दिवाकर मुक्तिबोध : छत्तीसगढ़ की हिंदी पत्रकारिता का चमकदार चेहरा

प्रो. संजय द्विवेदी

छत्तीसगढ़ यानी वह प्रदेश जहां हिंदी पत्रकारिता की उजली परंपरा का प्रारंभ पं. माधवराव सप्रे ने सन् 1900 में ‘छत्तीसगढ़ मित्र’ के माध्यम से किया। उसके बाद की पीढ़ी में तमाम नायक सामने आते गए और अपनी यशस्वी भूमिका का निर्वहन करते रहे। हमारे समय के नायकों में एक नाम है श्री दिवाकर मुक्तिबोध का।

आधुनिक हिंदी पत्रकारिता में उनकी मौजूदगी ऐसे संपादक की तरह है, जिसने बिना शोरगुल मचाए पत्रकारिता का धर्म निभाया। बड़े अखबारों के संपादक रहे इस व्यक्ति ने खुद को हमेशा आम आदमी बनाए रखा। रायपुर, बिलासपुर में उनकी सौम्य उपस्थिति हमने देखी और महसूस की है। दिवाकर मुक्तिबोध हमारे समय के उन संपादकों में हैं, जिन्होंने रिपोर्टिंग से अपनी शुरुआत की और बाद के दिनों में कुशल संपादक, राजनीतिक विश्लेषक के रूप में अपनी पहचान बनाई।

यशस्वी पारिवारिक परंपरा के संवाहक-

दिवाकर मुक्तिबोध

हिंदी के यशस्वी कवि-लेखक श्री गजानन माधव मुक्तिबोध का पुत्र होना ही आत्मगौरव का विषय है। दिवाकर जी का पिता के प्रति आदर है, किंतु वे उनके नाम का इस्तेमाल नहीं करते। उनका नाम लेने से वे संकोच से भर जाते हैं। पिता की यादें, उनका संघर्ष उनकी आंखों को पनीला कर जाते हैं। मां और पिता के प्रति उनका यह स्वाभाविक अनुराग और सम्मान उन्हें आज भी संबल देता है। हिंदी सेवा के भाव उन्हें अपने परिवार से विरासत में ही मिले हैं। अपने पिता की लंबी छाया के बीच पहचान बनाना कठिन होता है। किंतु दिवाकर जी ने साहित्य के बजाए पत्रकारिता का मार्ग पकड़ा और अपनी खास जगह बनाई। छत्तीसगढ़ क्षेत्र के दिग्गज संपादकों का स्मरण करें तो उनमें सर्वश्री चंदूलाल चंद्राकर, गोविंदलाल वोरा,स्वराजप्रसाद त्रिवेदी, बबन प्रसाद मिश्र, रमेश नैयर, गुरूदेव काश्यप, तुषारकांति बोस, श्रीकांत वर्मा, जगदीश उपासने, सुधीर सक्सेना, ललित सुरजन, विष्णु सिन्हा, रम्मू श्रीवास्तव, बसंत कुमार तिवारी, राजनारायण मिश्र, डा. हिमांशु द्विवेदी,सुनील कुमार, गिरिजाशंकर, रूचिर गर्ग जैसे अनेक नाम ध्यान में आते हैं। इन सबके बीच दिवाकर मुक्तिबोध का नाम भी बहुत सम्मान से लिया जाता है। मराठीभाषी होते हुए भी वे हिंदी सेवा में पं. माधवराव सप्रे जी के मार्ग के अनुयायी हैं।

