मीडिया की निष्पक्षता के अपने-अपने मायने

vinay facebook akhil

विनय स्मृति व्याख्यानमालाः5

नई दिल्ली के दीन दयाल उपाध्याय मार्ग स्थित जवाहरलाल नेहरू नेशनल यूथ सेंटर पर 22 जून 2014 की दोपहर एक-एक कर पत्रकार साथियों का जुटान शुरू हो गया। विनय तरुण की स्मृति में ये पांचवां आयोजन था। पांच साल पहले विनय के असामयिक निधन से जो साथी सदमे में थे, वो अब विनय की यादों के बहाने साल में एक बार जमा होकर अपना मन टटोलते हैं, कि सादगी और सच्चाई कितनी बाकी है, उस पौधे में थोड़ा पानी डाल लेते हैं। प्रगतिशील मीडियाकर्मियों और संस्कृतिकर्मियों के संगठन दस्तक की ओर से आयोजित कार्यक्रम के पहले सत्र में साथियों ने  अनौपचारिक तौर पर कुछ बातें शेयर की।

4 बजते-बजते चाय का स्टॉल लग गया, दूसरे सत्र के वक्ताओं के आने का सिलसिला शुरू हो गया और कार्यक्रम अपने औपचारिक चरण की तरफ बढ़ चला। वक्ताओं में सबसे पहले आनंद प्रधान सभागृह में दाखिल हुए। फिर अध्यक्ष महोदय डॉक्टर पुरुषोत्तम अग्रवाल। मंच संचालक पुष्पेंद्र पाल सिंह पहले से मौजूद थे ही, आयोजक आश्वस्त हो गये। चाय की चुस्कियों के बीच मीडिया से जुड़े साथी कुछ निजी और कुछ वैचारिक द्वंद्व शेयर करते रहे। इस बीच सीढ़ियां चढ़ते वयोवृद्ध वरिष्ठ पत्रकार रामबहादुर राय भी हॉल में दाखिल हुए। लिफ्ट पहली मंजिल पर अटकी तो यूथ सेंटर के कर्मचारियों ने फिर इसकी सुध नहीं ली। दो वक्ता, सतीश के सिंह और भाषा सिंह आने शेष थे लेकिन अध्यक्ष महोदय ने नियत समय पर कार्यक्रम शुरू कर देने का इशारा कर दिया।

साढ़े चार बजते ही दस्तक परिवार की साथी और आयोजन के संयोजक की भूमिका संभाल रहीं शेफाली चतुर्वेदी ने विनय तरुण की यादें शेयर की, अतिथियों का स्वागत किया और मंच माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के प्राध्यापक पुष्पेंद्र पाल सिंह के हवाले कर दिया। मीडिया चुनाव और निष्पक्षता पर औपचारिक परिचर्चा शुरू हो गई। मंच संचालन और आधार वक्तव्य की दोहरी जिम्मेदारी को सहजता से स्वीकार करते हुए पुष्पेंद्र पाल सिंह ने अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि निष्पक्षता के शाब्दिक अर्थ पर जाएं तो ये पूर्वाग्रह से ग्रस्त हुए बिना, किसी के प्रभाव के दबाव में आए बिना और तटस्थता के साथ अपनी बात रखना है। उन्होंने कहा कि आर्थिक और राजनीतिक दबावों के बीच इस निष्पक्षता को बनाए रखना एक चुनौती है। 2014 के चुनावों के दौरान एक बड़े मीडिया हाउस के मार्केटिंग टीम को जारी सर्कुलर के जरिए उन्होंने अपनी बात आगे बढ़ाई। मीडिया हाउस ने अपनी मार्केटिंग टीम और संपादकीय टीम को ये निर्देश दिया कि हर चुनाव क्षेत्र के हर उम्मीदवार में चुनाव के आखिरी दौर तक जीत की उम्मीद कायम रखनी है ताकि विज्ञापन का सिलसिला अंतिम घड़ी तक जारी रहे। जाहिर है इसका पालन किया गया और खबरों के प्रस्तुतिकरण में सभी उम्मीदवारों को लगभग बराबर का स्पेस देकर चुनावी फाइट में अपने फायदे के लिए बनाए रखने का तिकड़म चलता रहा।

