देखिए दिल्ली पुलिस का घटिया व्यवहार, इंदु यादव ने फेसबुक पर मय तस्वीर शेयर की आपबीती

Indu Yadav : एक आपबीती घटना मंडे date 14/09/2015 evening in high- Fi area Delhi, Tula Ram Road red light. इवनिंग को इग्नू से वापस अपने घर आ रही थी। तुला राम फ्लाईवे के निचे से राईट टर्न लेना था और वहाँ पहुंची तब रेडलाईट थी तो रुकी मैं। जब लाईट हुई तब और विहाईकल्स के पीछे से चली, थोडी ही चली की अचानक एक स्कूटी वाला साइड से मेरे सामने आया और सामने आते ही तुरंत ब्रेक लगा दिया जबकि उसके सामने का पूरा रोड फ्री था यानी खाली था। जिस साइड से स्कूटी वाला आया उसी साइड पर पीसीआर PCR पुलिस की गाड़ी खड़ी थी जिसमें दो पुलिसवाले व्यक्ति थे।

उसके अचानक ब्रेक लगाने पर तुरंत मैंने भी ब्रेक लगायी। मेरे कार के एक साइड का कॉर्नर पर धीरे से लगा उस स्कूटी के पीछे की लाइट के कॉर्नर पर। वह अपनी स्कूटी से गिरता नहीं है फिर स्कूटी घुमा कर मेरे से सॉरी करता है। तभी ट्रैफिक पुलिस आती है और मेरे से चलान की बात करती है क्यों की मैंने बीच राश्ते में क्यों गाड़ी रोकी तब मेरा यही कहना था कि क्या इनके ब्रेक लगाने के बाद मैं इनके ऊपर से कार चढ़ाकर जाती। उसी दौरान PCR पुलिस आती है और ट्रैफिक पुलिस चालान नहीं करती और चली जाती है। PCR पुलिस स्कूटी वाले को साइड ले जाते हैं और मुझे कहते हैं कि रुको।

तब मैं बड़े प्यार से और कॉन्फिडेंस से रूकती हु कि मैंने अच्छा काम किया है कि इसके अचान ब्रेक लगाने के बाद भी इसे स्कूटी से गिरने नहीं दिया और इसे बचा लिया है। दो पुलिस मे से एक सीनियर पुलिसवाले सर फिर से मेरे पास आते हैं और कहते हैं और मैडम जी! तब मैंने कहा सर मैं जा सकती हूँ।

सर ने कहा- नहीं
मैंने कहा- क्यों नही?
सर- अब ये पुलिस केस होगी
मैंने- ऐसा कैसे हो सकता है without reason?

तब सर फिर उस लडके के साथ आते हैं और लड़का कहता है की मैं एक डॉक्टर हूँ all India hospital में मुझे गाड़ी चलाने आती है पर आपको नहीं आती वह अनाप सनाप बोलता जा रहा है। जब मैं चुप चाप उसे देख रही थी कि क्या ये सच में डॉ है तो फिर इसका विहैविअर ऐसा क्यों है। उससे बात करना चाह रही थी पर वह चिल्ला रहा था। फिर कहता है मैं north India से हूँ तब फिर सोच में पद गयी कि अगर ये नार्थ India से है तो यहाँ बताने से इसे क्या बेनिफिट होगा। हर second उसकी बातें change हो रही थीं लड़का मेरे से पैसे की डिमांड करता है। तब मैं समझ चुकी थी कि ये fraud है पहले तो मैंने मना की पैसे देने से , फिर लगा ये लालची लगता दो और अपना गला छुड़ाओ मैंने कहा कितना पैसे? उसने फिर बात बदल दी । अब कहता है कि मेरे साथ चलो मेरी गाड़ी ठीक कराने। PCR पुलिस का एक senior सर तमाशा बनवा रहे थे पर उनके साथ के junior पुलिस को इस पर सरम आ रही थी जिसका नाम है Rakesh जो सर से request की मैडम को जाने दो इनका driving Licence इनको देदो पर senior सर ने ऐसा डांटा की फिर junior को बोलने की हिम्मत ही नहीं हुई । मैं घर आ नहीं सकती थी क्यों की मेरा licence senior police ने देखने की लिए मांगी और अपने पास रख ली। मागने पर दे नहीं रही थे अपने गाड़ी में जा कर बैठ गए ।

और senior sir of police लडके को बार बार force कर रहे थे कि तुम 100 number पर call कर उनके बार बार कहने पर लड़का call 100 नo पर करता है वहाँ की एरिया पुलिस मैटर पूछती है तब मैटर कुछ था ही नहीं इसी लिए एरिया पुलिस नहीं आ रही थी। फिर senior police सर उस लडके के मोबाइल से खुद बात करते है 100 नo दोनों लड़का और सीनियर सर मुझे खूब डराने की कोशिस करते हैं । फिर मैं जिद पकड़ ली की CCTV footage दिखाओ और देखो मेरी बात कोई नहीं सुन रहा था । पुलिस कह रही थी की ये एरिया VIP इसलिए हम यहाँ खड़े थे पर मेरे मांगने पर CCTV footage देखाओ किसने गलती की है तब पुलिस का जवाब था की यहाँ कमरा नहीं है पर VIP एरिया है। बस अपनी मरजी के बोल रहे थे। ऐसा ही ड्रामा करते करते 2 घंटे लगा दिए। फिर एरिया पुलिस आई किसी ने भी मेरी नहीं सुनी , नहीं जानना चाहा की गलती किसकी है? सच क्या है? किसी ने भी उस लडके से ये नहीं पूछा कि साइड से आकर कर कार के सामने अचानक ब्रेक क्यों लगाया?

वह मुझे क्यों फंसना चाह रहा था? मुझे डर है कि ऐसा फिर हो सकता है मेरे साथ. एरिया पुलिस उस लड़के को मेरे Rs 400 hundred दीलायी फिर मैं घर आई। जबकि वह ज्यादा पैसे की मांग कर रहा था। सच को मरते देखा था मैंने, तभी मेरे मन में बहुत से questions आते जा रहे हैं कि क्या वह लड़का पैसे के लिए ऐसा करता है या कोई और वजह है? क्या वह फिर मेरे साथ ऐसा करेगा किसी और के द्वारा या खुद? क्या वह किसी गैंग का आदमी है जो लोगो के साथ चीटिंग करके ऐसे ही पैसे कमाते हैं? या क्या वह मेरे साथ ही ऐसा किया पर क्यों किया? मुझे कुछ भी नहीं पता? क्या वह मुझे फ़साना चाहता था झूठी केस में? पर क्यों? पर जाते-जाते बोल गया वह टाटा मोटर्स में working है। पुलिस ने मेरे को उससे उसके office का कार्ड भी दिए हैं। किसी और के साथ ऐसा न हो या आप सभी इससे बचने को अलर्ट हो जाएँ इसी लिए ये information यहाँ share करना जरूरी समझी और share की हूँ। आप सभी देखें कौन है ये.

उच्च शिक्षित उद्यमी और सोशल मीडिया पर सक्रिय इंदु यादव के फेसबुक वॉल से.


इसे भी पढ़ें:

दिल्ली में हरिभूमि डाट काम के पत्रकार राहुल पांडेय के घर भीषण चोरी, पुलिस बेपरवाह

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “देखिए दिल्ली पुलिस का घटिया व्यवहार, इंदु यादव ने फेसबुक पर मय तस्वीर शेयर की आपबीती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *