पत्रकारिता के नए छात्रों को ‘सत्य के संधान’ का लेक्चर दे आए शशिशेखर!

आजकल के दौर में मुख्यधारा के संपादक, अखबार और चैनल सत्य की कतई पत्रकारिता नहीं कर रहे हैं. वे झूठ की, सत्ता की, कारपोरेट की, लालच की, अवसरवादिता की, जन विरोध की पत्रकारिता कर रहे हैं. बिड़ला खानदान के अखबार हिंदुस्तान के समूह संपादक हैं शशि शेखर. अंबानी के चैनल न्यूज18इंडिया के एंकर हैं सुमित अवस्थी.

ये वो लोग हैं जो अपने अपने मीडिया माध्यमों से सत्ता के गुणगान में लगे रहते हैं और जनता को एक दूसरे से भिड़ाने भड़काने का काम करते हैं. पर यही लोग जब नए छात्रों के सामने लेक्चर देते हैं तो ऐसे हवाई भारी भरकम शब्दों का इस्तेमाल करते हैं जिससे छात्र कनफ्यूज हो जाएं और जीवन में मीडिया फील्ड में कभी सफल न हो पाएं. सत्य के संधान का लेक्चर देने वाले शशि शेखर को बताना चाहिए था कि कैसे वे अपने समूह के कारपोरेट हितों के लिए जमीन से लेकर विज्ञापन तक के लिए मुख्यमंत्रियों के यहां लाबिंग करने के वास्ते डेरा डाले रहते हैं.

कैसे वे अपने मीडियाकर्मियों के वाजिब हक मजीठिया वेज बोर्ड को न देने के लिए दिन रात एक किए रहते हैं और जो मीडियाकर्मी इसकी मांग करता है, उसे फौरन नौकरी से हटाने या ट्रांसफर करने में देर नहीं लगाते. ऐसे लोग जब नए बच्चों को सत्या का संधान समझाते पढ़ाते हैं तो नए बच्चे भले चुपचाप इनके भाषण को झेल लेते हों लेकिन मीडिया फील्ड के समझदार लोग हंसते हैं. पढ़िए माखनलाल विवि के नोएडा परिसर से आई एक प्रेस रिलीज. इसको पढ़ने के बाद आप यहां पढ़ाने वाले मास्टरों के मेंटल लेवल और उनकी ट्रेनिंग के बारे में भी धारणा बना सकते हैं कि ये अपने छात्रों की मीडिया की असली दुनिया की हकीकत से कितना रूबरू करा पाते होंगे.
-यशवंत, एडिटर, भड़ास4मीडिया

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय नोएडा परिसर में पत्रकारिता के नवांगतुक छात्रों लिए सत्रारंभ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम तीन सत्रों में संपन्न हुआ। उद्घाटन सत्र में सरस्वती वंदना के ठीक बाद स्व.अटल बिहारी वाजपेयी जी की स्मृति में दो मिनट का मौन रखा गया। इसके बाद अतिथियों ने सत्र के विषय-लोकतंत्र के संवर्धन में पत्रकारिता की भूमिका पर छात्रों को सम्बोधित किया। इस अवसर पर श्री शशि शेखर समूह सम्पादक, हिंदुस्तान, श्री उदय सिन्हा समूह संपादक, अमर उजाला एवं श्री लालपत आहूजा, कुलाधिसचिव, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय उपस्थित रहे। विषय प्रवर्तन नोएडा परिसर प्रभारी डॉ अरुण भगत ने किया।

श्री शशि शेखर ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहा कि “आने वाले समय में मीडिया का स्वरूप काफी बदलने वाला है। ऐसे में हमें नई चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार रहना होगा। टेक्नोलॉजी की वजह से मीडिया क्षेत्र में काफी परिवर्तन होने की उम्मीद है।” उन्होंने छात्रों को सच का साथ कभी नहीं छोड़ने की हिदायत देते हुए कहा कि “खबर का अकेला प्राण तत्‍व और उसकी सांस सत्‍य है। ऐसे में जाने-अनजाने किसी भी रूप में प्रोफेशनल तरीके से सत्‍य का संधान करते रहना चाहिए। सत्‍य के प्रति आप जितनी आस्‍था बनाकर रखेंगे, उतना ही जनता आपका यकीन करेगी।”

इसके बाद अमर उजाला के समूह सम्पादक श्री उदय सिन्हा ने छात्रों को लोकतंत्र में मीडिया के महत्व के बारे में बताते हुए कहा कि एक पत्रकार देश का वॉचडॉग यानि प्रहरी होता है जिसके ऊपर देश के सभी नागरिकों की ज़िम्मेदारी है इसलिए उसे हमेशा अपना काम पूरी सतर्कता और ईमानदारी से करना चाहिए। इस समय पत्रकारिता को ऐसे पत्रकार की ज़रूरत है जो सरकार के आगे निडर और निष्पक्ष भाव से अपनी बात रखना जानता हो। सत्र की समाप्ति पर वरिष्ठ प्राध्यापक प्रो. बी.एस.निगम ने धन्यवाद ज्ञापन प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम के द्वितीय सत्र का विषय था-“समाचार चैनलों के समक्ष चुनौतियां” और विशिष्ट अतिथियों के तौर पर उपस्थित थे न्यूज़ 18 इंडिया के डिप्टी एडीटर और वरिष्ठ एंकर श्री सुमित अवस्थी और समाचार फॉर मीडिया के डिप्टी एडिटर अभिषेक मेहरोत्रा।

श्री सुमित अवस्थी ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहा कि,”फेक न्यूज़ वर्तमान समय मे मीडिया जगत की सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। पत्रकारों को बिना जांचे परखे किसी भी खबर को आगे प्रसारित नही करना चाहिए।” उन्होंने यह भी बताया कि पत्रकारिता एक 24 घंटे की जॉब है। जिसमे कई बार आपको सामंजस्य बिठाकर फैसला करना होगा कि ‘संस्थान ज्यादा महत्वपूर्ण है कि परिवार।’

श्री अभिषेक मेहरोत्रा ने छात्रों को टेलीविजन मीडिया में जॉब और उनसे जुड़ी समस्याओं के बारे में छात्रों को जानकारी दी। इस सत्र का संचालन कैम्पस के वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ. सौरभ मालवीय ने किया। तीसरे व समापन सत्र में विषय-वेब पत्रकारिता का वर्तमान और भविष्य पर अतिथियों ने छात्रों को सम्बोधित किया। इस अवसर पर श्री मुकेश शर्मा,एडिटर, बीबीसी हिंदी.कॉम और श्री आशुतोष त्रिपाठी, एसोसिएट एडिटर, इनशॉर्ट्स एप मौजूद रहे।

श्री मुकेश शर्मा ने छात्रों को खूब पढ़ने और हर विषय को गहराई से जानने की नसीहत देते हुए कहा कि- पत्रकार अच्छा तभी बनता है जब उसे हर विषय की गहन जानकारी हो और इसके लिए ज़रूरी है खूब पढ़ना। तभी आपकी खबर अन्य खबरों से अलग बनेगी। उन्होंने कहा कि आज आम चीज़े ही खबर बन गई हैं। कॉन्टेन्ट की विविधता बहुत ज़्यादा बढ़ गई है। इसलिए हर चीज़ को जानना व समझना ज़रूरी है।

उपस्थित अतिथियों का धन्यवाद करते हुए विश्वविद्यालय के कुलाधिसचिव श्री लाजपत आहूुजा ने वेब पत्रकारिता के व्यावहारिक पक्ष पर सबका ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने कहा कि अगर आपके पास अलग कॉन्टेन्ट है और अगर आप उसे सही तरीके से प्रस्तुत करना जानते हैं, तो इस विधा में आपके लिए अनेको रास्ते खुले हैं। ज़रूरत बस सबसे अलग चलने और अपनी विधा में पारंगत होने की है।

तृतीय सत्र के समापन पर बीजेएमसी, एमजे और एमआर के छात्रों द्वारा सम्पादित समाचार पत्रों का विमोचन किया गया। इस मौके पर परिसर के वरिष्ट प्राध्यापक प्रौफेसर बी.एस. निगम, परिसर प्रभारी डॉ. अरुण भगत, सह प्रभारी रजनी नागपाल, प्राध्यापक सूर्यप्रकाश, डॉ मीता उज्जैन, डॉ सौरभ मालवीय, प्राध्यापिका चित्रा अग्रवाल, विनीत उत्पल, श्वेता आर्या और अनिरुद्ध सूबेदार समेत अन्य प्राध्यापक मौजूद रहे। अंत में राष्ट्रीय गीत के साथ कार्यक्रम की समाप्ति हुई।

प्रेस रिलीज


इसे भी पढ़ें…

हिन्दुस्तान अखबार के घोटाले की पुलिस जांच शुरू, शोभना भरतिया और शशिशेखर हो सकते हैं गिरफ्तार

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *