नेटवर्क18 ग्रुप के एमडी और एडिटर इन चीफ़ राहुल जोशी ने 4500 कर्मियों को मेल भेज कर क्या कहा, पढ़िए

नंबर 1 का मिज़ाज बनाए रखें!

साथियों,

आप लोगों ने हाल ही में अपने नेटवर्क के एडवरटाइज़िंग कैंपेन को देखा होगा, जो प्रिंट, टीवी और डिजिटल हर प्लेटफॉर्म पर था और जिसमें बिजनेस, इंग्लिश और हिंदी के हमारे राष्ट्रीय चैनलों के नंबर 1 पर होने की भारी- भरकम गूंज थी।

नंबर 1 की श्रेणी में पहुंचने वाला हमारा सबसे ताजा ब्रांड न्यूज़18 इंडिया है, जो हमारे नेटवर्क का सबसे बड़ा चैनल भी है। इसने पिछले दो हफ्ते से आज तक (Aaj Tak) को हिंदी न्यूज़ चैनलों के शिखर से लुढ़का दिया है। यही नहीं, पहले हफ्ते के मुकाबले दूसरे हफ्ते में बाकी चैनलों के मुकाबले और आगे निकला है, शीर्ष पर अपनी पकड़ को और मजबूत किया है। हम टॉप 3 चैनलों में काफी पहले से रहे हैं, आज तक को शहरी इलाकों में समय समय पर पटखनी भी देते रहे हैं, लेकिन इस बार हमने सभी time bands, age groups और socio-economic classes के मामले में भी बढ़त हासिल की है।

आज तक, इंडिया टीवी, एबीपी न्यूज़ सहित तमाम हिंदी न्यूज़ चैनलों के मुकाबले जबरदस्त बढ़त हासिल करने के लिए न्यूज़18 इंडिया की पूरी टीम को सलाम! हम अपनी बढ़त को लेकर और आश्वस्त हुए हैं क्योंकि Reach और Time Spent, दोनों में हमने पिछले कुछ समय से लगातार बढ़ोतरी हासिल की है। इससे ये भी साफ है कि लोगों का इस ब्रांड पर भरोसा बढ़ा है और हम अपनी अगुआई को बरकरार रख पाएंगे।

करीब 15 हफ्ते पहले हमारे प्रतिष्ठित इंग्लिश न्यूज़ चैनल, CNN News18 ने Times Now को मात दी। करीब 30 percent के मार्केट शेयर के साथ हम Times Group के अग्रणी चैनल Times Now के मुकाबले 60 percent अधिक दर्शकों की पसंद हैं। इससे ज्यादा हमारी बादशाहत और क्या हो सकती है, वो भी जब हफ्ते दर हफ्ते वो और मजबूत हो रही हो। यहां भी Reach और Time Spent में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, जो बढ़ते हुए Stickiness का सबूत है, दर्शकों की इस चैनल के लिए बढ़ती चाहत का संकेत भी। एक बार पहले ही मैं न्यूज़18 इंडिया की कामयाबी पर सलाम कर चुका हूं, इसलिए इस बार CNN News18 की पूरी टीम की तरफ से मैं नतमस्तक हूं, दर्शकों के सामने, जिन्होंने हमें इतना प्यार दिया है!

मैं इस शानदार कामयाबी के कारणों पर जाऊं, इससे पहले हमारे नेटवर्क के हीरे, CNBC-TV18 की चर्चा जरूरी है। जब BARC के आंकड़े लंबे अंतराल के बाद दोबारा आने शुरू हुए, हमारे इस चैनल का काउंटर ही खुला 80 percent से अधिक के मार्केट शेयर के साथ। यही नहीं, Prime Time, Market Hours के समय 90 percent से भी अधिक। पिछले 22 साल से शानदार प्रदर्शन कर रहे इस ब्रांड के बारे में और क्या कहा जाए! मैं किसी भी दूसरे ऐसे चैनल के बारे में नहीं सोच सकता, जिसने अपने genre में अपने सामने खड़े चैनलों को इस तरह से करारी शिकस्त दी हो, वो भी अपनी मर्यादा और गरिमा को खोए बगैर। मुझे ये कहने में जरा भी हिचक नहीं है कि CNBC-TV18 भारत का सर्वश्रेष्ठ न्यूज़ चैनल है, जो अपने genre को खुद ही define भी करता है।

अगर नेटवर्क18 के चैनल और डिजिटल प्लेटफार्म लगातार तरक्की कर रहे हैं, और मुकाबले में खड़े बाकी खिलाड़ी कमजोर हो रहे हैं, तो इसका कारण सिर्फ एक है- हम कोशिश कर रहे हैं, तगड़ी कोशिश कर रहे हैं, शोर-शराबे से दूर रहकर खबरों पर ध्यान देने की, trends और insights के आधार पर आगे बढ़ने की। हम झांसे में नहीं आ रहे, भविष्य की बड़ी तस्वीर निहार रहे हैं।

यही वजह है कि MoneyControl के पांच लाख से ज्यादा paid subscribers हो चुके हैं, साढ़े पांच करोड़ से ज्यादा monthly UVs हैं, और 75 लाख से ज्यादा App Installations हो चुके हैं, जिसके कारण ये paid subscribers के लिहाज से दुनिया का चौदहवां सबसे बड़ा न्यूज़ ब्रांड बन चुका है। News18.com ने भी 6 वर्ष से कम की अवधि में साढे बारह करोड़ users अपनी तरफ आकर्षित कर लिये हैं, जो हर माह देश की तमाम महत्वपूर्ण भाषाओं में प्रकाशित हमारे लेख पढ़ रहे हैं, वीडियो देख रहे हैं। खास बात ये है कि हम अब देश का अकेला ऐसा डिजिटल ब्रांड बन चुके हैं, जो सवा सौ से भी अधिक जिलों से लाइव करता है।

CNBC-TV18, FirstPost  और History हमारे प्रतिष्ठित न्यूज़ ब्रांड हैं, जो लगातार प्रगति की राह पर बने हुए हैं और हमारे न्यूज़- इंफोटेनमेंट पोर्टफोलियो को विशिष्ट बनाते हैं। Forbes India भी भारतीय कॉरपोरेट जगत की गाथा को कलमबंद करने में लगा है, वो भी उस दौर में, जब हमारा देश इस दशक के अंत तक दुनिया की तीन बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में शुमार होने की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। 

आप लोगों के साथ ये सब साझा करते समय मेरी मंशा कही भी अपनी उपलब्धियों को लेकर छाती फुलाने की नहीं है। या फिर ये भी नहीं कि सिर्फ सच को बता देना है। मैं आप सबसे इसलिए मुखातिब हूं ताकि हृदय की गहराइयों से, पूरी नम्रता के साथ आपको धन्यवाद ज्ञापित कर सकूं, आपके उस परिश्रम और स्वामित्व की भावना के लिए, जिसकी वजह से हमारे इन सभी ब्रांड्स ने बाजार में अग्रिम स्थिति बनाई है। ज्यादा खुशी की बात ये है कि ये कामयाबी उन युवाओं की वजह से है, जो बेचैन हैं, नेटवर्क18 को नई उंचाइयों पर ले जाने के लिए।

मैं उम्मीद करता हूं कि आगामी महीनों और वर्षों में, आप इस बृहद मीडिया संगठन को डिजिटल और सोशल की नई धुन पर थिरकते हुए आगे लेकर बढ़ेंगे। और जब हम तैयारी कर रहे हैं इस संगठन को भारत की सबसे बड़ी मल्टी प्लेटफार्म मीडिया कंपनी बनाने की, जिसके डीएनए में डिजिटल हो, मुझे पूरा भरोसा है कि सपनों की उड़ान भरने के लिए बेचैन युवाओ की ये टोली ही इसकी अगुआई भी करेगी, सबको साथ लेकर आगे चलेगी।

सीनियर लीडरशीप टीम और मैं भविष्य में भी दिशा दिखाने का काम करते रहेंगे, लेकिन कैप्टन की तरह नहीं, बल्कि कोच की तरह, हर चीज पर खुद ध्यान देने वाले लीडर की जगह फ्रैंड, फिलॉस्फर, मेंटर की तरह। हमारी यही सोच इस संगठन को युवा नेतृत्व तैयार करने की उर्वर जमीन बनाएगी, जहां कई युवा पिछले कुछ वर्षों में हमारे कई ब्रांड को शिखर पर लाने में कामयाब रहे हैं।

हालांकि नंबर एक होने की एक तकलीफ भी है। यहां से सिर्फ आगे जाना होता है, और आगे। नंबर एक पर बने रहने का मिजाज आपको किसी भी किस्म की लापरवाही की इजाजत नहीं देता, बल्कि ये आपमें बेचैनी और जुनून भरता है, आगे बढ़ते रहने के लिए, हमेशा शिखर पर पर टिके रहने के लिए।

मैं अपनी बात इस बार किसी कविता के साथ नहीं खत्म कर रहा हूं, बल्कि समाप्त कर रहा हूं दुनिया भर में करोड़ों युवाओं के प्रेरणास्रोत रहे स्टीव जॉब्स की इस लाइन के साथ –

“Innovation distinguishes between leaders and followers.”

यही बात हमारे ब्रांड्स के लिए भी लागू होती है और उनकी अगुआई करने वाले सभी लोगो के लिए भी।

सोचिए इस बारे में!

एक बार फिर से आप सबको बधाई!

आपका, 

राहुल


(राहुल जोशी Network18 Group के Managing Director और Editor in Chief हैं। उन्होंने यह मेल ग्रुप में कार्यरत 4500 कर्मियों को भेजा है)



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



One comment on “नेटवर्क18 ग्रुप के एमडी और एडिटर इन चीफ़ राहुल जोशी ने 4500 कर्मियों को मेल भेज कर क्या कहा, पढ़िए”

  • रीजनल चैनल की ओर भी ध्यान दीजिए श्रीमान, राजस्थान में आपके न्यूज 18 की हालत बदतर क्यों हुई है, इसकी जांच भी कराओ, साख और दर्शक दोनों ही हाथों से क्यों निकल गए ?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.