एनडीटीवी ने अडानी के हाथों बिकने संबंधी चर्चाओं को निराधार बताया

एक अखबार में खबर क्या छपी, एनडीटीवी के बिकने की अफवाह सोशल मीडिया पर दौड़ पड़ी. लोगों ने खरीदारों के नाम तक बता दिए. ज्यादातर ने कहा अडानी. ऐसा इसलिए क्योंकि अंबानी तो नेटवर्क18 और ईटीवी समूह खरीद चुके हैं इसलिए अब बचे हैं पावरफुल अडानी. हो सकता है अडानी मीडिया बिजनेस में आएं और साखदार एनडीटीवी के सहारे धमाल मचाएं. लेकिन एनडीटीवी यानि न्यू दिल्ली टेलिविजन (एनडीटीवी) ने मीडिया में किसी भी संभावित अधिग्रहण के संदर्भ में उठ रही अफवाहों और अटकलाजी को खारिज कर दिया है.

एक विज्ञप्ति जारी कर एनडीटीवी ने अपनी स्थिति स्पष्ट की. एक दैनिक अखबार में छपी खबर के हवाले से शुरू हुई चर्चा के बारे में एनडीटीवी ने बीएसई को जवाब भेजा है. अखबार में ‘अधिग्रहण की अफवाह से एनडीटीवी का शेयर 20 प्रतिशत उछला’ की हेडिंग के साथ खबर छपी है. अपनी विज्ञप्ति में एनडीटीवी ने कहा है कि कंपनी को किसी भी प्रकार की सौदेबाजी या कारोबार के बारे में कोई जानकारी नहीं है. अगर किसी भी प्रकार का ठोस समझौता या कारोबार होने के बारे में विचार विमर्श होगा तो वे खुद उचित समय पर इसका खुलासा करेंगे. हो सकता है कि 24 जुलाई को एक ही दिन में एनडीटीवी के शेयर में 20 प्रतिशत उछाल होने के कारण मार्केट में ऐसा अनुमान लगा हो कि कोई अनाम व्यक्ति एनडीटीवी का हिस्सा खरीद रहा है. विज्ञप्ति के अनुसार मार्केट में एनडीटीवी के अधिग्रहण की संभावना की भी अफवाह है. पहले भी इन तरह की अफवाहों पर एनडीटीवी के अधिकारियों ने सवाल उठाते हुए उन्हें खारिज ही किया है.

मूल खबर…

क्या एनडीटीवी का भी अधिग्रहण होगा?

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “एनडीटीवी ने अडानी के हाथों बिकने संबंधी चर्चाओं को निराधार बताया

  • JAIDEV SINGH says:

    विज्ञप्ति के अनुसार मार्केट में एनडीटीवी के अधिकारियों ने सवाल उठाते हुए उन्हें खारिज ही किया है.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *