कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी ने एंकर अमीश देवगन को ‘दलाल’ और ‘भड़वा’ कह दिया!

कांग्रेस के प्रवक्ता राजीव त्यागी ने न्यूज18 चैनल पर डिबेट के दौरान लाइव शो में एंकर अमीश देवगन को भड़वा और दलाल कह दिया. एंकर के एक सवाल के जवाब में राजीव त्यागी ने कहा कि ”हमने पांच सौ चैनल खोल कर रख दिए और तुम जैसे लोग पत्रकार बन गए, इसलिए मुल्क भोग रहा है.”

एंकर अमीश ने जब इस बात पर एतराज किया तो कांग्रेस प्रवक्ता ने यहां तक कह दिया- ”बात नहीं सुननी तो बुलाया मत करो. दलाल और भड़वे की तरह बात मत किया करो. तुम दलाल हो. तुम हिंदू मुस्लिम विवाद चाहते हो. देश में आग लगाना चाहते हो.”

बाद में जब एंकर अमीश देवगन ने कांग्रेस प्रवक्ता से फिर कहा कि वे अपने बयान के लिए माफी मांग सकते हैं तो राजीव त्यागी ने कहा कि वो अपने बयान पर पूरी तरह कायम हैं और माफी नहीं मांगेंगे. साथ ही फिर से यह एंकर अमीश देवगन को कह दिया कि ”तुम मानवता को खत्म कर रहे हो.. सिर्फ कुछ सुविधाओं के लिए देश के चैन और अमन को खत्म कर रहे हो… तुम देश के किसानों पर बहस नहीं आयोजित करते… तुम राफेल डील पर डिबेट नहीं करते… सिर्फ हिंदू मुस्लिम करते हो…”

इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है.

देखें संबंधित वीडियो….

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी ने एंकर अमीश देवगन को ‘दलाल’ और ‘भड़वा’ कह दिया!

  • अमीश देवगन जैसे पत्रकारों के साथ बिल्कुल सही हो रहा है, ये इसी लायक हैं। राजीव त्यागी ने कुछ कम शब्द इस्तेमाल किए, अच्छा होता की इन जैसे लालची, बिकाऊ और दो को़ड़ी के पत्रकारों की तारीफ़ में कुछ ओर शब्द कहते। अमीश जैसे लोग पता नहीं अपने आप को क्यों पत्रकार बोलते हैं। ये कुछ तथाकथित लोगों के हाथ की कठपुतली है। रोजी-रोटी चलाने के लिए इन्हें इस कदर मजबूर किया जाता है कि इंसानियत भूलकर कुछ भी करने को मजबूर हो जाते हैं। राजीव त्यागी ने भी भला क्या गलत कहा। कोई न्यूज चैनल कभी ग़रीब की बात क्यों नहीं करता। ये न्यूज चैनल अब मोदी सरकार के ख़िलाफ़ क्यों नहीं बोलते, ये न्यूज़ चैनल अब बाबा रामदेव से ये क्यों नहीं पूछते की वो कालाधन वापस लाने के लिए मोदी सरकार के ख़िलाफ़ सत्याग्रह क्यों नहीं कर रहे हैं। करेंगे भी कैसे, इनकी रोजी-रोटी सरकार के भरोसे जो चल रही है। हर चैनल का कमोवेश यही हाल है। फिर ने स्क्रीन पर आने के बाद अपने आपको ऐसे पेश करते हैं जैसे समाज सुधारक हों। राजीव त्यागी ने सही शब्द इस्तेमाल किए ऐसे लोगों के लिए ये इसी लायक हैं। मीडिया घराने इस वक़्त बुरे दौर से गुजर रहे हैं। इनके लालच की सीमा अब इस कदर बढ़ चुके है कि ये सच से कहीं दूर जा चुके हैं।

    Reply
  • ज्यादा बोलने वाले झूठ बोलते ही हैं वह चाहे अमिश देवगन हो त्यागी जी l त्यागी साहब ने जो कहा वह काबिले तारीफ है मैं भी पत्रकार हूं वैसे भाजपा सरकार में पत्रकारों पर खूब अत्याचार हुए बची कुची हसरत विपक्षी पूरा कर रहे हैं त्यागी जी की भाषा ठीक उसी प्रकार है जो जैसे होते हैं लोग उसे वैसे ही नजर आते हैं खग ही जाने खग की भाषा DK गोस्वामी संपादक एनडी टेलीविजन 24

    Reply
  • पता नहीं ये अनिश देवगन जैसे लोग अपने आपको क्यों तुर्रमखां समझते हैं। कुछ रुपये की नौकरी कर समझ रहे हैं कि वो तोपची है। इन्हें ये नहीं पता कि अगर चैनल ने नौकरी से लात मारकर निकाल दिया तो और कहीं नौकरी नहीं मिली तो इनके घर का चूल्हा तक नहीं जल पाएगा। सिर्फ स्क्रीन पर आने के बाद ये खुद को ऐसे पेश करते हैं जैसे की दुनिया के सबसे बुद्धिमान यही हो। सही मायने में अब मीडिया वालों की कोई औक़ात नहीं रह गई है। कुछ मठाधीस लोगों ने अपने निजी स्वार्थ या यूं कहे कि अपनी कुर्सी बचाने के लिए सब कुछ करने पर राजी हो जाते हैं। वो हर वो चीज़ कर रहे हैं जिससे उनका बॉस ख़ुश हो जाएगा। मीडिया ऑफिस के अंदर इस वक़्त गंद मची हुई है। जो लोग मेहनत से काम करते हैं उन्हें काम करने दिया जाता नहीं है। कहीं भाई-भतीजा वाद है तो कहीं तथाकथित बॉस की अपनी राजनीति में पिसना पड़ता है। आप मेहनत करके जो मुकाम सालों में हासिल करते हैं , आप देखेंगे कि बॉस का चहेता उसे आपसे पहले हासिल कर लेगा। ऐसे में अगर कोई खूबसूरत चहेरा रखती हो तो बॉस का दिल पिंघलते देर नहीं लगती बर्शर्ते आप बॉस को खुश कर सकें। मैं देख रहा हूं कि मेरे ही साथ काम करने वाले कुछ नौजवान लोग बड़ी तेज़ी से आगे बढ़ रहे हैं। जानने पर मालूम होता है कि वो बॉस के चहेते हैं। इसलिए उनके लिए आगे बढ़ने का कोई पैमाना ही नहीं है। ये अनिश देवगन जैसे वही लोग हैं जो बिकाऊ हैं। जिन्हें अपना घर चलाने के लिए समझौता करना पड़ता है। साथ ही इनकी अपनी महत्वकांक्षा भी है जो इन्हें कुछ भी बुरे से बुरे काम करवाने पर मजबूर कर देती है।

    Reply
  • Since a deogan is pro BJP he is rubbish if one sings arti for Nehru dynasty he is secular and progressive. Salon abki bar inlogo ka pala Modi se pada h. Av or ghusega jhelne ko ready raho

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *