अर्णब, दीपक, सुधीर, अमिश ये सब राष्ट्रवादी नहीं बल्कि अवसरवादी पत्रकार हैं : शीतल पी सिंह

भड़ास4मीडिया के लिए वीडियो इंटरव्यू के सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए आज वरिष्ठ पत्रकार शीतल पी सिंह से बातचीत पेश है.

शीतल पी सिंह सत्यहिंदी डाट काम के को-फाउंडर हैं.

Sheetal P Singh

शीतल ने मीडिया में कदम अमर उजाला अखबार के जरिए रखा. फिर चौथी दुनिया की लांचिंग टीम के हिस्से बने. उसके बाद इंडिया टुडे के साथ पारी खेली. समय सूत्रधार, स्वतंत्र भारत और दैनिक जागरण जैसे मीडिया संस्थानों के लिए रिपोर्टिंग की. ये सिलसिला वर्ष 1984 से 1993 तक चला. इसके बाद शीतल सिंह पत्रकारिता छोड़कर बिजनेस-व्यापार के फील्ड में उतर गए.

वर्ष 2010-11 में ‘समकाल’ पाक्षिक समाचार पत्रिका का प्रकाशन किया.

अब वे वरिष्ठ पत्रकारों की एक टीम के साथ मिलकर सत्यहिंदी डाट काम का संचालन कर रहे हैं.

शीतल पी सिंह सोशल मीडिया पर बेबाक लिखने-बोलने के लिए चर्चित हैं. उनका कहना है कि दीपक चौरसिया, सुधीर चौधरी, अमिश देवगन, अर्णब गोस्वामी आदि पत्रकार राष्ट्रवादी या राइटिस्ट नहीं बल्कि अवसरवादी हैं. ये सत्ता के साथ चलने वाले पत्रकार हैं.

भड़ास एडिटर यशवंत ने शीतल पी सिंह से जो बातचीत की उसका पहला पार्ट देखें-

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

One comment on “अर्णब, दीपक, सुधीर, अमिश ये सब राष्ट्रवादी नहीं बल्कि अवसरवादी पत्रकार हैं : शीतल पी सिंह”

  • Sudhir kumar says:

    जब पत्रकारिता चमचाकारिता में बदल चुकी है तब भड़ास मीडिया टीम बहुत ही अच्छा काम कर रही है, हम जैसे नियमित पाठको की दुआ है कि आपकी निष्पक्षता अंगद के पांव की तरह अवसरवादियों के बीच जमी रहे।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *