दीपक चौरसिया शाहीनबाग ‘प्यास’ बुझाने गए थे!

दीपक चौरसिया का एक ट्वीट चर्चा में है. इसमें उनने शाहीनबाग अब न जाने की घोषणा की है. पर इस घोषणा से पहले उनने अपनी बात कुछ प्रतीकों-भावों के जरिए कहने की कोशिश की है. इसी कोशिश को लोगों ने अपने अपने तरीके से समझा-महसूसा है.

आप भी देखें-

और चौरसिया जी बता रहे कि वो शाहीन बाग़ प्यास बुझाने गये थे,कैसी प्यास थी भाई??

Posted by Deepankar Patel on Tuesday, February 4, 2020
  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *