मोदी राज में कश्मीर बार्डर पर फायरिंग की घटनाएं नौ गुना ज्यादा बढ़ीं

वर्ष 2019 में 2013 से 9 गुणा अधिक कश्मीर बॉर्डर फायरिंग की घटनाएँ… गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा लखनऊ स्थित एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर को दी गयी सूचना के अनुसार वर्ष 2013 की तुलना में वर्ष 2019 में जम्मू एवं कश्मीर के लाइन ऑफ़ कंट्रोल तथा अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर क्रॉस बॉर्डर गोलीबारी तथा सीजफायर उल्लंघन की 09 गुणा अधिक घटनाएँ हुई हैं.

नूतन ने 2013 से अब तक पाकिस्तान द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर किये गए हमलों तथा गोलीबारी एवं इन घटनाओं में शहीद तथा घायल हुए सुरक्षाकर्मियों की सूचना मांगी थी.

गृह मंत्रालय की जन सूचना अधिकारी सुलेखा द्वारा दी गयी सूचना के अनुसार वर्ष 2013 में 347 तथा वर्ष 2014 में 583 गोलीबारी की घटनाएँ हुई थीं जबकि नवम्बर 2019 तक 3086, वर्ष 2018 में 2140 तथा वर्ष 2017 में 971 घटनाएँ हुईं.

इस अवधि में सेना तथा सीमा सुरक्षा बल के 96 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए जबकि 489 घायल हुए.

सर्वाधिक 145 सुरक्षाकर्मी (29 शहीद तथा 116 घायल) वर्ष 2018 में हताहत हुए थे. वर्ष 2019 में 132 एवं वर्ष 2016 में 112 सुरक्षाकर्मी हताहत हुए. वर्ष 2013 में 38 तथा 2014 में 33 सुरक्षाकर्मी हताहत हुए थे.

Border firing in JK Border in 2019: 9 times that in 2013

As per the RTI information provided by Ministry of Home Affairs (MHA) to Lucknow based activist Dr Nutan Thakur, cross border firing and ceasefire violation incidences along the Line of control and International Border in Jammu and Kashmir in 2019 is around 09 times that in year 2013.

Nutan had sought information about the number of attacks and firing made by Pakistan and the number of security personnel killed and injured in these attacks from 2013 till date.

Information given by Sulekha, CPIO, MHA says that while there were 347 such incidences in 2013 and 583 in 2014, during 2019, there were 3086 incidences till November, while there were 2140 incidences in 2018 and 971 in 2017.

During this period a total 96 security personnel from Army and Border Security Force (BSF) got killed, while 489 were injured.

The highest number of security personnel killed or injured was 145 (29 killed and 116 injured) in 2018, followed by 132 in 2019 and 112 in 2016. This figure was 38 in 2013 and 33 in 2014.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code