मोदी, मीडिया, किसान और कार्टून

किसान आंदोलन और मीडिया की भूमिका पर कुछ कार्टून वायरल हैं। सत्ता की भाषा बोलने वाला दलाल मीडिया आंदोलनकारी किसानों को खालिस्तानी बता रहा है। यह शर्मनाक है। देखें कुछ कार्टून्स-

वरिष्ठ पत्रकार पंकज चतुर्वेदी की ये पोस्ट भी पढ़ें-

सिंघु बॉर्डर महा सभा में फ़र्ज़ी पहचान के साथ रिपब्लिक भारत की टीम घुसी और वहां से लाइव कर रहे थे कि शाहीन बाग से आये मौलाना यहां आ गए हैं और शाहीन बाग बना रहे हैं।

उसके बाद महिला पत्रकार को खदेड़ा गया। कैमरामैन के धौल लगा कर खदेड़ा गया। अब रिपब्लिक वाले पगला गए हैं। जान लें यही कैमरामैन व पत्रकार को शाहीन बाग से भी खदेड़ा गया था।

असल में यह पत्रकारिता के नाम पर नीचता का चरम है। ये चिल्ला रहे हैं कि आंदोलनरत लोग असली किसान नहीं हैं।

मुसलमान क्या देश का नागरिक नहीं है? क्या वह जन आंदोलन में शामिल नहीं हो सकता? क्या शाहीन बाग एक जन आंदोलन नहीं था?

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *