रीता जोशी केस में गिरफ्तार निर्दोष लड़ेंगे न्याय की लड़ाई

लखनऊ : रीता बहुगुणा जोशी के घर आगजनी मामले में फर्जी फंसा कर गिरफ्तार किये गए पूर्णतया निर्दोष लोग अब अपनी न्याय की लड़ाई के लिए पूरी तरह तैयार हैं. उन्होंने यह निर्णय आज आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर और सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर द्वारा उनके नीलमथा, कैंट स्थित आवास पर जा कर मुलाकात करने के बाद किया.

पीड़ित शिव कुमार, गुड्डू यादव और इन्दर सिंह यादव ने बताया कि किस तरह उन्हें घर से उठा कर फर्जी केस में जेल भेज दिया गया. पुलिस ने उनके ड्राइविंग लाइसेंस ले लिये जिससे वे आज तक महरूम हैं. इन्दर ने बताया कि गिरफ़्तारी के कारण वे सगे भाई की अंत्येष्ठी में शामिल नहीं हो सके.

नूतन इन लोगों के न्याय की लड़ाई में उनकी अधिवक्ता होंगी. जहां पुलिस के खिलाफ मुक़दमा दर्ज हो गया है वही वे इन लोगों को समुचित मुआवजा दिए जाने के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में वाद दायर करेंगी.

खबर अंग्रेजी में पढ़ें – 

Rita Joshi innocent arrested to fight their case

The innocent persons arrested and framed by Lucknow police in Rita Bahuguna Joshi case have decided to fight their case for justice till the end.

They decided it after IPS officer Amitabh Thakur and social activist  Dr Nutan Thakur today visited their residence in Neelmatha, Cantt.

The victims Shiv Kumar, Guddu Yadav and Inder Singh narrated how they were lifted from their house and framed in completely false charges. Shiv Kumar and Guddu said the police took away their driving licence, resulting in its permanent loss. Inder told he could not attend his own brother’s funeral.

Nutan shall be their advocate in their fight for justice. While FIR has already been registered against policemen,  she shall be filing their complaint for compensation before the National Human Rights Commission.

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करेंWhatsapp Group

भड़ास के माध्यम से अपने मीडिया ब्रांड को प्रमोट करने के लिए संपर्क करें- Whatsapp 7678515849



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *