भास्कर और जागरण के मालिकों ने भी छिपा रखा है विदेशों में पैसा, पत्रिका अख़बार ने इन दोनों को धो डाला

खोजी पत्रकारों के अंतरराष्ट्रीय गठबंधन इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट (आईसीआईजे) ने अपनी वेबसाइट पर टैक्स हैवन देशों में पैसा रखने वालों की जो जानकारी दी है, उसमें भोपाल के पांच नाम शामिल हैं। इनमें से तीन नाम मीडिया समूहों से जुड़े हुए हैं, जबकि दो नामों के बताए पते पर दूसरे लोग मिले हैं। उन्होंने इन सबके बारे में कोई भी जानकारी होने से इनकार किया है। 

दूसरी ओर, नीतिका अग्रवाल से जब उनके घर पर इस संबंध में बात करने का प्रयास किया गया तो उन्होंने बात करने से इनकार कर दिया। दुनियाभर में तहलका मचाने वाले पनामा लीक्स में भोपाल के जिन पांच धन्नासेठों के नाम आए हैं, उनमें तीन नाम दो मीडिया समूह से जुड़े हुए हैं। नीतिका अग्रवाल भास्कर समूह में निदेशक हैं तो संजीव मोहन गुप्त और सपना गुप्त जागरण में निदेशक हैं। नीतिका भास्कर समूह के चेयरमैन रमेश चंद्र अग्रवाल के सबसे छोटे बेटे पवन अग्रवाल की पत्नी हैं।

नीतिका अग्रवाल भास्कर समूह की कंपनी डीबी कार्प लिमिटेड में निदेशक हैं। सेबी को 20 जुलाई 2012 को भेजे गए डीबी कॉर्प के पत्र के मुताबिक, डीबी कॉर्प में नीतिका की हिस्सेदारी 1.90 फीसदी है। जबकि इसी कंपनी में उनके पति पवन अग्रवाल 10.12 फीसदी, ससुर रमेश चंद्र अग्रवाल 17.46 फीसदी, जेठ सुधीर अग्रवाल और गिरीश अग्रवाल भी निवेशक हैं। नीतिका ने अपने घर अरेरा कालोनी का जो पता (ई-1/79) दिया है, इस पर पवन अग्रवाल, रमेश चंद्र अग्रवाल, नमिता अग्रवाल के भी वोटर कार्ड बने हैं। डीबी कॉर्प दैनिक भास्कर अखबार की प्रकाशक कंपनी है।

संजीव मोहन गुप्त और सपना गुप्त दोनों पति-पत्नी हैं और जागरण में निदेशक हैं। संजीव मोहन गुप्त खुद को सोशल साइट्स पर दैनिक जागरण ब्रांड का सह मालिक बता रहे हैं। जबकि कागजों में वह कई कंपनियों के साथ जागरण को संचालित करने वाली कंपनी के भी निदेशक हैं। उनकी पत्नी सपना भी इसमें डायरेक्टर हैं। पनामा लीक्स में उनका जो पता (बी-22, 74 बंगला) दिखाया गया है उस पर फिलहाल मदनमोहन गुप्त रह रहे हैं। गुप्त भाजपा के प्रदेश मंत्री हैं और यह सरकारी बंगला है। उन्होंने कहा है कि संजीव मोहन और सपना इस घर में नहीं रहते हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि यह बंगला उनके नाम से आवंटित है और उन्होंने इसका पता किसी कंपनी के पते के रूप में दर्ज नहीं कराया है।

(इस खबर को राजस्थान पत्रिका समूह के अखबार में प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है जिसके लिए पत्रिका प्रबंधन बधाई का पात्र है)



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “भास्कर और जागरण के मालिकों ने भी छिपा रखा है विदेशों में पैसा, पत्रिका अख़बार ने इन दोनों को धो डाला

  • Can yadav says:

    सच्चाई उजागर करने लिए ,पत्रिका अखबार और उनके पत्रकारों को सलाम और बधाई भी

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code