ये दो पत्रकारों के बीच की आपसी खुन्नस है या हकीकत कुछ और !

जहांगीराबाद (बुलंदशहर) : सभासद विनय अग्रवाल ने राष्ट्रपति और पुलिस क्षेत्राधिकारी को प्रेषित अपने एक शिकायती पत्र में लोकसभा टीवी चैनल (दिल्ली) में कार्यरत पत्रकार अनुराग दीक्षित और उनके परिजनों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। अनुराग दीक्षित ने सभासद के आरोपों को मनगढ़ंत और झूठा करार दिया है। बताया गया है कि सभासद भी पहले एक अखबार के स्ट्रिंगर रहे हैं। किन्ही आरोपों के चलते उन्हें हटा दिया गया था। 

सभासद का आरोप है कि पत्रकार अनुराग दीक्षित के भाई सुनील दीक्षित मीडिया में अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए डीजल पैटी के लाईसेंसी दुकान चलाने के साथ ही कथित रूप से इसकी आड़ में अवैध मिनी पैट्रोल पम्प चला रहे हैं। अनुराग दीक्षित ने इसी एरिया में भारत सरकार द्वारा स्वीकृत एक पैट्रोल पंप का लाइसेंस आला अधिकारियों से शिकायत कर निरस्त करा दिया था। अनुराग दीक्षित का कहना है कि जिसे सभासद अवैध मिनी पेट्रोल पम्प कह रहे हैं, वह पेटी डीज़ल की दुकान है। सरकारी प्रक्रिया के तहत इसका विधिवत आवंटन वर्ष 2002 में मेरे परिवार को हुआ था। मेरे पत्रकार बनने से 4-5 साल पहले! जहाँ तक पेट्रोल पम्प निरस्त कराने का आरोप है तो बता दूँ कि मेरे बड़े भाई एक पाक्षिक समाचार पत्र ‘चरित्र दर्पण’ के संपादक हैं। उन्होंने अपने अख़बार में इस गलत आवंटन की ख़बरें छापी थीं। इस मामले में आवेदक ने आवेदन के वक़्त कोई एक जगह दर्शाई थी, जबकि आवंटन के बाद वह किसी दूसरी जगह पर पम्प का निर्माण कर रहे थे। यह पेट्रोलियम मंत्रालय के नियम विरुद्ध था। सूचना के अधिकार से जानकारी जुटाकर सुनील दीक्षित ने अपने अख़बार में जब ख़बरें छापीं तो मंत्रालय ने संज्ञान लिया और मामले में गड़बड़ी पाए जाने पर उक्त दोषी आवेदक का आवंटन निरस्त कर दिया। सभासद उस प्रस्तावित पेट्रोल पम्प में आवेदक के साझीदार बनना चाहते थे, आवंटन निरस्त हो जाने से उनका सपना पूरा नहीं हो सका। ये आरोप उसी की बौखलाहट है!

सभासद का आरोप है कि सुनील दीक्षित ने कुछ माह पूर्व अपने ही घर पर बुलाकर एक पॉलटेक्निक कर्मचारी की पिटाई कर दी थी। पोलीटेक्निक कर्मचारी ने इनके भाई के विरुद्ध लिखित तहरीर पुलिस में दी थी लेकिन चैनल का दुरूपयोग करते हुये पुलिस पर दबाव बनाकर उल्टा उसके खिलाफ ही मुकदमा दर्ज करा दिया गया। पुलिस ने पीड़ित से मनमाफिक माफीनामा भी लिखवा लिया। इस पर अनुराग दीक्षित का कहना है कि पोलिटेक्निक कॉलेज में कुछ कर्मचारियों पर छात्रों से एडमिशन के नाम पर अवैध वसूली का आरोप लगा था। आरोप लगाने वाले सभासद उन दिनो एक अखबार के स्ट्रिंगर थे और शायद उस खबर को न छापने के लिए मैनेज भी हो चुके थे। सुनील दीक्षित ने उस खबर की पड़ताल की तो पता चला था कि आरोपी कॉलेज कर्मचारी एक सयुंक्त खाता खोल कर उसमें मासूम बच्चों से की गयी अवैध वसूली की रकम जमा करते थे। सूचना के अधिकार से अन्य जानकारियां भी जुटा कर सुनील दीक्षित ने घपले का पर्दाफाश कर दिया। बौखलाहट में कर्मचारी ने अपने साथियों के साथ मेरे घर पर जानलेवा हमला कर दिया। पुलिस ने उसको मौके से गिरफ्तार किया था। बाद में कर्मचारी ने अपना जुर्म भी कबूला था। उस समय मीडिया में घटना की काफी भर्त्सना हुई थी। पत्रकारिता की आड़ में काली कमाई करने के आरोपों के चलते सभासद को स्ट्रिंगर पद से हटाया जा चुका है। 

सभासद का आरोप है कि सुनील दीक्षित द्वारा संचालित जहांगीराबाद मानव कल्याण समिति ने पुस्तकालय के नाम पर नगर पालिका की लाखों रूपये की सम्पत्ति पर अवैध कब्जा कर रखा है। नगर पालिका पर दबाव बनाकर अवैध रूप से पालिका के गृहकर रजिस्टर में अपनी समिति व पिता का नाम चढ़वा दिया। गत 30 मार्च 2015 को पालिका बोर्ड की बैठक में सर्व सम्मति से प्रस्ताव हो जाने के बाद गृहकर रजिस्टर से नाम और अवैध कब्जा हटाने के साथ ही पुस्तकालय का संचालन नगर पालिका ने अपने हाथ में ले लिया। आरोपी पक्ष का कहना है कि करीब 25 वर्ष पहले नगर पालिका ने सर्वसम्मति से विधिवत प्रस्ताव पारित कर मानव कल्याण समिति को प्रतिमा स्थापित कराने की अनुमति दी थी। वहीं पर समिति द्वारा एक निशुल्कः पुस्तकालय भी संचालित होता है। सभासद ने ही पालिका में एक प्रस्ताव पारित कराया जिसमें प्रतिमा और पुस्तकालय का संचालन समिति से छीनकर पालिका को दिए जाने का प्रावधान है। इस प्रस्ताव को पारित कराये जाने से पहले समिति का पक्ष भी नहीं सुना गया। न ही अभी तक समिति को पालिका से कोई नोटिस मिला है। जिलाधिकारी ने पालिका के उस गलत प्रस्ताव पर जांच बैठा दी है। पालिका की कार्रवाई दरअसल  सुनील दीक्षित द्वारा अपने समाचार पत्र में पालिका में हो रहे करोड़ों के भ्रष्टाचार के खुलासे की सजा है। 

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Comments on “ये दो पत्रकारों के बीच की आपसी खुन्नस है या हकीकत कुछ और !

  • Hemant kaushik says:

    प्रिय यशवंत जी
    अनुराग ने सभी बातें झूठ बोली हैं
    आप इनकी खुद जांच कराएँ
    हकीकत साफ़ हो जाएगी
    बुलंदशहर में जहांगीराबाद के तीन पत्रकार हैं
    गौरव शमा, प्रदुमन कौशिक और गौरव भारद्वाज
    तीनों से हकीकत जाने

    Reply
  • सुल्तान अंसारी says:

    लोकसभा टीवी के एंकर अनुराग दीक्षित का जहांगीराबाद में आतंक, सभासद ने लगाई गुहार
    April 12, 2015 Written by B4M डेस्क Published in सुख-दुख
    User Rating: 5 / 5Star activeStar activeStar activeStar activeStar active
    Please rate
    जहांगीराबाद (बुलंदशहर) के सभासद विनय अग्रवाल ने राष्ट्रपति और पुलिस क्षेत्राधिकारी को प्रेषित अपने एक शिकायती पत्र में लोकसभा टीवी चैनल (दिल्ली) में कार्यरत पत्रकार अनुराग दीक्षित द्वारा नगरवासियों के उत्पीड़न और चैनल को बदनाम करने का आरोप लगाया है।

    लिखित शिकायत में सभासद ने बताया है कि अनुराग दीक्षित पुत्र सुरेन्द्र कुमार दीक्षित दिल्ली स्थित लोकसभा टीवी चैनल में एंकर के पद पर कार्यरत हैं। वह जहांगीराबाद (बुलन्दशहर) के मूल निवासी हैं। उनके बड़े भाई सुनील दीक्षित चैनल को बदनाम करने में लगे हैं। चैनल का लाभ उठाकर अनुराग दीक्षित समय-समय पर जिले के आला अधिकारियों व विभिन्न पार्टियों के बड़े नेताओं को अपने यहां बुलाते हैं। जनपद के प्रमुख अखबारों के पत्रकारों को उनके सम्पादकों से फोन कराकर अपने यहां हुए कार्यक्रमों के मनगंढ़त एवं झूठे समाचार प्रकाशित कराते हैं।

    आरोप है कि सुनील दीक्षित अपने भाई के मीडिया में होने का लाभ उठाकर जहांगीराबाद के नगरवासियों का कई प्रकार से उत्पीड़न व शोषण करने में लगे हैं। इसकी जांच जनपद के किसी भी अधिकारी द्वारा गोपनीय तरीके से कराई जा सकती है। कई काले कारनामे सामने आ जाएंगे। इनके भाई ने डीजल पैटी के लाईसेंस की दुकान पर लोकसभा टीवी चैनल व एंकर अनुराग दीक्षित का नाम लिखकर अवैध मिनी पैट्रोल पम्प चला रखा है। अपने इसी अवैध कारोबार को चलाने के लिए अनुराग दीक्षित ने उसी एरिया में भारत सरकार द्वारा स्वीकृत एक पैट्रोल पंप का लाइसेंस आला अधिकारियों से शिकायत कर निरस्त करा दिया।

    यह भी आरोप है कि अनुराग के भाई ने कुछ माह पूर्व अवैध वसूली का विरोध करने पर अपने ही घर पर बुलाकर एक पॉलटेक्निक कर्मचारी की पिटाई कर दी थी। पोलीटेक्निक कर्मचारी ने इनके भाई के विरुद्ध लिखित तहरीर पुलिस में दी थी लेकिन चैनल का दुरूपयोग करते हुये पुलिस पर दबाव बनाकर उल्टा उसके खिलाफ ही मुकदमा दर्ज करा दिया गया। पुलिस ने पीड़ित से मनमाफिक माफीनामा भी लिखवा लिया।

    बताया गया है कि अनुराग दीक्षित के भाई द्वारा संचालित जहांगीराबाद मानव कल्याण समिति ने पुस्तकालय के नाम पर नगर पालिका की लाखों रूपये की सम्पत्ति पर अवैध कब्जा कर रखा है। पुस्तकालय के नाम पर दोनो भाई लोगों से पैसा वसूलते हैं। दोनो भाइयों ने नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी पर दबाव बनाकर अवैध रूप से पालिका के गृहकर रजिस्टर में अपनी समिति व पिता का नाम चढ़वा दिया। गत 30 मार्च 2015 को नगर पालिका परिषद की बोर्ड की बैठक में कुल 30 सभासदों में से उपस्थित 28 सभासदों ने सर्व सम्मति से उनकी समिति का गलत तरीके से पालिका के गृहकर रजिस्टर में से नाम काटने, अवैध कब्जा हटाने के साथ ही पुस्तकालय का संचालन नगर पालिका द्वारा कराने का प्रस्ताव पारित कर दिया। इसके बाद 6 अप्रैल को गलत तरीके से दर्ज समिति व संस्थापक के नाम को काटकर पालिका प्रशासन ने पुनः पालिका भूमि के नाम से दर्ज कर लिया है।

    इसके बाद भी अनुराग, उनके पिता और भाई लोकसभा चैनल का दुरूपयोग कर आला नेताओं व अधिकारियों को गुमराह करते हुए पालिका बोर्ड द्वारा वहां से स्वामी विवेकनन्द जी की प्रतिमा को बोर्ड के प्रस्ताव के बाद हटाने या उसे क्षति पहुंचाने की फर्जी शिकायतें कर रहे हैं। जो भी इनके काले कारनामों का विरोध करता है तो ये उसे भुगत लेने की धमकी देते हैं। निवेदन है कि आरोपों की जांच कराकर आरोपियों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जाए।

    सभासद विनय अग्रवाल के पत्र पर आधारित

    Add comment

    Reply
  • समस्त जहांगीराबाद निवासियोँ के भड़ास फॉर मीडिया के पदाधिकारियोंसे अनुरोध हे वह मामले की निष्पक्ष जांच करेँ ओर जहांगीराबाद वासियोँ को अनुराग दिक्षित व उसके भाई सुनील दिक्षित के आतंक से मुक्ति दिलवाले

    Reply
  • Aslam khan says:

    यशवंत जी, इस मामले में जहांगीराबाद से लेकर दिल्ली तक हड़कम्प मचा हुआ है, तभी तो अनुराग दीक्षित दिल्ली से और दोनों बाप-बेटे जहांगीराबाद से बुलंदशहर में परेड कर रहे हैं, खबर है की समझोते के लिए जनप्रतिनिधियों से मुलाकात की जा रही है; अगर सभासद गलत है तो एंकर साहब की हालत क्यों ख़राब है?