विविध भूमिकाओं में बनी शानदार पहचान-

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में 5 अगस्त,1948 को जन्में दिवाकर जी ने समाजशास्त्र में स्नातकोत्तर की परीक्षा पास की।पत्रकारीय रुचि के चलते पत्रकारिता में स्नातक की डिग्री भी ली। छत्तीसगढ़ की पत्रकारिता के पिछले साढ़े चार दशक, दिवाकर मुक्तिबोध की पत्रकारीय यात्रा के गवाह हैं। मूल्यनिष्ठ पत्रकारिता के वे अप्रतिम उदाहरण हैं। राजनीतिक रिपोर्टिंग, खेल रिपोर्टिंग, उपसंपादक, समाचार संपादक, स्थानीय संपादक, संपादक जैसे अनेक भूमिकाओं में उन्होंने खुद को साबित किया। उनकी खास पहचान राजनीतिक विश्लेषक के रूप में बनी। दैनिक भास्कर एवं नवभारत में उनके स्तंभ हस्तक्षेप, हफ्तावार, देख भाई देख, बिंब-प्रतिबिंब बहुत सराहे गए। इन स्तंभों के अलावा भी उन्होंने विपुल लेखन किया है। अपने लेखों के माध्यम से वे हमारे समय की समस्याओं, संकटों, राजनीतिक संदर्भों पर पैनी टिप्पणियां करते रहे। जिनसे छत्तीसगढ़ का पाठक वर्ग जुड़ाव महसूस करता रहा। उनकी सबसे बड़ी खूबी यह है कि उनके लेखन में नीर-क्षीर-विवेक के दर्शन होते हैं। राजनीतिक विचारों से वे आक्रांत नहीं होते और सच के साथ निर्भीकता से खड़े होकर उन्होंने वही कहा जो उचित था। उनके समूचे लेखन में सच का स्पंदन है, उसका ताप है। वे कहते हैं तो सुनना अच्छा लगता है, क्योंकि वे हमारी बात कह रहे होते हैं। अपने जीवन में वे जितने सरल और संयत दिखते हैं, उनकी पत्रकारिता में उतना ही तेज और ताप है। आपसे निजी तौर पर वे बहुत सहजता, सरलता और धीमी आवाज में बात करेंगे, किंतु उनके मन में खबरों को लेकर जो तड़प है वह उनके पास बैठकर ही महसूस की जा सकती है। देशबंधु, नवभारत, अमृतसंदेश, दैनिक भास्कर, न्यूज चैनल वाच न्यूज,आज की जनधारा, अमन पथ, पायनियर जैसे मीडिया संस्थानों में काम करते हुए उनके साथ कई पीढ़ियों को पत्रकारिता का ककहरा सीखने का अवसर मिला। छत्तीसगढ़ के पत्रकार मित्रों से मिलते हुए दिवाकर जी बात हो तो ज्यादातर उनके मुरीद मिलेंगे। क्योंकि जब भी जिस भूमिका में रहे हों, दिवाकर जी ने सबके साथ न्याय किया है।

कुशल संपादक, योग्य नेतृत्वकर्ता-

दैनिक भास्कर- रायपुर और बिलासपुर और नवभारत-बिलासपुर के संपादक के रुप में दिवाकर जी जब कार्यरत थे, उनके काम को, कार्यशैली को निकट से देखने और महसूस करने का अवसर मिला। दैनिक भास्कर, बिलासपुर में तो वे मेरे संपादक ही रहे। उनके साथ काम करना वात्सल्य की छांव में काम करना है। वे अपने अपने अधीनस्थों की जिस तरह रक्षा करते हैं, वह विरल है। जिम्मेदारी देना और भरोसा करना उनसे सीखा जा सकता है। कम बोलकर भी वे ‘कमांड’ पूरा रखते हैं। भाषा के साथ उनका बहुत सावधानी का रिश्ता है। उनमें एक ऐसा कापी एडीटर है जो शुद्धता का आग्रही है। वे पत्रकारिता की भाषा के साथ कोई मजाक नहीं चाहते। इसलिए साफ-सुथरी कापी उनकी पसंद है। वे मूलतः रिर्पोटर हैं किंतु भाषा की उनमें विलक्षण समझ उन्हें सफल संपादक भी बनाती है। उनके साथ काम करते हुए मैंने उनसे अनेक पाठ सीखे। उनकी ऊंचाई के सामने आपका सारा अहंकार विलीन हो जाता है, मंद मुस्कान के साथ जब वे आपका, आपके परिवार का हाल पूछते हैं तो लगता है कि आपने सब कुछ पा लिया। दिवाकर जी सही मायनों में खालिस पारिवारिक व्यक्ति हैं, उनका लेखन भले ही सार्वजनिक हो। उनकी दुआएँ और उनका साथ हमें मिला, इससे हमारी और हम जैसों की दुनिया खूबसूरत ही बनी। हमें खुशी है कि उनकी जिंदगी में हमारे लिए जगह है। सारगर्भित लेखन और संपादन के लिए उन्हें 2008 में वसुंधरा सम्मान से भी अलंकृत किया गया।

किताबें बताती हैं समय का सच-

दिवाकर जी की दो किताबें ‘इस राह से गुजरते हुए’ और ‘36 का चौसर’ उनके लेखन की बानगी देती हैं, इतिहास को समेटे हुए, अपने समय का आख्यान करते हुए। ये किताबें बिलासपुर के श्री प्रकाशन से छपी हैं। दिवाकर जी की पहली किताब उनके विश्लेषणों की किताब है जिसमें वे विविध सामाजिक, राजनीतिक संदर्भों पर बात करते हैं। दूसरी किताब छत्तीसगढ़ केंद्रित है। इसमें छत्तीसगढ़ की राजनीति का जायजा है। उनके लेखों के गुजरते हुए इतिहास साथ चलता है। एक जिंदादिल पत्रकार किस तरह अपने समय को देखता और विश्लेषित करता है, यह भी पता चलता है। बावजूद इसके इन किताबों से दिवाकर जी पूरे पता नहीं चलते। इसके लिए उनके जानने वालों के पास जाना होगा। वे रिर्पोटर, संपादक, प्रबंधक, परिवार के मुखिया, पिता और दोस्त हर भूमिका में फिट और हिट हैं। उनके साथ होना एक ऐसे पुराने पेड़ की छांव में होना है, जो निरंतर अपने लोगों को छांव दे रहा है और आक्सीजन भी। वे महसूस नहीं कराते, आपके लिए कर देते हैं। वे वाचाल नहीं हैं, इसलिए बोलकर करना उनकी आदत नहीं है। वे कहते कम हैं, करते ज्यादा हैं। इस दुनिया में उन्होंने सिर्फ दोस्त बनाए हैं, दुश्मन नहीं। अपने सच और अपने विचारों के साथ खड़े इस व्यक्ति ने कभी दुराग्रह नहीं रखे, लाभ और लोभ में नहीं फंसे। इसलिए हर कोई उनका अपना है और वे सबके हैं। छत्तीसगढ़ क्षेत्र के दिग्गज नेताओं, सामाजिक क्षेत्र और विविध विधाओं के नायकों से उनके जीवंत रिश्ते रहे हैं। इन रिश्तों को उन्होंने जिया किंतु अपने लाभ के लिए कभी उनका इस्तेमाल नहीं किया। शुचिता और परंपरा की विरासत और उसकी ठोस जमीन पर वे हमेशा खड़े नजर आए। राजनीति पर लिखना, राजनेताओं से रिश्ते रखना किंतु अपने लेखन और जीवन को उससे बचाकर रखना वे ही कर सकते थे, उन्होंने किया भी। उनके जैसे व्यक्ति के बारे में ही यह उक्ति कही गयी होगी- ज्योंकि त्यों धर दीनी चदरिया। हिंदी की पत्रकारिता की सेवाओं के लिए उन्हें याद करना तो विशेष है ही, अच्छे मनुष्य के रूप में भी उनको याद किया जाना ज्यादा जरूरी है। क्योंकि इस कठिन समय में संपादक तो अनेक हैं किंतु मनुष्य कितने हैं। शायद इसलिए एक शायर लिखते हैं, “आदमी को मयस्सर नहीं इंसा होना। ”दिवाकर मुक्तिबोध को मैं बेहतर संपादक, आला इंसान ,शानदार बास और बड़े भाई के रूप में याद करता हूं। इस तरह उनका हमारी जिंदगी में होना हमें भी गौरव देता है।

लेखक प्रो. संजय द्विवेदी जनसंचार विभाग, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हैं. उनसे संपर्क मोबाइलः 9893598888 या ई-मेलः 123dwivedi@gmail.com के जरिए किया जा सकता है.

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *