टेक्निकल प्राब्लस से जूझ रहे हैं सहारा ग्रुप के न्यूज चैनल

सहारा मीडिया के न्यूज चैनलों में से कोई न कोई आए दिन तकनीकी समस्याओं से जूझता रहता है जिसके कारण कई शो और कई कार्यक्रम प्रसारित नहीं हो पाते. बीते माह एक रोज तो सभी न्यूज चैनल ब्लैंक हो गए थे जिसके चलते कोई भी कार्यक्रम नहीं जा सका.

भड़ास4मीडिया के हाथ कुछ चैट लगे हैं जिससे पता चलता है कि सहारा मीडिया के न्यूज चैनलों का तकनीकी सिस्टम पुराना व आउटडेटेड हो चुका है. इसी कारण आए दिन किसी न किसी समस्या से कोई न कोई न्यूज चैनल जूझता रहता है.

देखें सहारा के न्यूज चैनलों के तकनीकी वाट्सअप ग्रुप में बातचीत के कुछ स्क्रीनशाट्स-



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप ज्वाइन करें-  https://chat.whatsapp.com/JYYJjZdtLQbDSzhajsOCsG

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



Comments on “टेक्निकल प्राब्लस से जूझ रहे हैं सहारा ग्रुप के न्यूज चैनल

  • संदीप शुक्ला says:

    सहारा ग्रुप तो अपने इन्वेस्टर्स को बहुत ही बेवकूफ समझ रखा है, उसके एजेंट्स सहारा शाइन एफ डी की परिपक्व राशि की देनदारी के लिए इन्वेस्टर्स को कई तरह से गुमराह करते हैं और पैसे नही देना चाहते हैं।
    परिपक्व राशि को पुनः सहारा की किसी योजना में लगाने का प्रलोभन देते हैं। ऐसे में सहारा से लोगों का विश्वास अब पूरी तरह उठ चुका है, उसके न्यूज़ चैनल की बात तो अब जाने ही दीजिये।

    Reply
  • Vaseem akram says:

    Sahara chor company se sabhi ka Vishwas khatam hai su brat ray Hindustan ka Sabse bara jhoot bolne wala satir kiladi hai

    Reply
  • Parveen kumar says:

    Pata nahi sahara grup pe Sarkar meharban kyo h , sahara ne logo ke paise dene h or ye de nahi rahe sarkar is mamle pe aankhe band karke bethi h sahara ke pass arbo ki paroparty hone ke babjud sarkar logo ke paise nahi dilwa rahi

    Reply
  • Kanji prajapati. says:

    SEBI or suprime court se nivedad ke sath avgat karana he ki sahara ke mater ka mamla jaldi se jald.niptane ki kryupa kare taki.agent party ko rahat mile..gujarat ahemdabad gandhinagar.8490875575.mobil

    Reply
  • Sahara if wants to do something for its investors , they should return their hard earned money in this time of Crisis.
    But again they will have some SOLID excuse.

    Reply
  • Sub rat ray sahara ka zamieer hi nai hai na insaniyat. Jo apne worker ka nai wo customer ka Kya hoga. Duniya ko dikhata kuch he aur krta kuch he jo maa baap aur desh ka nai wo dusre ki takliff ko Kya Jane ga.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code