    Reply
  • सुल्तान अंसारी says:

    सुनील दिक्षित और उसका छोटा भाई अनुराग दीक्षित दोनो पत्रकार के नाम पर अवैध वसूली करते है

    Reply
  • आदरणीय संपादक जी भडास 4 मीडिया। आपको सादर अवगत कराना है कि लोकसभा टीवी एंकर अनुराग दीक्षित के आंतक संबंधी खबर चलाकर आपने निर्भीक पत्रकारिता के लिए बधाई।लेकिन कुछ देर बाद अनुराग दीक्षित ने मामले को पत्रकारिता से जोडकर गलत जानकारी देकर आपको भी गुमराह कर दिया।जिससे लोगों में अनुराग की मीडिया जगत की पकड की चर्चा आम हो गई है।अनुराग ने आपको जो गलत जानकारी दी है में फिर आपको कुछ जानकारी दे रहा हूं।जिनके बारे में आप अनुराग दीक्षित से पूछकर फिर खबर को पुष्ट कर चलाकर अपनी पूर्व की इमेज को बरकरार रख सकते हैं।में आपको बताना चाहता हूं कि मैं हिन्दुस्तान मीडिया से पिछले आठ साल से जुड हूं।आज भी वहीं काम कर रहा हूं।अनुराग ने आपको बताया है कि काली कमाई के आरोप में मुझे हटा दिया गया है।मुझे हिन्दुस्तान की ओर से आज तक कोई भी नोटिस या आरोप पत्र नहीं मिला है।आप अनुराग से ऐसा कोई भी कागज उससे मांग सकते हैं।में तो कोर्ट से मांगूंगा ही।
    मैने अपनी शिकायत में डीजल पेटी की आढ में मिनी पेट्रोल पंप चलाने की ही शिकायत की है।इसकी दुकान पर बाईकों में पेट्रोल डालने का फोटो भी डाला है।अपने इसी अवैध पैट्रोल पम्प को चलाने के लिए अनुराग ने सरकार के पेट्रोल पंप को शिकायत कर निरस्त कराया है।जहां तक मेरा पेट्रोल पंप में साझेदार का झूठा आरोप अनुराग ने लगाया तो उसके बारे में आपको बता दूं कि मेरी पेपेट्रोल पंप में साझेदार होने की हैसियत ही नहीं है।इसकी किसी भी एजेंसी से जांच करा ली जाये।
    नगरपालिका की भूमि पर इनके पिता व भाई की संस्था ने अवैध कब्जा कर रखा है।इनके द्वारा पालिका ईओ पर दबाव बनाकर ग्रह कर रजिस्ट्रर में गलत तरीके से दर्ज कराया गया समिति व संचालक इनके पिता का नाम पालिका प्रशासन ने काटकर पुनः पालिका भूमि में दर्ज कर दिया गया है।इनको अवैध कब्जा खाली करने के लिए नोटिस देने की कार्रवाई में पालिका प्रशासन लगा है।लेकिन यह झूठी सूचना देकर जिला प्रशासन को गुमराह करने में लगे हैं।
    इनके यहां जनपद के आला अधिकारियों के संवाद कार्यक्रमों में झूठी घोषणा होने के अलावा जहांगीराबाद का क्या भला हुआ है इनसे पूछा जाए।और बहुत कुछ जानकारी में आपको जानकारी सूचना का जबाब आने पर दूंगा।आपसे पूरी उम्मीद करता हूं कि आप मेरे इन सवालों का जवाब अनुराग दीक्षित से पूछकर फिर से खबर चलाकर मीडिया जगत में अपनी पुरानी पहचान को कायम रखेंगे।धन्यवाद
    आपका विनय अग्रवाल सभासद नगर पालिका परिषद जहांगीराबाद जिला बुलन्दशहर यूपी
    09837830177

    Reply
  • nagendra rawal says:

    भैया जी ये अनुराग और उसका भाई सुनील अवैध वसूली करते हैं।
    विनय भैया जी बिल्कुल ठीक कह रहे हैं

    Reply
  • Nitin kaushik says:

    Anurag dixit or sunil dixit ko uske baap surendra dixit k sath jahangirabad se nikal Dena chahiye….
    Tenou cheetar hai

    Reply
  • don rathod says:

    तीनों बाप बेटे हरामी हैं
    पंडित जाति के नाम पर धबबा हैं सुरेन्द्र, सुनील और अनुराग दीछित
    इनको जहांगीराबाद से भगाओ

    Reply
  • sumit bansal says:

    राधा रानी की जय हो

    इन तीनों बाप बेटों का आतंक जहांगीराबाद में बहुत बढ़ गया है
    यशवंत जी जहांगीराबाद के लोगों को इन तीनों के आतंक से बचाओ

    Reply
  • Ajay Kaushik says:

    साले तीनों हरामियो को जूते मारकर जहांगीराबाद स बाहर निकल दो

    Reply
  • krishn kant sharma says:

    हमने तो दैनिक जागरण में इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था
    अनुराग और उसके भाई सुनील के खिलाफ मैंने सबसे पहले मोर्चा खोल दिया था
    दैनिक जागरण में सबसे अधिक खबर प्रकाशित की इनके खिलाफ

    Reply
  • sonu pathak says:

    Charitr durpan itna bada news paper nhi hai Ki petroleum ministery uski news per action le
    Na hi itna bada Ki nagar palika se takkar le sake….

    Reply
  • pradhuman kaushik says:

    पूरा प्रकरण अनुराग के धमंड के कारण शुरू हुआ है

    जहांगीराबाद के सभी लोग तीनों के खिलाफ है

    Reply
  • himanshu varsney says:

    यशवंत जी , तोप बनने वाले लोकसभा के एंकर अनुराग की हालत पतली है
    अब तोप एंकर इतना करें धबरा रहा है

    बस निकल गई हवा

    Reply
  • Chinoo lala says:

    सम्पादक जी अनुराग दीक्षित के कहे अनुसार आपने अपने समाचार में लिखा है कि काली कमाई के आरोप में स्ट्रिंगर के पद से हटाना गया है।इसका अनुराग से कोई सबूत तो लेने की कृपा करें।

    Reply
  • Viney fan club says:

    सम्पादक जी अनुराग दीक्षित के कहे अनुसार आपने अपने समाचार में लिखा है कि काली कमाई के आरोप में स्ट्रिंगर के पद से हटाना गया है।इसका अनुराग से कोई सबूत तो लेने की कृपा करें।

    Reply
  • Nitin Kaushik says:

    नितिन कौशिक संपादक जी अनुराग दीक्षित कमेंट करने वालों को फोन कर व मैसेज भेज कर इनका खंडन करने का दबाव बना रहे हैं।

    Reply
  • Gopal Bhaiya says:

    संपादक महोदय अनुराग दीक्षित के पिता ओर उसके बडे भाई के द्वारा कम से कम 1 करोड़ रुपए का घोटाला किया गया हे जिसके कारण आप सच्चाई को उजागर नहीँ कर रह हे क्या आप इसमेँ भी शामिल हे

    Reply
  • Hemant kaushik says:

    प्रिय यशवंत जी
    अनुराग अब कमेन्ट करने वाले लोगों को यह कहकर दबाव बना रहा है कि वह इसका खंडन कर
    हमने सचचाई लिखी है तो फिर हम खंडन करें करें

    हम सच के साथ हैं
    हम विनय अग्रवाल के साथ है

    Reply
  • pradhuman kaushik says:

    विनय भाई तुम संघर्ष करो
    सब तुम्हारे साथ हैं

    Reply
  • Aadesh sharma says:

    यशवंत जी, डीएम ने जांच बोर्ड के गलत प्रस्ताव पर नहीं बल्कि जहांगीराबाद चेयरमैन और 28 सभासदों के शिकायती पत्र पर बैठाईहै
    मैं आदेश शमा पुत्र छोटे लाल शर्मा इसका गवाह हूँ
    मैं भी मौजूद था इनके साथ

    Reply
  • Umesh varshney says:

    मेरा समस्त जहांगीराबाद वासियो से निवेदन हे कि अब वो भड़ास फोर मीडिया पर किसी भी प्रकार का कोई कमेंट न करेँ जोकि अनुराग दिक्षित ने अपनी पत्रकारिता ओर पेसे के बल पर भड़ास फोर मीडिया को खरीद लिया हे इसीलिए भड़ास फोर मीडिया ने रातो रात newz को चेंज कर दिया हेखबर को अनुराग दिक्षित के फेवर मेँ कर दिया हे. Umesh petrol pump Wala jahangirabad

    Reply
  • Neeraj Pathak says:

    यशवंत जी
    पहले तो तीनों बाप बेटे मेरे चमचे थे और कांता के खिलाफ थे
    फिर कांता ने लोलीपोप दिया तो उसके चमचे हो गए
    अब कांता और विनय भाई ने डंडा किया तो मेरे पास आए
    मैंने तो भगा दिया तीनों को

    Reply
  • Dr. Ashok Varshnay says:

    यशवंत जी
    ये तीनों बाप बेटे जहांगीराबाद के लोगों पर अवैध तरीके से दबाव बना कर वसूली करते हैं
    तेल का काला कारोबार करते हैं
    आज हमने डीएम से इसकी शिकायत दर्ज कराई है
    जल्द ही पूरति विभाग छापा मारेगा

    Reply
  • कुंदन लाल शर्मा says:

    यशवंत जी
    बोर्ड की बैठक में प्रसताव आने से पहले मैं मजबूरन उठ आया लेकिन मैंने प्रस्ताव का विरोध नहीं किया
    डीएम के पास चेयरमैन और सभासदों के साथ मैंने अपने बेटे आदेश को भेज दिया
    सुरेन्द्र ने मुझे चुनाव हराने में कोई कमी नहीं छोड़ी
    जब तो नीरज के साथ हो गए
    विनय को मैंने ही चाबी भरी

    Reply
  • Ashwini Gaur DABBU says:

    Teenou baap betey ek number k harami hai….

    Inhey you pedd per ulta latka do….

    Vinay bhai ne bilkul theek kiya…..

    Inke kaley Tel Ki sikayat or karo DM se

    Deasal k naan per mitti ka Tel or petrol k naan per solvent bech they hai

    Reply
  • shobhit sharma says:

    सभी कमेन्ट फरजी हैं। इससे इसकी विश्वसनीयता खत्म हो गई है। कृपया कोई भी व्यक्ति इन कमेन्ट पर ध्यान केंद्रित न करें

    Reply
  • Raju saxena says:

    इस प्रकार के कमेन्ट से शिकायत भी झूठ साबित हो गई है। यह बिना सिर पैर का विवाद है। एेसे मामले पर ध्यान केन्द्रित नहीं किया जाता है

    Reply
  • Aslam khan says:

    भैया जी, अनुराग भैया का मैसेज आया था, कह रहे थे कि आपने जो श्री विनय जी द्वारा भड़ास पर चलाई गई खबर पर कमेंट किया है पढ़कर बड़ी हैरानी हुई। उसका खंडन मुझे भेज दो मैं भड़ास पर भेज दूंगा। मैंने घुमा फिराकर खंडन भेज दिया है। भैया जी’ मुझे तो ये पता नहीं चल रहा है कि आखिर किसके साथ रहूँ। भैया जी, बड़ी दुविधा मे हूं। कुछ भी सही विनय भैया जो कर रहे हैं, एकदम सही कर रहे है, हो सके तो कोई सलाह जरूर देना।

    Reply
  • nagendra rawal says:

    भैया जी, अनुराग भैया का मैसेज आया था, कह रहे थे कि आपने जो श्री विनय जी द्वारा भड़ास पर चलाई गई खबर पर कमेंट किया है पढ़कर बड़ी हैरानी हुई। उसका खंडन मुझे भेज दो मैं भड़ास पर भेज दूंगा। मैंने घुमा फिराकर खंडन भेज दिया है। भैया जी’ मुझे तो ये पता नहीं चल रहा है कि आखिर किसके साथ रहूँ। भैया जी, बड़ी दुविधा मे हूं। कुछ भी सही विनय भैया जो कर रहे हैं, एकदम सही कर रहे है, हो सके तो कोई सलाह जरूर देना।

    Reply

Leave a Reply to rohit Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *