Connect with us

Hi, what are you looking for?

टीवी

बंद हो चुके लाइव इंडिया चैनल के प्रबंधन ने मीडियाकर्मियों की सेलरी हड़प ली

Arunesh Dwivedi : ‘जनमत’ नाम से लॉंच …लाइव इंडिया नाम से रीलॉंच ..चैनल बंद… Live India चैनल की हालत और वहां काम करने वाले पत्रकारों के हालात बेहतर नहीं हुए…बल्कि इतने बदतर हुए कि अब ये चैनल ऑफ एयर यानि बंद हो चुका है…हाल ही में सीनियर लेवल में काम करने वाले मेरे एक मित्र ने बताया कि एडवांस में एक महीने का चेक देना तो दूर..जिन महीनों में काम किया है..उसकी भी सैलरी नहीं दी..!! यानि ये चैनल भी अब P7, CNEB, News Express, Voice of India और महुआ जैसे कई बंद होने वाले चैनलों की लिस्ट में आ गया है..

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script> (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({ google_ad_client: "ca-pub-7095147807319647", enable_page_level_ads: true }); </script><p>Arunesh Dwivedi : 'जनमत' नाम से लॉंच ...लाइव इंडिया नाम से रीलॉंच ..चैनल बंद... Live India चैनल की हालत और वहां काम करने वाले पत्रकारों के हालात बेहतर नहीं हुए...बल्कि इतने बदतर हुए कि अब ये चैनल ऑफ एयर यानि बंद हो चुका है...हाल ही में सीनियर लेवल में काम करने वाले मेरे एक मित्र ने बताया कि एडवांस में एक महीने का चेक देना तो दूर..जिन महीनों में काम किया है..उसकी भी सैलरी नहीं दी..!! यानि ये चैनल भी अब P7, CNEB, News Express, Voice of India और महुआ जैसे कई बंद होने वाले चैनलों की लिस्ट में आ गया है..</p>

Arunesh Dwivedi : ‘जनमत’ नाम से लॉंच …लाइव इंडिया नाम से रीलॉंच ..चैनल बंद… Live India चैनल की हालत और वहां काम करने वाले पत्रकारों के हालात बेहतर नहीं हुए…बल्कि इतने बदतर हुए कि अब ये चैनल ऑफ एयर यानि बंद हो चुका है…हाल ही में सीनियर लेवल में काम करने वाले मेरे एक मित्र ने बताया कि एडवांस में एक महीने का चेक देना तो दूर..जिन महीनों में काम किया है..उसकी भी सैलरी नहीं दी..!! यानि ये चैनल भी अब P7, CNEB, News Express, Voice of India और महुआ जैसे कई बंद होने वाले चैनलों की लिस्ट में आ गया है..

Advertisement. Scroll to continue reading.

टीवी मीडिया का संक्रमणकाल न जाने कब से चल रहा है और न जाने कब तक चलेगा…क्योंकि सुनने में तो ये भी आया है कि Zee Business जैसे बड़े नेटवर्क वाले चैनल ने भी एक साथ एक झटके में 36 लोगों को निकाला गया…एबीपी समूह के टेलीग्राफ अखबार से पचासों लोगों को बाहर किया गया…हिंदुस्तान टाइम्स अपने कोलकाता, कानपुर जैसे कई ब्यूरो बंद कर चुका है.. भारतीय मीडिया के ऐसे हालात में सबसे ज्यादा दुख तब होता है… जब मीडिया के छात्र मुझसे सवाल करते हैं कि सर मीडिया में मेरा भविष्य उज्जवल तो रहेगा न..? वर्तमान से ही भविष्य का निर्माण होता है…लेकिन जिस मीडिया का वर्तमान ऐसा हो…तो भविष्य कैसा होगा?

कई न्यूज चैनलों में काम कर चुके पत्रकार अरुणेश द्विवेदी की एफबी वॉल से.

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement