अंतर्राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी के लिए कुशाभाऊ पत्रकारिता विश्वविद्यालय ने ये कैसा टॉपिक रख दिया!

Yashwant Singh : देश में बहुत जोर जोर से बिकास होई रहा है बे। जो ससुरा खिलाफ बोलेगा उ अर्बन टर्बन नक्सल होगा। भामाकीजै बोलो। और, लौंडों लौंडियों को ऐसा मीडिया कोर्स पढ़ाओ कि ऊ राम से शुरू हों, अगरबत्ती जला के और हनुमान पर खत्म। सारे न्यूज़ चैनल को भक्ति चैनल में बदल दो।

हर रिपोर्टर को किसी एक मंदिर का पुजारी बना दो जो सुबह संध्या दुन्नों वक़्त आरती की लाइव रिपोर्टिंग करे। ‘हर हर महादेव, जय जय हनुमान’ हर अखबार का अनिवार्य टैग लाइन होगा। कृपया इस पोस्ट पर वामी कामी खान्ग्रेसी नक्सलाईट राष्ट्रद्रोही टाइप एलीमेंट कमेंट न करें। ये भारत राष्ट्र के भविष्य की मीडिया की रूपरेखा बनाई गई है।

भक्तगण इसे इतनी तेजी से आग की तरह फैलाएं कि देशद्रोही मीडिया वाले बेहोश हो जाएं।

हम भक्त भक्त भक्त। हम हैं राष्ट्र भक्त। भामाकीजै। नमो नमो। हनुमान मीडिया अमर रहे। लाल लिंगोटा लाल बनियान, हनुमान मीडिया को सच्चा सलाम। आप राष्ट्र भक्त हैं या नक्सल? साफ साफ बोलो। तय करो किस ओर हो। राष्ट्र भक्त हो तो बोलो ”जय हनुमान मीडिया”.

भामाकीजै।

भड़ास के संपादक यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *