प्रबंधन के रवैये से नाखुश जी पुरवैया के आरई कुमार प्रबोध समेत सात पत्रकारों ने दिया इस्तीफा

बिहार से खबर है कि जी पुरवैया के रेजिडेंट एडिटर कुमार प्रबोध और उनकी टीम ने जी मीडिया प्रबंधन के मुंह पर इस्तीफा दे मारा है. सूत्रों का कहना है कि जी मीडिया प्रबंधन लगातार बिजनेस टारगेट पूरा करने के लिए दबाव बनाए हुए था. प्रबंधन ने बिहार के लिए दस करोड़ रुपये का बिजनेस टारगेट दिया था. ऐसे में पत्रकारिता कर पाना संभव नहीं था. इसको देखते हुए कुमार प्रबोध ने अपनी पूरी टीम के साथ इस्तीफा दे दिया.

वहीं चर्चा ये भी है कि जगदीश चंद्रा द्वारा लाई गई टीम को इन दिनों जी मीडिया में निशाना बनाया जा रहा है. कुमार प्रबोध और उनकी टीम ईटीवी से इस्तीफा देकर जी मीडिया में आई थी. तब वह जगदीश चंद्रा का दौर था. जो नया प्रबंधन आया है, उसने जगदीश चंद्रा के जमाने में लाए गए लोगों को भारी भरकम बिजनेस टारगेट देकर इसे पूरा करने के लिए दबाव बनाने के बहाने परेशान करना शुरू कर दिया है. इससे आजिज आकर कुमार प्रबोध और उनकी टीम ने इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा देने वालों के नाम इस प्रकार हैं- कुमार प्रबोध, शशि भूषण, शैलेंद्र साहिल, शालिनी, संतोष, रोशन वर्मा, राकेश रोशन.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “प्रबंधन के रवैये से नाखुश जी पुरवैया के आरई कुमार प्रबोध समेत सात पत्रकारों ने दिया इस्तीफा

  • CRIMES WARRIOR says:

    इस प्रबोधवा ने सुना है चैनल में सब एक खास जाति के अपने चहेतों को भर लिया था….सही घेरा है इसे चैनल वालों ने……

    Reply
  • लगता है यशवंत जी आपको सही जानकारी नही दी गई है कुमार प्रबोध और उनके गुर्गों ने इस्तीफा दिया नहीं था, बल्कि चैनल ने जबरन इस्तीफा ले लिया था।

    Reply
  • rahul sharma says:

    जी बिहार झारखंड के कुमार प्रबोध से प्रबंधन ने लिया इस्तीफा… भड़ास पर जो खबर छपी है ..प्रबंधन के रवैये से नाखुश जी पुरवईया के आरई कुमार प्रबोध समेत सात पत्रकारों ने दिया इस्तीफा..ये खबर पूरी तरह निराधार है…इसमें मेरा वर्जन स्वीकार करें… ज़ी बिहार झारखंड चैनल के पटना ब्यूरो में कार्यरत कुमार प्रबोध और उनकी टीम से प्रबंधन ने इस्तीफा ले लिया है…जी प्रबंधन को कुमार प्रबोध और उनकी टीम के खिलाफ लगतार और कई शिकायतें मिल रही थीं। सूत्रों के मुताबिक, चैनल की आड़ में कुमार प्रबोध और उनकी टोली अवैध वसूली में लगी हुई थी, इस बाबत जी प्रबंधन ने आंतरिक जांच भी कराई थी। जांच में आरोपों को सही पाए जाने के बाद प्रबंधन ने इनसे इस्तीफा ले लिया। जिन लोगों से इस्तीफा लिया गया है., उनमें कुमार प्रबोध, शशिभूषण, विवेकानंद, शैलेंद्र साहिल, शालिनी सिंह, संतोष, राकेश रौशन और रौशन वर्मा शामिल है। बिहार के मीडिया में ये भी चर्चा है कि कुमार प्रबोध और उनकी टीम ने जी समूह के पटना ऑफिस को पूरे कब्जे में ले रखा था, अपनी इसी मंशा को पूरा करने के लिए कुमार प्रबोध ने कई अवैध नियुक्तियां भी कर रखी थी । जैसे ही इसकी भनक जी प्रबंधन के नोएडा हेड ऑफिस को लगी तो आनन-फानन से इन पर चैनल छोड़ने का दवाब डाला गया। बिहार के मीडिया के में एक चर्चा ये भी है कि कुमार प्रबोध जिस चैनल में जाते हैं, उसका बंटाधार कर देते हैं। उनकी पूरी टीम एक गैंग के तौर पर काम करती है। जो प्रबंधन पर दवाब बनाने के अलावा फील्ड में चैनल के नाम पर अवैध उगाही भी करती है… इससे पहले भी कुमार प्रबोध पर कई आरोप लग चुके हैं। कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर जी बिहार झारखंड के पटना ऑफिर में ही कार्यरत कन्हैया सिंह ने भी कुमार प्रबोध पर भ्रष्टाचार और उगाही का गंभीर आरोप लगाया था। इसी के बाद से माना जा रहा था कि कुमार प्रबोध और उनकी टीम का जाना तय है। जी बिहार झारखंड में कभी काम करने वाले कन्हैया ने फेसबुक पर कुमार प्रबोध के खिलाफ बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं.
    सादर
    राहुल शर्मा
    जी बिहार झारखंड
    rahuls2d@gmail.com

    Reply
  • Rajesh Ranjan says:

    कुमार प्रबोध और टीम भूमिहार को जी वालों ने निकाल​ दिया है। ये लोग जातिवाद करते थे। अवैध वसूली करते थे। विवादित संपत्ति​यों पर कब्जा करने का काम करते थे।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *