Connect with us

Hi, what are you looking for?

टीवी

टॉप पर पहुंचने को आतुर नाविका कल गर्म तवे पर बैठ गईं और राहुल गांधी को ‘ब्लडी’ बोल बैठीं!

Awesh Tiwari-

मौजूदा समय में देश में चवन्निया पत्रकारों की धूम है। कोई ग्रुप एडिटर बन कर बैठा है कोई एडिटर बनकर बैठा है। एक नाविका कुमार भी हैं। इनको भी अंजना ओम कश्यप रुबिका लियाकत की तरह जल्द से जल्द टॉप पर पहुंचना है। कल कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवानी के कांग्रेस में शामिल होने के बाद यह भी गर्म तवे पर बैठ गई और राहुल को ब्लडी कह बैठी।

Advertisement. Scroll to continue reading.

देखें वीडियो, क्लिक करें- navika ne rahul ko gali di

https://www.youtube.com/watch?v=5-WvoCDl0Lw

एंटी थकान गिरोह की अंग्रेजीदा सदस्य नाविका कुमार अर्नब के द्वारा तैयार किये गए कारकुनों में से एक है। बरखा दत्त बनने की नाकाम कोशिशों के बीच इनकी पत्रकारिता सिर्फ नुमाइश की चीज बन कर रह गई है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

यह बात नही भूली जानी चाहिए कि भाजपा की इस एजेंट ने टीवी के माध्यम से न केवल देश के किसानों, अल्पसंख्यकों का निरंतर अपमान किया है बल्कि सुशांत सुसाइड केस में इसने जिस तरह से रिया चक्रवर्ती का ट्रायल किया था वह एक बात बताती है कि यह देश की महिलाओं के भी विरुद्ध है।

इस किस्म के पत्रकारों, एंकरों का अब न केवल सामाजिक बहिष्कार किया जाना चाहिए बल्कि जर्नलिज्म के नाम पर उसके खिलाफ जाकर जो यह कर रहे हैं उसकी सजा भी मुकर्रर की जानी चाहिए। फासीवाद के इन टूल्स को अब और बर्दाश्त नही किया जा सकता। पत्रकारिता की इन सर्पकन्याओं को चाहिए कि वो जंगल मे ही रहें।

Advertisement. Scroll to continue reading.

Satyendra PS-

टाइम्स नाउ पर कोई क्रांति हो गई जिसके लिए नाविका सावरकर ने वीडियो बनाकर माफी मांगी है कि उनके 16 साल के कैरियर और सैकड़ों घण्टे की एंकरिंग में पहली गलती हुई है और आइंदा ऐसी गलती नहीं होगी। जबसे आरएसएस का शासन आया है तो पत्रकारों की प्रतिभा खुलकर सामने आ पा रही है। अन्य शासन में इनको बहुत सताया गया। बोलने का मौका नहीं मिला था। वैसे कांग्रेसिया सब हरामखोर गाली सुनने लायक हई हैं। जिस समय कांग्रेस सरकार थी और बड़े बड़े पत्रकार सोनिया राहुल के इंटरव्यू के लिए तरसते थे तो इन सबों ने अर्णव गोस्वामी के साथ इंटरव्यू सेट कराया। मनमोहन का राज सबसे गंदा रहा इस मामले में। उसके 10 साल के शासन में प्रशासन, शिक्षण संस्थान से मीडिया तक एक ही विचारधारा के लोग भरे रहे और अब जब उन सबों को जहर उगलने का मौका मिला है तो कांग्रेस उनके विष से काली पड़ गई है।

Advertisement. Scroll to continue reading.

Umesh Dwivedi-

यारो मुझे देश चलाने के लिए सिर्फ 7 लोगो की आवश्यकता है . एक मेरा प्यारा फोटोग्राफर जो 24 घण्टे साये की तरह मेरे साथ रहता है . दूसरी मेरी दो बेटियां अंजना और नाविका .बाकी मेरे चार बेटे है बड़ा बेटा रजत ( यह दरअसल दत्तक पुत्र है जेटली छोड़ कर गया था ) , उससे छोटा सुधीर ( यह बेटा ब्लैकमेल करने का आदि है जेल जा कर भी आया था लेकिन बेटे तो बेटे अपने ही होते है ) फिर उससे छोटा अर्नब ( अंग्रेजी हिंदी दोनो बोलता है बस बीच मे उसे ड्रग की लत लग गई थी कहने लगा था मुझे ड्रग दो ड्रग दो ) मेरा सबसे छोटा राजा बेटा है अमिश ( वह केवल हिन्दू मुस्लिम पर ही बात करता है यह बेटा मेरे मालिक का है )..

Advertisement. Scroll to continue reading.

मेरी एक और बेटी है जो मैं किसी को बताता नही क्योंकि मुझे सब हिन्दू सम्राट कहते है और मेरे भक्त मुझसे नाराज नही हो जांवे वो बेटी मुस्लिम है उसका नाम है रुबिका ..वो मेरा सबसे ज्यादा ध्यान रखती है वो बार बार मेरी सेहत का ध्यान रखती है बस एक ही बात हमेशा पूछती है ” पापा आप कितना काम करते हैं आप ” थकते ” नही है ? बाकी गोदी में तो कईं बच्चे बच्चियां है जैसे श्वेता उसने तो 2000 के नोट में चिप लगा कर बहुत मदद की थी नोटबन्दी के समय . राहुल कंवल अच्छी अंग्रेजी बोलता है थोड़ा नटखट है एक बेटे ने दाढ़ी बढ़ा रखी है अरे वो दीपक है वो गुटखा खाता है ईसलिये मैं पसंद नही करता लेकिन अपने तो अपने होते है . एक अवैध बच्चा और है राहुल शिवशंकर ..वो जबरन मेरी गोद मे लगता है .

एक ही नालायक है वो रवीश है . वो आज तक कभी काबू में नही आया है . बस यदि उसे मैं काबू कर लूं तो दुनिया जीत जाऊंगा .

Advertisement. Scroll to continue reading.
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

भड़ास को मेल करें : [email protected]

भड़ास के वाट्सअप ग्रुप से जुड़ें- Bhadasi_Group_one

Advertisement

Latest 100 भड़ास

व्हाट्सअप पर भड़ास चैनल से जुड़ें : Bhadas_Channel

वाट्सअप के भड़ासी ग्रुप के सदस्य बनें- Bhadasi_Group

भड़ास की ताकत बनें, ऐसे करें भला- Donate

Advertisement