO TAKLIF HOGI. KAI BAAR LOG DEPRESSION MAIN JAAN DENE PAR BHI UTARU HO JATE HAI. AAGE AAP KHUD SAMJHDAR HAISee Translation
    
    Deeksha Chaturvedi Sir let Justice be done .. That which is unjust can really profit no one; that which is Just can really harm no one.
    
    Anurag Shukla dand bhi de dijiye, naukri bhi bacha lijiye
    
    Anil Bhardwaj kshama badan ko chahiye…
    
    Humair Mohammad Badla lenay waley saybada maaf karnay wala hota hai.
 
    Prashant Sharma Sunny सर! आपने हर पहलू पर विचार कर लिया है। आप जानते हैं कि अगर आप एक्शन लेते हैं तो उक्त व्यक्ति ही नहीं पूरे परिवार पर इसकी चोट पहुंचेगी। आपने कोई कार्रवाई करने से पहले इस बारे में इतना सोचा ये ही बहुत बड़ी बात है। सर मुझ नाचीज की सोच है कि जिस भी व्यक्ति से गलती हुई है, उन्हें माफ कर देना चाहिए। मगर उक्त व्यक्ति को इस बात का एहसास जरूर करा दीजिए कि आज वो नौकरी पर अपने “परिवार” की वजह से है, “व्यवहार” की वजह से नहीं। ताकी भविष्य में वो ऐसा बर्ताव न करें, जिससे आपको या किसी अन्य को ठेस पहुंचे।
 
    Sunil Bajpai भाई अच्छे बुरे कर्मों का फल इंसान को इसी संसार में किसी न किसी रुप में अवश्य भोगना पड़ता है। वह भी किसी शंख ,चक्र और गदा वाले भगवान के रूप में नहीं बल्कि इंसान के ही रूप में उसके द्वारा ही भुगवाया जाता है क्योंकि आजतक ऐसा नहीं देखा गया कि कोई शंंख चक्र और गदा वाला भगवान उसे दंड देने के लिए साक्षात आया हो। अगर आया भी तो वह भी मानव के ही रूप में। अगर आप संसार के संचालन की ईश्वरीय व्यवस्था में यकीन करते हुए तो इसका निर्णय अपनी अंतर्रात्मा की आवाज पर ही करें। अगर इस पर भी अनिर्णय वाली स्थिति है तो फिर यह विचार करिये की आप की सांस कैसे चल रही है? क्या आप उसे बाजार से खरीद कर लातें हैंं? नहीं ना । मतलब कोई है जो आपको सांस दे रहा है। उसके इस देने के बाद ही संसार में आपके सारे लेने देने चल रहे हैं। अगर वह १० सेकेंड के लिए भी आप को सांस देना बंद कर दे तो आपके सारे लेने देने अपने आप बंद हो जायेंगे। मतलब कोई है जो संसार चला रहा है। हम या आप वह सत्ता नहीं हैं। हम या आप अपने को वह सत्ता तब माने जब भूख तभी लगे, जब हम चाहें,प्यास तभी लगे जब हम चाहें यहां तक कि हमारी मौत तभी हो जब हम चाहें। लेकिन ऐसा नहीं है। कहने का आशय यह है कि कर्ता कोई और है लेकिन हम उसे खुद को मानते हैं। अगर खुद को कर्ता मानना बंद कर दें तो शायद वह सवाल नहीं उठेगा जो आपके सामने उठा है।

    Anand Shukla उसके कर्मों के आधार पर ही मूल्यांकन करें , यदि वह बार बार ऐसा नहीं कर रहा है तो चेतावनी ही उचित होगी ; यदि वह लगातार ऐसा कर रहा है तो निकालने के अतिरिक्त जो कठोर दण्ड हों उन्हें इस चेतावनी के साथ दिया जाय कि अगली बार नौकरी चली ही जाएगी !

    Shambhu Dayal Vajpayee दाग समय के साथ धूमिल हो जाएगा । चेतावनी देकर छोड दीजिये। नौकरी से बडी अपरिहार्य स्थिति में ही निकालना चाहिए।

    Harshvardhan Tewari forgive & forget… visit his home & reprimand him in front of his wife

    Mani Prakash Srivastava तिवारी जी, एक ही बात को कई बार क्यों कहा?

    Mani Prakash Srivastava भाई साहब, मान सम्मान , ईगो इत्यादि सिर्फ़ दिमाग की सोच है। इस दिमागी सोhc को पूरा करने से अगर किसी के बीबी बच्चे सड़क पर आते हैं, तो यह सही नहीं है।
    छोड़ ही दीजिए। दाग लगता है तो लग जाने दीजिए। क्योंकि सर्फ़ एक्सल वाले भी तो रोज चिल्ला – चिल्ला कर कह रहे हैं कि दाग अच्छे हैं। और सर जी, एक्शन तो बहुतों के खिलाफ़ हम लेना चाहते हैं, तो क्या य्ह जिन्दगी एक्शन लेने में ही बिता दी जाए?  जब हम सड़क पर चलते हैं तो रास्ते में गड्ढे भी मिलते हैं, लेकिन हम गड्ढों से बचकर निकलते हैं ना और उनको avoid करते हैं। उसी तरह जीवन में भी चाहे वो निजी जीवन हो या आफ़ीशियल, नकारात्मक लोगों को करें, क्या? AVOID.

    Divya Sandesh आदरणीय अवस्थी, आपने गीता जरूरी पढ़ी होगी। जिस दुविधा में आप हैं, उसी दौर से अर्जुन भी गुजरे थे। भगवान श्रीकृष्ण का गीता सार आपकी समस्या का सम्पूर्ण इलाज है।

    Shivendu Dwivedi Sir aap ki post aur baato se samh me aata hi ki aap swasth maanaikta ke wyakti hi atah her samaya ka nidaan hota hi aap beech ka rasta khojiye jaroor hoga unki galti ka unko ahsaas karwaiye unki naukri na jaane paye isme unka saport kariye aur mudde per khul ker unse baat karne per hel jaroor niklega .jaha se aapko lagta ho ki lanchan aur daag aap per lag raha hi waha per apni baat kul ker kariye.
 
    Sudhir Panwar Common situation faced by good human being in administration. But ultimately yours human instinct will prevail,termination of service is hardly a solution but punishment only.You may provide chance to reform..
 
    Pankaj Awasthi आदरणीय, पहले तो ये तय कीजिये की मसले का समाधान दिल से होना चाहिए या फिर दिमाग से ? अगर यह फाईनल कर लिया तो समाधान निकल आएगा, यह तय करने के लिए उस व्यक्ति से अपने संबंधों का आंकलन करिये !!!See Translation
  
    K.k. Nigam Sarvjanik taur par use uski galti ka ahsas karate hue use ek antim chetavni deni chahiye.. ASA mera manna hai… Baki sir aap khud hi prachand vidwan hai…

    मुनालश्री विक्रम बिष्ट बुरे कर्मो का साथ देना भी बुरा होता हे ,यदि उसके बालबच्चों को नौकरी मिल सकती हे उनका बुरा नहीं होता तो दंड जरूर मिलना चाहिय ताकि अगला इंसान गलती न कर सके। ……… बाकी आपकी अंतरात्मा जो कहे

    Atul Chandra Sarkar This is a day to day part of my job. If you right a wrong you do a greater wrong. Be without bias and prejudice and comply with rules/regulations without discrimination. If you don’t scold your child when he brings someone’s pen at home, you encourage him to repeat the wrong again. Had our seniors/elders stopped all such things in the past, today we would not have become genetically corrupt. So go ahead with your head not heart and remember any punishment hits family members too. Family members can not be allowed to spared from indirect punishment when they had been a part of the employee’s good (corrupt) times.
 
    Vinayak Vijeta sir, agar unki ye pahli galti hai to chetawani dekar chor dene me aapki mahanta hogi….See Translation
 
    Upmanyue Mathura Jo krishna ne arjun ko kaha vahi me aap se kahta hun. Antim nirnayak aap he honge. “shatham shathye samacharet”.
  
    Mukesh Mishra eska hal ek hi hai ki us sathi ko apna apradhbodh karaye ager usko apna apradhbodh ho jata hai to theek hai aur usko chode de ager aisaa nahi hotaa hai to action le ligiye kyoki Vinash kaale vipreet buddhi !!!!!!
  
    Pankaj Rai daya Shiv Shankar Sonwal Ab,Aap apne Vivek se nirnay le sakte hain ! ho sake to maaf ka dein…..apne faisale se humlogon ko bhee avgat karaayein…..Aachchha Lagega !…..
    
    Shivaa Kant Ho sake to paristhitiyon ko samajh kar achhe she analyze karein….khaamiyon ko doorr Karen , Galti karne waale ko door Na karein….ek mauqaa shayad unke jeevan me Buddhi aur VIVEK Ka sanchaar karey aur WO ek behtarr insan bann sakein apne workplace par……
    
    C.l. Verma gad n aapko powar diya hai inshaf karne k liye mera manana hai karwahi karna uchit hoga our eska asar smaj m jayega.
    
    Sanjay Tripathi sar ganbheer dand dekar nookri bache to accha
    
    Pankaj Rai Dilip sir, every one knows you very well and you need not to prove any thing in front of anyone. You and your family has a excellent record of respect which was earned by you people, so, if possible shift him to else place and share his deeds with some people who matters so that people should know why you had pardon him. It is must and it should be shared to whom you trust and they matter in society.
    
    Arun Gupta sir koi beech ka rasta nikaliye
    
    Sushil Doshi save him for famely… galti to insan se he hoti hain jo maaf kare wahi accha insan hainSee Translation
 
    Astro Shyam S Nagpal Sir Uski naukri mat le faimly suffer karegi per galti ke liye punishment de aur writing me us se dobara galti na karne ke liye likhwaye.
 
    Manoj Tomar use temporart and short term punishment dekar chhod dijiye
  
    Anil Mishra Dil aur Dimaag ke Dvand mein Dil ko jita dijiye….kyonki shayad dimagi jeet thodi der ki liye sakoon de…par dil ki jeet life time sakoon degi…kyonki agar uske parivaar ke future barbaad hua to..???? …sorry sir…chota munh badi baat..
   
    Mahesh Donia Dilip Sir main aapko India Today ki dino se janta hoon. Mera namra nivedan. Uss vyakit ko bachon ki khatir maaf kar dijiye lekin usse iss baat ka ehsas kara kar.
    
    Pramod Srivastava सर आपने यह तो लिखा नही कि उन्होने गल्ती क्या की। पहली बार की या फिर कई बार कर चुके है। गल्ती है कैसी। यह सब जानने के बाद ही निष्कर्ष लिखा जा सकता है। वैसे आपको राय देना सूरज को रोशनी दिखाना जैसा होगा आप खुद समझदार है जो उचित हो वही करे।

    Alok Pande sudharne ka mauka dena chahaiye jab aap is duvidha me hai to .
 
    Imran Irfan mujhe lagea hai ek mauka aur dena chahiye sirrr
 
    Shirin Abbas Ever heard of the kind cruelty of the surgeon’s knife–I don’t believe in meaningless martyrdom. U cannot be the nice guy all the time–sp not when u r in an administrative position– DO IT!
  
    Anuj Awasthi Ye apko pata hai kya krna hai.agr aapne aj glti kr di. To plz ek biography or nhi jhel skta.
   
    Manoj Mishra तगड़ी डाट पिला कर चेतावानी के साथ छोड़ दे।
    
    Yogesh Mishra daya aur kartavya ke madhya chayan hai .. Critical Situation . unable to suggest.
   
    Shivshankar Nigam गलती क्या की है और किस प्रकार की है और वो आपका कितना नजदीकी है उसके बाद ही कुछ कहा जा सकता है ।

    Wali Siddiqui before advising anyone people should better know the seriousness of mistakes and misdeeds…you have to decide the fate in accordance to the seriousness of the matter…
    
    Jitendra Upadhyay Sabhi ko uske krmo ki saja to milti hi hai, jo jaisa karega vahi bharega
    
    Mradul Arora Respected Dilipji mai apka follower hun aur aap ek sammanit vyakti hai.ab sochna ye hai ki jis mitr ne ye sthithi paida ki hai usne kya kabhi apke bare me socha ya sirf apka fayda uthaya.uski galti ke liye apko sharminda hona padega.Nahi aap sakht action le aur ek missal bane jiske liye aap jane jate hai.See Translation
    
    Anand Agnihotri अनुशासन जरूरी है, लेकिन मानवता के नाते क्षमा करना भी आपका धर्म है। आप पर दाग लगेगा, लेकिन अच्छे टीम लीडर की यही पहचान है कि वह खुद दाग सहन कर सकता है लेकिन अपने आश्रितों को सुरक्षित रखता है।
    
    Manish Mishra जब आप ने इतना सोंचा तो उसे एक सुधरने का मौका दे

    Parvez Ahmed sawaal ye hei ki ghalti kis level ki hei aur us ghalti se kiska kitna nuqsaan hua hei ? kya us mitr ko apni ghalti ka ahsaas hei ? sab kuchh taulne ke baad hi faisla kiya ja sakta hei.
 
    DrVarsha Deeppak Main Mahesh Donia and Pankaj Rai ji ke vicharo se poori trh se sahmat huSee Translation
 
    Sanjeevmohan Sharma No one in this world is sactify n guiltless. If u punish people for there mistakes u will always be alone in this world. So judje less n love more. It is simple but difficult. Maine apni maa ke ek hatyare ko maar diya par uske baccho ka hall dekh bako do ko chor diya. Maaf karke dekhiye bada sukoon milega sir.
  
    Mukul Misra gita ki taraf nihare ,yudha me koi apna ya praya nahi
   
    Ibnehasan Pervez Hasan uski beevi say baat kare sari asliyat saamne rakhe agar uski samag mai aata hai to sara kissa net per daal de take aap badnami na ho aur uske ghar barbadi na aai
    
    Abhishek Tripathi सर प्रणाम. अगर आपके किसी सहयोगी या मित्र ने कुछ ऐसी गलती है तो आप एक्‍शन लें। एक्‍शन कुछ ऐसा लें कि उनकी नौकरी भी न जाए और उन्‍हें अच्‍छा सबक भी मिले।See Translation
    
    Akhilesh Shakya Journalist Sir aise to is masle ka hl nahi nikle ga jab tak aap ye nahi bataye ge ki aap ke mitra ne galti kaun si kardi , aur ek question other person hota to aap kya krte.See Translation
    
    Jitendra Jaiswal Sir Agar Apko Lagta Hai Ki, Usski Galti Usske Pariwar ki Bhi Galti Hai Toh Aap Jarur Action Le Aidar iss Dunia Mai Saaza Dene Dene Wale Se Maaf Karne Wala Bada Hota Hai.
    
    Brijendra Pratap Singh जमीर की आवाज सुनिए। दंड दीजिए। अन्यथा उसकी अपराध की आदतें वैसे भी एक न एक दिन परिवार को सड़क पर लाएंगी।
    
    Sanket Mishra sr..vah swaabhimaani honge to apni galti ka ahsaas kr khud chale jayenge..aur agar esa nai karte to sr unko jabran dhona behtar nai hai….sayad apke hatane se unko apni galti ko samjhe aur sudhar kr aage badhe..yah unke liye bi behtar hai sr..
    
    Vivek Kumar Mishra एक बार एक दोस्त के यहां खाने को कुछ भी नहीं था। वह इस आस से अपने रिश्त्ोदार के यहां गया कि कुछ वहां से मिल जाएगा तो कुछ दिनों के लिए पेट की भूख मिट जाएगी लेकिन वहां जाकर उसे निराशा ही लगी। वह उसके बाद अपने दोस्त के यहां गया और उसने अपनी स्थिति से अवगत कराया तो दोस्त ने बिना सोचे समझे उसके पास जो कुछ था उसने अपने दोस्त को दे दिया और कहा जरूरत पड़े बिना हिचक के यहां आ जाना यह अपना ही घर है। तक उस दोस्त को यह अहसास हुआ कि दोस्ती का कोई मूल्य नहीं होता। आदणीय सर अब क्या करना चाहिए। नमस्ते
    
    Neeraj Tiwari agar wo galat hai to saja dijiye sir
    
    Prafulla Kumar Tripathi Aap qwqm-q-qwah zahamat utha rahe hain public opinion poll ka…Are jo tumko (Malik of Jagaran) ho pasand wahi kaam keejiye.!
    
    Amit Kumar DUTY FIRST Dilip Ji. No compromise with conscious.
    
    Mohd Anwar Badshah अगर उन्होने कोई ऐसा काम किया है जिससे आपको थोडी सी परेषानी का सामना करना पड सकता है, कि लेकिन उनके परिवार में काफी परेषानियां आ सकती है, मेरा मानना है कि अगर जुल्म माफी के लायक है तो उनको मांफी देना बेहतर होगा, क्योंकि एक व्यक्ति से कई मसूमों को सजा देने के बराबर होगा, उनको हिदायद के आगे से ऐसा कतई न करें।
    
    Sanjeev Yadav sir mafi agar maf karne layak hain or agar wo kewal aap se judi hain to maaf karne layak hain lkin agar unhone profession se mazak ya galat kiya hain to saza milni chaihye.See Translation
    
    Mani Prakash Srivastava ऐसा लग रहा है कि यहां महाभारत का युद्ध चल रहा है और सभी कमेन्टकर्ता स्वयं को श्री कृष्ण और अवस्थी जी को अर्जुन मानकर उपदेश पर उपदेश दे रहे हैं। भाई लोगों अवस्थी जी किसी युद्ध पर नहीं जा रहे हैं जो आप लोग उन्हें गीता सदृश उपदेश दिए जा रहे हैं। भाई लोगों एक बात जान लीजिए कि फ़ेसबुक एक मनोरंजन की दृष्टि से बनायी गयी यूजलेस चीज है। यूजलेस समझते हैं ना? इस पर मनोरंजन करें। समस्यायें तो हम रियल वर्ल्ड में नहीं सुलझा पा रहे हैं, तो फ़िर इस वर्चुअल वर्ल्ड पर क्या सुलझायेंगे। धन्यवाद।

    Mani Prakash Srivastava अवस्थी भाई साहब, कृपया ध्यान दें, आपने अपनी पोस्ट में कहा है कि आपके एक साथी ने कुछ गलत किया है। तो साहब साथी का गलती करना तो बनता है। साथी की गलती पर उसे गोली थोड़े ही मार दी जाती है।

    Manoj Panecha To kyaa socha aapne itne jawab ke baad Ki kyaa Karna chahiye….

    Sudhanshu Dwivedi सर गलतियाँ तो आपने भी की होंगी। आपको भी माफ़ी मिली होगी। जब आप जानते हैं कि सजा उनका परिवार भी भुगतेगा तो ऐसी सजा ही क्यों देने की सोच रहे हैं। अनुशासन बनाए रखने के लिए सिर्फ उन्हें सजा दे। अवश्य दें ताकि आगे से वे और अन्य ऐसी गलती न करें। और आप भी अपमान से बचे रहें।वैसे भी अब तक उन तक यह खबर पहुच गयी होगी कि आप मामले पर गम्भीर हैं। समझदारी दिखाते हुए उनको खुद आगे आकर माफ़ी मांगकर गलती न दोहराने का वचन देना चाहिए। सादर,
    
    Vimaal Kishore awasthi ji ap husko maf kar de ap ak Ghana par ha ak pata tut bhe gaya apka kuc nahi hoga bha sirf ak papta ha bhe tut kae uska bajud khatam ho jaga` awathi ji
    
    Kr Ashok S Rajput must issue warning against him in public manner for time being put him on side line…Dileepji in latter, pardon that guy for his blunder…..act n action against colique an big brother n parent too…
    
    Dharmendra Bhatt Aapko use maaf kar dena vhahiye.
    
    Vinod Kumar Singh Aapko use maaf kar dena chahiye sir ji
    
    Upma Singh एक्शन लीजिए सर, नौकरी रहने दीजिए
    
    Anupam Jaiswal ab tak to galti karne wale ko bhi ahsas ho gaya hoga ki uxne kitna bada apradh kar diya hai aur wo iske liye guilty mahsoos kar raha hoga lekin jab galti kisi pariwar par bhari padne wali ho to sakht hidayat ke saath ek bar maf kiya ja sakta hai….
   
    Sarita Pandey Sir unki galti kis tarah ki hai .choti moti hoti thu uska jikra hi na hota ha kuch aisa kiya hoga Jo aapne rai mange hai .rahi unka pariwar kya dosi hai us saja ke liye ye pata ker le .khun .rape .gaban ab ager es se niche koi apradh hai thu chhor dejeye varna sabk ke action lijiye… Rahi bat dag ki thu WO na soche asharam bapu ko dekhe ha unko warning jarur de es se WO bhi ahsan manege aur aap bhi pap se bach jaynge… Acha dost wahi hai sudhar sake…   



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “दिलीप अवस्थी किसकी नौकरी खाने या न खाने की सलाह मांग रहे हैं फेसबुकियों से!

  • 1-jo adhikaari khud nirnay nahi le saqta use pad ka tyaag karna chahiye
    2-jo moorkh bina maamle ko samjhe chatukaarita me daawanal ban rahe hain…woh dayaa ke paatra hain
    3-awasthi ji aapne kabhi galti nahi ki to sakshat dev hain…nahi woh bhi kum hai yaani dharmraaj hain…yadi aisa nahi to mugal badsah alauddin khilji ki tarah jagran ya anya sansthaan ne aapko kitni baar chauraahe ier saja di hai..aatmlochan karen
    4-aap hi jaise chand logon ne patrakaaron ko jokar bana rakha hain..koi bhi prabudh varg aapki mano dasha per jagaran jaise sansthaan ki aukaat aank raha hoga
    5-aap jaise badbole log kisi ko chhadik chot to pahuncha saqte hain leqin ek pariwaar ka bhawisya tay karne ki qoowat aap me nahi
    6-aap bhi ek naukar hain…kisi ke bhagya vidhata nahin..un bachhon ki charch karte aapko lazza ki anubhooti bhi nahi ho rahi hai jo aajki kutil patrakarita ki ABC bhi nahi jante
    6-agar ho sake to doosron ko sabak sikhaane se pehle apne tamaam chaatukaaron ko sadbudhdhi pradaan kariye
    7-ant me bas itna hi ki aap sakaratmak roop se aadarsh prastut karen jisse galtiyan door hon, galti karne wale nahi…jindgi jodne me arthpoorna hai..todne me nahi

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code