पहले वक्ता के तौर पर इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन के व्याख्याता आनंद प्रधान ने विनय तरुण की स्मृति को प्रणाम करते हुए अपनी बात शुरू की। उन्होंने कहा, हिन्दी पत्रकारिता का चरित्र विनय तरुण जैसे एक्टीविस्ट पत्रकार ही बनाते हैं। सामाजिक सक्रियता और पत्रकारिता का तालमेल बना रहना एक सुखद विषय है। मैं निष्पक्षता की यांत्रिक अवधारणा के विरुद्ध हूं। प्रोफेशनलिज्म के नाम पर निष्पक्षता थोपी जा रही है। कोई भी पत्रकार निष्पक्ष नहीं हो सकता, हां रिपोर्टिंग का तौर तरीका जरूर ऑब्जेक्टिव होना चाहिए।

आनंद प्रधान ने परिचर्चा के दौरान ‘मीडियाटाइज्ड पॉलिटिक्स’ के जुमले के जरिए अपनी बात आगे बढ़ाई। पॉलिटिकल पार्टी और आम लोगों के बीच मीडिया अब मध्यस्थ की भूमिका में आ चुका है। मीडिया इन दोनों के रिश्तों को तय करने में निर्णायक भूमिका निभा रहा है। टेलीविजन पर दिखने वाले नेता, बिना जनाधार के ही रातों रात राष्ट्रीय नेता बन जा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने चुनावों के दौरान इवेंट कवरेज पर भी चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि मीडिया एटेंशन हासिल करने के लिए पार्टियां अब इवेंट क्रिएट करने के फॉर्मूले पर काम कर रही हैं। नेताओं के लुक से लेकर कैमरा एंगल तक सियासी पार्टियों के वॉर रूम में बैठे एक्सपर्ट तय कर रहे हैं। उत्पादित मुद्दों पर प्राइम टाइम चैनलों में बहस हो रही है।

आउटलुक की सहायक संपादक भाषा सिंह ने कहा कि पत्रकार में निष्पक्षता नहीं होनी चाहिए, लेकिन उससे भी ज्यादा जरूरी ये पता लगाना है कि मौजूदा चुनावों में पत्रकारों और मीडिया घरानों की पक्षधरता कहां रही। मीडिया कॉरपोरेट पूंजी का जरिया बन चुका है और उनके हितों का असर चुनावी कवरेज पर पड़ना लाजिमी है। चुनाव परिणाम के आने के साथ ही मीडिया हाउसेस की शेयर होल्डिंग बदलती है, खरीद फरोख़्त शुरू हो जाती है। नई सरकार के दागी मंत्रियों पर खामोशी, फेसबुक कमेंट पर गिरफ़्तारियों पर बेशर्म सी चुप्पी ये एक अनकहे नेक्सस का ही नतीजा माना जा सकता है। थ्रेट टू इकॉनॉमिक सेक्युरिटी, नेशनल इंटरेस्ट जैसे नए जुमले उछालकर नई सरकार विरोध के स्वर दबाने का एक टूल बना रही है, जिस पर सवाल न उठना एक खतरनाक संकेत है।

लाइव इंडिया के ग्रुप एडिटर इन चीफ़ सतीश के सिंह ने खुद पर तंज के साथ माहौल को थोड़ा हलका किया। उन्होंने कहा कि गंभीर मुद्दे पर छिछले माध्यम के प्रतिनिधि के तौर पर बात शुरू कर रहा हूं। उन्होंने पक्षधरता में स्वच्छता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि पत्रकार में स्वच्छ निष्पक्षता होनी चाहिए। आनंद प्रधान ने चुनावी कवरेज के जरिए बाय-पोलर पॉलिटिक्स का माहौल बनाने के लिए मीडिया की भूमिका पर जो सवाल उठाये थे, सतीश के सिंह ने उस चर्चा को आगे बढ़ाया। सतीश के सिंह ने कहा कि मीडिया की भूमिका है लेकिन वो सीमित है। अगर ऐसा न होता तो बायपोलर पॉलिटिक्स का तथाकथित मुहावरा पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और ओडिशा में बेअसर न हो जाता। इसी सिलसिले में उन्होंने दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सफलता का भी जिक्र किया। सतीश के सिंह ने कहा कि जिस मीडिया पर मोदी का जरूरत से ज्यादा कवरेज करने का आरोप लग रहा है, उसी मीडिया ने ‘महंगे दिन आ गए’ की रिपोर्टिंग के जरिए मोदी सरकार पर सवाल उठाना शुरू कर दिया है। सतीश के सिंह ने सभाकक्ष में मौजूद युवा साथियों से एक पीआईएल के जरिए चुनावी खर्चों पर श्वेत पत्र की मांग करने का सुझाव भी दिया।

वरिष्ठ पत्रकार रामबहादुर राय ने विनय तरुण की स्मृति को प्रणाम किया। इसके बाद उन्होंने ओशो से किए गए एक सवाल को सामने रखा- सत्य क्या है? इस पर ओशो का जवाब था-‘सत्य बताया नहीं जा सकता, उसके रास्ते बताए जा सकते हैं, उसे अनुभव किया जा सकता है।’ रामबहादुर राय ने इस जवाब को मौजूदा विषय से जोड़ा- करीब-करीब यही स्थिति निष्पक्षता के साथ भी है। रामबहादुर राय के मुताबिक पत्रकार का काम किसी का झंडा ढोना नहीं है। पत्रकार के लिए पत्रकार होना जरूरी है जबकि मालिक का लक्ष्य उसे एक ‘मीडिया’ भर बनाने का होता है।

पत्रकारों और बुद्धिजीवियों के एक धड़े द्वारा मोदी की जीत को नकारने पर रामबहादुर राय ने सवाल उठाए। उन्होंने इस तरह के विश्लेषण पर तिरछी निगाहें डालीं कि 2014 के चुनाव में 69 फ़ीसदी लोगों ने मोदी को रिजेक्ट किया। उन्होंने मोदी की जीत को कॉरपोरेट हाउसेस की जीत बताने पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि ये अनकहा नियम है कि कॉरपोरेट घराने सत्तारुढ़ दल को ज्यादा पैसा देते हैं और विपक्ष को कम। रामबहादुर राय ने चुनावों में किए गए खर्च की हेराफेरी पर भी चिंता जाहिर की। उन्होंने इस लिहाज से केजरीवाल को भी ईमानदार मानने से इंकार कर दिया। रामबहादुर राय के मुताबिक बनारस में केजरीवाल ने अपने चुनावी खर्चे का सही-सही ब्यौरा आयोग को नहीं दिया।

डॉक्टर पुरुषोत्तम अग्रवाल ने 50 मिनट की क्लास की अपनी आदत और टेलीविजन के 20 सेकंड में बात रखने के विरोधाभासी चरित्र पर चुटकी के साथ माइक संभाला। उन्होंने मीडिया पर बात करने का हक सिर्फ मीडियाकर्मियों को देने से इंकार कर दिया, क्योंकि इसकी जद में हर व्यक्ति आता है, शहर से गांव तक हर किसी के जीवन को मीडिया प्रभावित करता है। मीडिया की निष्पक्षता को असंभव मानने से इंकार करते हुए उन्होंने राजेंद्र माथुर का जिक्र किया, जिन्होंने वीपी समर्थक होने के बावजूद उनके ख़िलाफ़ लिखे जाने वाले तमाम लेखों को अखबार में जगह दी। न्यूज और व्यूज में फर्क करने की जरूरत को पुरुषोत्तम अग्रवाल ने रेखांकित तो किया लेकिन इस सीमा के साथ कि टेलीविजन में ये इतनी आसानी से मुमकिन नहीं। उन्होंने कहा कि एक वो दौर था जब सेठ- ‘अखबार अखबार की तरह चलेगा, और कारोबार कारोबार की तरह’ की सोच रखते थे, लेकिन अब अखबार को कारोबार की तरह चलाने का चलन आ गया है। पुरुषोत्तम अग्रवाल के मुताबिक टेलीविजन की थोथी पकड़ ने लोगों के जीवन में गहरी समस्या पैदा की है। चैनल ने लोगों से उनका एकांत छीन लिया है।

परिचर्चा के बीच में कुछ सवालों का दौर भी चला। कुंदन शशिराज ने एक निजी चैनल की एंकर तनु शर्मा की खुदकुशी की कोशिश और उस पर मीडिया हाउसेस में पसरे सन्नाटे का सवाल भी छेड़ा। सतीश के सिंह ने इस पर मीडिया की सीमाओं का जिक्र किया तो वहीं आनंद प्रधान ने कहा- कुछ सवालों में उनके जवाब भी निहित होते हैं। एबीपी के संदीप ने भी हस्तक्षेप किया।

कुछ और साथी सवालों की बारी का इंतज़ार करते रहे और समय की सीमा को देखते हुए धन्यवाद ज्ञापन के लिए अनुराग द्वारी ने माइक थाम लिया। विनय की यादें, गीत के दो बोल, फिर एक और चाय का बुलावा।

पशुपति शर्मा
8826972867

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/Bo65FK29FH48mCiiVHbYWi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *