ये महिला उप-कुलपति तो भयानक जातिवादी है, 16 सामान्य (EWS सहित) पदों पर 13 ब्राह्मण और दो भूमिहार चयनित!

सुजीत सिंह प्रिंस-

जितने प्राध्यापकों ने विपरीत परिस्थिति में विवि में पठन पाठन का माहौल बनाया, सबको बाहर कर दिया गया

परीक्षा करा कर प्रश्न पत्र जमा करा लिया गया… विवि की वेबसाईट पर प्रश्नपत्र अपलोड ही नहीं किया गया और प्रश्नों पर आपत्ति माँग ली गई… अब बिना प्रश्न पत्र और प्रश्न संख्या के कोई आपत्ति भला कैसे कर पाएगा…

कब से साक्षात्कार होना है इसकी भी सूचना विवि की वेबसाईट पर अपलोड नहीं की गई…

विश्वविद्यालय की वेबसाईट पर जानबूझकर इतना ही अपलोड किया गया कि अभ्यर्थी केवल अपनी API तथा लिखित परीक्षा के प्राप्तांक देख सकें… विषयवार सभी अभ्यर्थियों की सूची, उनकी API, परीक्षा का प्राप्तांक और साक्षात्कार हेतु सफल अभ्यर्थियों की सूची विवि. के वेबसाईट पर कभी अपलोड ही नहीं की गई…

चयन सम्बधी UGC के निर्देश में विश्वविद्यालय को चयन सम्बंधी पूरी प्रक्रिया को वेबसाईट पर अपलोड करना अनिवार्य है… देखें निर्देश-


अब पूरा मामला समझिए…

जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय, बलिया की उपकुलपति प्रो. कल्पलता पांडेय हैं। इनके कारनामे इन दिनों चर्चा में हैं।

जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय बलिया में जनरल और EWS (आर्थिक रूप से कमजोर) वर्ग में कुल 16 नियुक्तियां बतौर असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर हुई है जिसका विषयवार जातीय विवरण इस प्रकार है-
ब्राह्मण वर्ग से 13 और भूमिहार ब्राह्मण वर्ग से 3
विषयहिंदी

  1. अभिषेक मिश्र S/O कमलेश मिश्र
  2. प्रमोद शंकर पांडेय S/O प्रेम शंकर पांडेय (EWS)
    राजनीति विज्ञान
  3. अनुराधा राय D/O रमेश चंद्र राय
  4. रजनी चौबे D/O कुंज बिहारी चौबे
    समाजशास्त्र
  5. अभिषेक त्रिपाठी S/O रवि प्रकाश त्रिपाठी
  6. कुमारी स्मिता D/O भरत भूषण त्रिपाठी
    अर्थशास्त्र
  7. गुंजन कुमार S/O अनिल पांडेय
  8. शशिभूषण S/O रंगनाथ पांडेय
    अंग्रेजी
  9. सरिता पांडेय D/O मुरलीधर दुबे
  10. नीरज कुमार सिंह S/O हरिशंकर सिंह ( भूमिहार ब्राह्मण, मिर्जापुर)
    वाणिज्य
  11. नीलमणि त्रिपाठी S/O रमाकांत त्रिपाठी
  12. विजय शंकर पंडित S/O केपी पांडेय
    समाजकार्य
    13.संजीव कुमार S/O महेंद्र सिंह (भूमिहार ब्राह्मण)
  13. पवन कुमार त्रिपाठी S/O शिव कुमार त्रिपाठी (EWS)
    गृह विज्ञान
  14. सौम्या तिवारी S/O राम कुमार तिवारी
  15. तृप्ति तिवारी W/O राम नरेश तिवारी (EWS)

इस प्रकरण को लेकर एक स्थानीय अख़बार ने विस्तार से खबर का प्रकाशन किया है… देखें और पढ़ें-


इस गड़बड़ घोटाले के ख़िलाफ़ राज्यपाल से लिखित शिकायत की गई है-

To,

His Excellency

Smt Anandiben Patel

Governor of Uttar Pradesh.

Dated: 28th of July 2022

Subject:  In relation with the lack of transparency on part of Vice Chancellor of JNCU in filling up the appointment of Assistant professor under Advertisement no 5440/2021.

Your Excellency,

With due respect madam, I want to state that I am an applicant for the post of Assistant professor in Jannanayak Chandrashekhar University Ballia as per advertisement number 5440/2021 published on 07/12/2021. I am writing this letter, to throw light on how the ongoing process of the above mentioned advertisement lacks transparency on part of Vice Chancellor, Registrar and Controller of examination, violating all the norms prescribed by UGC and Governor’s Secretariat Officewhile making appointments. The written examination on eight permanent subjects started from 14th of June and was completed on 25th of July, but throughout the process, the organizing authority has failed to maintain lucidity required for such appointments. The Vice Chancellor, the Registrar and the Controller of examination has knowingly created an obscure atmosphere, thereby breaking the trust of hundred of applicants.

Madam, I as an applicant have full trust on your governance and therefore writing you this letter to bring to your light some of the pivotal points that would give you a clearer picture of how, the Vice Chancellor, the Registrar and the Controller of Examination has defied all norms in carrying out this selection process. 

• The University did not give; neither uploaded the question papers for the applicants on the University website, thereby seizing their right of objection, which in itself is a violation of Fundamental right of every examinee.

• There were certain applicants who were already working as a guest faculty in the University and they are already aware of the tyrannical and manipulative nature of the Vice chancellor. The fear of being removed from the appointment itself compelled many to not object against the system. Although under pressure, some wrote mail asking about the need of uploading the question paper, the University not only rejected their demand but also issued a statement stating that the University has received no objection and will carry out the process of recruitment. (Enclosure attached)

• The University has failed to upload or provide any Cut off score/ merit list/ rank of applicants in any departments till the date since examination. On the other hand appointments are being carried out on other Universities like Shri Ram Manohar Lohia University Faizabad and University of Lucknow, where everything is made crystal clear for the welfare of the applicants.( Enclosure attached)

• According to reliable sources, it is found that the University is carrying out the interview of the candidates to fill various post of Assistant Professor in a hidden manner. The University did not provide any information regarding the date of interview, the number of candidates called, and their registration or roll number, their total score. Which makes her intentions very suspicious?

• The Vice Chancellor of JNCU Ballia, is a local of Ballia herself and therefore her intentions seems very clear where she is using her power to make appointments of her known candidates. She has been linen towards particular caste (Brahmins). So far all the appointments made are of Brahmins be it the academic directors, Associate professors or other lucrative positions in the University premise. It is suspected that she will carry on the same process in the upcoming appointments. 

• The appointments made for the Associate professor lacks all the transparency, but since no one objected to it, she remains clean.

• The Vice Chancellor’s period of servitude retires very soon, and her power seizes in the month of August. All appointments are being carried out in a rapid, haphazardousand ambiguous manner to make appointments of known one.

• As per UGC circular No. F. 1-1/2018 (CPP- I/PU) dated 17th July 2019, all Higher Educational institutions were asked to put relevant information about their institutions on their website with supporting documents. And as per the order of governor of UP NO E-3019/32/GS/2020 all the universities are asked to maintain transparency in the recruitment process. Why is the university not following the due process? Is it done to provide benefit to particular person/ community by defying all the rules and regulations of UGC and Governor Secretariat order? (Enclosure Attached).

Madam, this letter has been written with loads of hope and expectancy. You have been a teacher for so many years and you know the value of good teachers. Such appointments ruin chances for able candidates to get opportunity to provide service. It is humble request to you to take cognizance & prompt action and rebuke this recruitment with immediate effect, so justice be done. 

Ritambhara

राज्यपाल के यहाँ से जाँच के लिए पत्र आया है-

पदों का विवरण और तैनाती किए जाने के लिए शर्तों का डिटेल इन कार्यालय आदेश में देखें-



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Comments on “ये महिला उप-कुलपति तो भयानक जातिवादी है, 16 सामान्य (EWS सहित) पदों पर 13 ब्राह्मण और दो भूमिहार चयनित!

  • विनय अहिरवार says:

    आरक्षण से नौकरी पाने वाले लोग पागल हो गए हैं कुलपति के अलावा भी समिति में बहुत सारे लोग होते हैं जो सहनशक्ति बनती है और यह मैडम तो उन कुलपति हैं कुलपति भी नहीं है इससे समझ में आता है कि आरक्षण बीवी को आरक्षण न मिलने का बहुत कष्ट है लगता है उसका सिलेक्शन नहीं हुआ है जो सिलेक्शन चाहता था उसी का कष्ट वह यहां पर घट कर रहा है

    Reply
    • Koshal kashyap says:

      जिसकी लाठी उसी की भैंस
      आज तक ऐसा ही तो होता आया है ओबीसी में ओबीसी की ऊंची जातियां 17 अति पिछड़ों का हक पर कब्जा कर रही है

      Reply
  • Agar chayan prakriya shi nikli jaanch me to chanel band krke patrakarita se sanyas le loge?? …….bolne se pehle thoda socha karo ki bol kya rhe ho…

    Reply
  • Koshal kashyap says:

    जिसकी लाठी उसी की भैंस
    आज तक ऐसा ही तो होता आया है ओबीसी में ओबीसी की ऊंची जातियां 17 अति पिछड़ों का हक पर कब्जा कर रही है

    Reply
  • Ramlakhan Sharma says:

    योग्य एवं जीनियस उम्मीदवारों के नियमानुसार चयन से जाति-आरक्षणवादियों को आपत्ति होना लाजिमी है, क्यूंकि केवल जाति-आरक्षण के आधार पर ,बिना परीक्षण के उनकी नियुक्तियां नहीं हो सकीं।

    Reply
  • अंग्रेजो ने बरहमनवाद के नाम पर अत्याचार और गलत मानसिकता को बढावा लेकिन अपनी जाति प्रति को फायदा देख कर बरहमन जज की नियुक्ति बंद कर दी थी कि इनमें नयाय चरित्र नहीं है । आज फिर से प्रचलित है । बंद हो ।

    Reply
  • दीपक कुमार says:

    आपने इस संबन्ध में अच्छी आवाज उठाई है, आपको बहुत सारी शुभकामनाएं। वैसे मनुवादियों की सरकार में ये बात मनुवादियों को खल सकती है तो अपना ख्याल भी रखें। सरकार चाहे अखिलेश की हो या योगी की अन्याय के खिलाफ आवाज उठाते रहना ही अच्छी पत्रकारिता है। हमारा देश आजकल जिस दिशा में जा रहा है वो बड़ा चिंतनीय विषय है, खुद देशवासियों को सोचना होगा, आवाज उठानी होगी।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.