Connect with us

Hi, what are you looking for?

सुख-दुख

दंगे से बरेली को बचाने वाले आईपीएस अफसर प्रभाकर चौधरी का सीएम योगी ने कर दिया तबादला!

आईपीएस की नौकरी में पिछले 13 वर्षों के कार्यकाल में प्रभाकर चौधरी का आज 21वाँ ट्रांसफर हुआ. मेरठ में सिर्फ 1 साल का लंबा कार्यकाल पूरा किये. बाकी 6 से 7 माह अधिकतम. उनकी ख़ासियत यह है कि वो गलत काम बर्दाश्त नहीं करते और दबाव में आए बिना कार्यवाही करते हैं. आज बरेली में हुए घटनाक्रम के बाद उनका एक बार फिर ट्रांसफर कर दिया गया. जानिए बरेली में हुआ क्या…

राजेश साहू-

Advertisement. Scroll to continue reading.

आज बरेली में तय रूट से अलग रास्ते से जाने को लेकर कांवड़ियों ने हंगामा किया तो एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने लाठी चार्ज करा के उन्हें नियंत्रित किया। एसएसपी ने बताया कि कुछ कांवड़िए नशे में थे, उनके पास कट्टा भी था।

इतना कहने के बाद एसएसपी प्रभाकर घर भी नहीं पहुंचे होंगे कि उनका ट्रांसफर कर दिया गया। पिछले 10 साल में उनका 21 बार ट्रांसफर हो चुका है। प्रभाकर की खासियत यह है कि वह नेताओं के दबाव में नहीं आते हैं। क़ानून व्यवस्था के लिए जो सही लगता है वही फैसला लेते हैं।


ममता त्रिपाठी-

Advertisement. Scroll to continue reading.

बरेली शहर को दंगे की आग में झुलसने से बचाने में झुलसे IPS प्रभाकर चौधरी के हाथ, ज़िले से PAC भेजे गए। इतना ईमानदार होना भी ठीक नहीं है! कुछ अफ़सरों में ही घूमा फिरा कर प्रदेश चला रहे हैं। बाक़ी अफ़सर दिखते ही नहीं साहब लोगों को…2010 बैच के अफसर जनवरी में DIG बन जाएँगे उन्हें मौक़ा देने के बजाय 2014-2016 बैच पर कृपा ज़्यादा बरस रही है।

आसान नहीं है प्रभाकर चौधरी बनना… बाक़ी अफ़सर इसी ट्रांसफ़र पोस्टिंग के डर से “ग़लत” का साथ देते रहते हैं और संविधान की शपथ लेने के बाद भी अनैतिक का साथ देते हैं।
सच लिखो-दिखाओ तो पत्रकारों को नोटिस भिजवाते हैं, सोशल मीडिया पर shadow ban कराते हैं और अफ़सर को सम्बद्ध कर देते हैं। कितने डरपोक और असुरक्षित क़िस्म के लोग तंत्र को चला रहे हैं…


पुनीत कुमार सिंह-

Advertisement. Scroll to continue reading.

बरेली में हुए कावड़ियों पर पुलिस लाठीचार्ज पर एसएसपी प्रभाकर चौधरी का बयान सामने आया है। उन्होंने बताया कि कावड़ियों में कुछ लोग नशे में थे। उनके पास अवैध असलहे थे। ये बयान आते ही प्रभाकर चौधरी का ट्रांसफर कर दिया गया।

कानून व्यवस्था बनाने की बात करने वाले मुख्यमंत्री जी, जिस कप्तान ने दंगे होने से बचाया उसी पर एक्शन ले लिया जा रहा है. ये कहाँ का न्याय है? प्रभाकर चौधरी का यह 21वां तबादला है और अब उन्हें लखनऊ PAC में भेजा गया है!

Advertisement. Scroll to continue reading.

रणविजय सिंह-

यूपी के बरेली में कांवड़ियों पर लाठीचार्ज हुआ. रूट का विवाद था. SSP प्रभाकर चौधरी ने कहा- ये जुलूस गैर परम्परागत था. आगे दूसरे वर्ग की आबादी थी. आशंका है कि कुछ लोग दारू पीए थे. लोगों के पास अवैध हथियार भी थे. जब जबरदस्ती जुलूस ले जाने की कोशिश की तो हल्का बल प्रयोग किया गया.

Advertisement. Scroll to continue reading.

बरेली के SSP प्रभाकर चौधरी का ट्रांसफर खबर नहीं है. ये तो होना ही था. खबर तब होती अगर प्रभाकर चौधरी का ट्रांसफर न होता.

Advertisement. Scroll to continue reading.
1 Comment

1 Comment

  1. शालीन सिंह

    August 3, 2023 at 4:45 pm

    एक मर्द हिजड़े से नही डरता चौधरी जी जहां भी रहेंगे मर्द की तरह काम।करेंगे जिसका ईमान।मजबूत हो।उसे हिजडे कुछ नही बिगड़ सकते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : Bhadas4Media@gmail.com

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement