दलालों और बिजली विभाग के अधिकारियों के चक्रव्यूह में फंसे पत्रकार की पीड़ा

Salman haider, Meerut-

मैं 12 साल से पत्रकारिता कर रहा हूं। मैंने महुआ चैनल से शुरुआत की उसके बाद करीब 4 साल ईटीवी में काम किया ईटीवी छोड़ने के बाद मैंने समाचार प्लस ज्वाइन किया जिसमे करीब 6 साल बागपत और मेरठ में रिपोर्टर रहकर काम किया। समाचार प्लस बंद होने के बाद से सहारा समय में रिपोर्टर हूँ और आज भी अपनी सेवाएं दे रहा हूं।

13 सितंबर 2021 को मेरे साथ एक अनहोनी घटना घटित हो गई। मैं बिजली विभाग के दलालों और अधिकारियों के चक्रव्यूह में फंस गया। हुआ कुछ ऐसा की में अपने निजी कार्य से बिजली विभाग के कर्यालय में जा रहा था जैसे ही में एसडीओ कार्यालय पर पहुँचा तो मुझे कार्यालय के अंदर से शोर शराबे की आवाज़ आई मैने पास जाकर देखा तो एक युवक को बंधक बनाकर एसडीओ कार्यालय में पीटा जा रहा है। एसडीओ अनीस खान और उसके साथी एक युवक को बुरी तरह अपने कार्यालय में पीट रहे है।

मैंने मोके पर पहुँच कर वहां की लाइव मार पिटाई शूट करना शुरू कर दिया। जिसको देख कर वहां मौजूद एसडीओ और उसके साथी बोखला गए और खबर चलने के डर से उन्होंने मुझको बंधक बना लिया। इस दौरान वही मौजूद एक युवक ने बिजली विभाग में दलाली करने वाले पत्रकार को फोन किया फोन पर दलाल पत्रकार ने अधिकारियों को इस प्रकरण से बचने का उपाय बताया और मोके पर अपने कैमरा मेंन को भेज दिया, उसके बाद एसडीओ ने मेरे से फोन व मेरी माइक आईडी छीन ली वहां हुई छीना झपटी में मुझे खरोच भी आई। मामला बिगड़ता देख एसडीओ ने अपने कपड़े फाड़कर मुझ को उस लड़के का साथी बताते हुए हम दोनों पर मारपीट करने का, सरकारी कार्य में बाधा डालने का और बंधक बनाकर पीटने का उल्टा आरोप लगा दिया।

इस प्रकरण को सच्चा दिखाने के लिए मुझपर बिजली चोरी करने का आरोप लगाते हुए मुकदमा होने का आरोप लगा दिया इस घटना होने के घंटो बाद मेरे मेरे पर बिजली चोरी का मुकदमा लिखा दिया गया अगर में बिजली चोरी कर रहा था तो उस प्रकरण से पहले मुझपर मुकदमा होना चाहिए था पहले क्यों नही हुआ जबकि पश्चिमांचल में 1000 से ज्यादा कर्मचारी और अधिकारी हमेशा मौजूद रहते हैं इतनी बड़ी फौज के बीच कोई भी निहत्था व्यक्ति किसी एसडीओ को बंधक बनाकर उसी के आफिस के अंदर आकर पीट सकता है?

उसके बाद मौके पर पुलिस को बुला लिया गया और पुलिस हमें थाने ले आई मैंने थाने में अपनी तहरीर दी लेकिन मेरी तहरीर पर कोई कार्रवाई नही की गई अधिकारियों के दबाव में मेरे पर मुकदमा लिख दिया और न्यायालय में पेश कर दिया प्रथम दृष्टि के अनुसार उसी समय मुझको औऱ उस लड़के को मजिस्ट्रेट ने जमानत दे दी उसी दलाल पत्रकार ने अपने चैंनल पर मेरे खिलाफ खबर भी प्रसारित कर दी में आशा करता हूँ कि आप मेरी खबर प्रकाशित करते हुए मेरे लिए आवाज़ उठाएंगे

सलमान हैदर
वरिष्ठ. पत्रकार, मेरठ
salmanraja46@gmail.com
9548806222
9368884333

भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code