सुप्रिय जितना धैर्यवान और शांत बॉस नहीं देखा : संजीव पालीवाल

सुप्रिय और संजीव

Happy Birthday Supriya Prasad… मेरी मुलाक़ात सुप्रिय से 3 जुलाई 2000 को हुई थी। तब मैं आजतक के दफ्तर में नौकरी करने पहुँचा था। पहली बातचीत उसी हफ्ते अपने ऑफ को लेकर हुई। मैने अजय चौधरी जी से वीकली ऑफ के लिये पूछा था।

उन्होंने मुझे कहा कि सुप्रिय शिफ्ट बनाता है उसे बोल दे। मैं सुप्रिय के पास गया और बताया तो सुप्रिय ने बस इतना पूछा कि कब ऑफ चाहिये। मैने कहा कि संडे हो जाये तो अच्छा रहेगा। सुप्रिय ने कहा कि ठीक है कल ले लो। ये हमारी पहली बातचीत थी।

फिर चैनल आया हमने साथ काम शुरू किया। हम दोस्त बन गये। आज सुप्रिय मेरा बॉस है। 31 साल हो गये मुझे काम करते हुए सुप्रिय जितना धैर्यवान और शांत बॉस नहीं देखा। एक और बात सुप्रिय को अलग बनाती है वो है मदद करने का जज़्बा । अगर सुप्रिय को पता चल जाये कि आप मुश्किल में हैं तो यक़ीन मानिए वो कोई ना कोई रास्ता आपके लिए निकाल ही लेगा।

आजतक चैनल के सबसे कामयाब और अनसंग हीरो हैं सुप्रिय प्रसाद

जन्मदिन की शुभकामनाएं सुप्रिय प्रसाद!

आजतक न्यूज़ चैनल में कार्यरत वरिष्ठ पत्रकार संजीव पालीवाल की एफबी वाल से.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “सुप्रिय जितना धैर्यवान और शांत बॉस नहीं देखा : संजीव पालीवाल

  • लेकिन आपके साथ मेरा अनुभव बहुत खराब रहा है सर। माफ कीजिएगा

    Reply
  • Aar Kumar says:

    Is Supriya also a good editor? I believe he is editor for name sake only, and he has no control over Anjana, Rahul or Shweta. All three are Modo Bhakats, and don’t ask any probing questions to Modi or his cabinet members or BJP leaders. This is not journalism, and this is not the sign of a good editor. Supriya Ji may be a good man, but he is certainly not a good editor.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code