इस महिला CEO से बच के रहियो, सेलरी मांगने पर लगा देती है छेड़खानी का आरोप!

नोएडा में एक और सैलरी हड़पने वाला न्यूज चैनल आया… चर्चा है कि नोएडा से जल्दी ही एक कथित नया नेशनल न्यूज़ चैनल लांच होने जा रहा है. नाम कुछ भी मान लीजिए. कार्या न्यूज या फार्या न्यूज या चार्या न्यूज. नाम में क्या रक्खा है. हां, लेकिन इनकी पहचान जरूरी है. कौन लोग हैं जो ये चैनल लेकर आ रहे हैं.

दावा किया जा रहा है कि इस कथित नए चैनल का बिल्डिंग और सेटअप तैयार हो चुका है. चैनल दावा कर रहा है कि पत्रकारिता के दिग्गजों का आना जाना शुरू हो चुका है, लेकिन चैनल का प्रबंधन किसी भी एक बड़े पत्रकार का नाम नहीं बता पा रहा है जो चैनल से जुड़ने को इच्छुक हो. इसके पीछे वजह है चैनल के मालिकों का खराब व घटिया रिकार्ड.

चैनल प्रबंधन का कहना है कि वह किसी बड़े पत्रकार और उसके लाव लश्कर की जगह नए तेज तर्रार पत्रकारों को मौका देना चाहता है. खैर, अब आते हैं असल मुद्दे पर.

नये तेज तर्रार पत्रकारों को मौका देने के नाम पर यहां चैनल में क्या होता है, इसकी हकीकत बताते हैं. जो लोग यहां नौकरी करते हैं, वे इस चैनल की सच्चाई अच्छे से जानते हैं. यहां नौकरी करने वालों के दिल से पूछो कि ये कहां आकर फंस गए हैं. ज्वॉइन करते वक्त तो चैनल का मालिक (जो लंबे चौड़े फॉड में दूसरे प्रदेश की जेल यात्रा कर चुका है) ऐसे बात करता है जैसे आज तक में नौकरी दे रहा है. वहीं, जब सैलरी देने की बात आती है तो यह व्यक्ति गली का गुंडा बन जाता है.

यह शख्स इतना धूर्त व नीच है कि इसे नये, युवा व तेजतर्रार पत्रकारों से गाली गलौज तक करने में कोई झेंप नहीं आती. यहां तक कि अगर कोई सैलरी मांगे तो मारपीट करने पर उतारू हो जाता है. इस मवाली टाइप चैनल मालिक का अपने स्टाफ के साथ बदसलूकी का आलम तो ये है कि हर कोई इस नंगे से बचना चाहता है.

यह मवाली टाइप चैनल मालिक लीगल नोटिस भेजने के लिए कुख्यात है. यह पहले भी मुंबई से लेकर दूसरे जगहों पर लोगों को पहले ठगता है, फिर लीगल नोटिस भेजकर उल्टा चोर कोतवाल को डांटे की तर्ज पर घेराबंदी करता है. यह अपने खिलाफ खबर छापने वालों को भी लीगल नोटिस फौरन भेज देता है. जितनी मेहनत यह लीगल नोटिस भेजने में करता है, उतनी मेहनत यह अपनी आदतों व सोच में सुधार लाने के लिए करता तो कम से कम एक सुसभ्य आदमी तो बन जाता.

अब आइए इस चैनल के एक दूसरे पात्र से मिलवाते हैं. जस राजा तस प्रजा की तर्ज पर जैसा मालिक, वैसी ही मालकिन. चैनल की CEO कोई और नहीं बल्कि चैनल मालिक की पत्नी ही है. यह कथित सीईओ अपने महिला होने का खूब फायदा उठाती है. जो लोग सेलरी मांगते हैं और सेलरी के लिए अड़े रहते हैं, उन पुरुष इंप्लाइज पर ये मोहतरमा छेड़खानी का आरोप लगा देती है.

कई लोग यहां काम करते थे और इनकी प्रताड़ना व सैलरी नहीं मिलने पर छोड़ कर चले गये. वे जब भी अपनी बकाया सेलरी मांगते हैं तो महिला सीईओ उन पर अपने साथ बदसलूकी करने का झूठा आरोप लगा कर पुलिस बुलाकर केस दर्ज करवा देती है.

ऐसे ही ना जाने कितने लोग हैं जो यहां काम करके अपने पैसे छोड़कर जा चुके है. जब भी वह पैसा मांगते हैं तो गाली-गलौज के अलावा कुछ नहीं मिलता.

अत: आप लोगों से गुजारिश है कि इस चैनल का लोक लुभावना विज्ञापन देखकर यहां ज्वाइन करने से बचें नहीं तो जो आज मेरे दोस्तों के साथ हो रहा है, वह कल आपके साथ भी होगा. यह कथित न्यूज चैनल आर्थिक रूप से कमजोर पत्रकारों को वरीयता देने का बात करता है, लेकिन कुछ दिन काम करवाने के बाद वहां काम करने वाले लोगों को आर्थिक रूप से यह चैनल कमजोर कर देता है.

पिछले दिनों यहां काम करने वाला एक वीडियो जर्नलिस्ट अपनी सेलरी मांगने गया तो महिला सीईओ ने उस पर छेड़खानी का आरोप लगा दिया. पुलिस दोनों पक्षों को थाने ले गई. कई घंटे की फजीहत के बाद आखिरकार महिला सीईओ को लौटना पड़ा.

पुलिस ने जांच में पाया कि यह महिला सीईओ तो छेड़खानी का आरोप प्रसाद वितरण की भांति लगाती है. वह वीडियो जर्नलिस्ट अपनी मेहनत की बकाया रकम मांगने गया था लेकिन उसे क्या पता था कि महिला सीईओ उस पर छेड़खानी का आरोप लगाकर फंसवा देगी.

नोएडा के पत्रकारों ने पुलिस को साफ चेतावानी दी थी कि अगर किसी गलत आरोप में वीडियो जर्नलिस्ट को फंसाया गया तो ठीक न होगा. ऐसे में पुलिस ने महिला सीईओ के फर्जीवाड़े के मंसूबे पर पानी फेरते हुए उन्हें टका सा जवाब देकर चलता कर दिया.

Shailendra Kumar
kshailendra334@gmail.com

Tweet 20
fb-share-icon20

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Support BHADAS

Comments on “इस महिला CEO से बच के रहियो, सेलरी मांगने पर लगा देती है छेड़खानी का आरोप!

  • अजय ठाकुर says:

    मेरी भी मार रखी है 2 महीने की सैलरी जितनी सैलेरी है उतना तो पेट्रोल वेस्ट कर चुका हूं फ़ोन मालिक से लेके सीईओ कोई पिक नही करता और व्हाट्सएप्प पे रिप्लाई किया नही जाता आफिस जाके मांगने से इसलिए परहेज करता हु की छवी धूमिल हो जायेगे छेड़छाड़ के मुकदमे से क्योकि सीईओ छेड़छाड़ प्रसाद के भाती लगती है , पुरुष तो छोड़िए महिला कर्मी तक पे 6 महीने के सैलेरी मांगने पर उसे आफिस में ही पीट दिया और गार्ड से बाहर निकलवा दिया लड़की पुलिस लेके आयी तो पुलिस को लेनदेन करके भेज दिया ।

    Reply
  • ye haal aajkal sab chote channels ka hai. India Voice ne bhi bina kuch notice aur 6 mahine ki salary payment diye bina channel band kar diya tha. Salary magne par waha ke HR Amitabh Jyotirmoy ne Raman Sinha, jo ki Senior Cameraman hai, ko bahut mara aur galiya di. Amitabh Jyotirmay to khule aam dhamki deta hai salary magne waale ko. Sunne me aaya ki ye channel waha ke tathakathit CEO Manoj Singh ne le liya hai, jisme UP CM ke media advisor # Mritunjay Singh paisa lagwa rahe hai.

    Ese me kya hoga Channels me jab is tarah ka management hoga to salary ki jagah maar aur bejjatti he milegi.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *